• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Madhya Pradesh Lockdown Coronavirus Cases Update; Indore Bhopal News | MP State Wise Active COVID Cases Today; Jabalpur Gwalior

शुक्र है MP में धीमी पड़ी दूसरी लहर:रिकवरी रेट 93% तक पहुंचा; 41 दिन बाद 50 हजार से कम हुए एक्टिव केस

मध्यप्रद्रेशएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • 4 जिलों में 100 या उससे कम मरीज

मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमण अब कमजोर हो गया है। मई के महीने में नए केस में हर दिन कमी आ रही है। रविवार को 2,936 नए केस आए। एक्टिव केस का आंकड़ा 41 दिन बाद 50 हजार से नीचे आ गया है। प्रदेश में 3 अप्रैल को 49 हजार 752 एक्टिव केस थे। संक्रमण दर भी घटकर 4% से नीचे आ गई है।

प्रदेश में रिकवरी रेट 93% हो गया है। 24 मई को 7 हजार 373 मरीज ठीक हुए हैं। यह संख्या नए संक्रमितों से 4 हजार 951 ज्यादा है। इसके साथ ही कोराेना की जंग जीतने वालों का आंकड़ा 7 लाख 13 हजार से ज्यादा हो गया है। प्रदेश के 11 जिलों में संक्रमण की दर 1% के आसपास आ गई। सिर्फ 4 जिले इंदौर, भोपाल, सागर और नीमच ऐसे हैं जहां संक्रमण की दर 5% से अधिक है। विश्व स्वास्थ्य संगठन की गाइड लाइन के मुताबकि यह 3% होना चाहिए। तब यह माना जाएगा कि कोरोना संक्रमण नियंत्रण में आ गया है। मप्र में यह स्थिति बन गई है।

चार जिलों में 100 या उससे कम एक्टिव केस

प्रदेश में एक्टिव केस की संख्या 48,634 हो गई है। 10 मई को प्रदेश में 1 लाख 11 हजार 366 एक्टिव केस थे। प्रदेश के चार जिले एक्टिव केस 100 से कम हो गए हैं। अलीराजपुर में 46, बुरहानपुर में 77, झाबुआ में 76और खंडवा में 89 मरीजों का इलाज चल रहा है।

मई के 24 दिन में 1968 मौतें

प्रदेश में संक्रमण दर भले ही कम हो रही है, लेकिन कोरोना से मरने वालों की संख्या कम नहीं हो रही है। कोरोना से अब तक 7,686 मौतें हो चुकी है। इसमें 24 मई को हुई 68 मौतें भी शामिल हैं। इसमें सबसे ज्यादा 8 मौते जबलपुर में दर्ज की गई। जबकि ग्वालियर में 7, भोपाल व इंदंौर में 6-6 मौतें होना बताया गया है। बता दें कि अप्रैल में 1,720 मौतें हुई, जबकि मई माह में अब तक 1,968 मौतें कोरोना से हो चुकी है।

MP अनलॉक में क्या...फैसला 31 काे:क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप के सुझाव सरकार को भेजेंगे प्रभारी मंत्री; पहले चरण में 1 जून से ​कोचिंग और मॉल नहीं खुलेंगे

मोबाइल टेस्टिंग की व्यवस्था भी

मुख्यमंत्री ने कहा कि जहां कोरोना का एक भी पॉजीटिव केस हो वहां टेस्टिंग जारी रहे। टेस्टिंग के लिए सघन गतिविधियां संचालित की जाएं। कुछ जिलों में मोबाइल टेस्टिंग व्यवस्था की गई है। यह अच्छा प्रयोग है जिसका अनुसरण आवश्यकतानुसार अन्य जिले भी कर सकते हैं।

खबरें और भी हैं...