• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Madhya Pradesh Rainfall Alert Update | Heavy Rain Warning In MP Bhopal Malwa Nimar And Mahakaushal

MP में आसमानी बिजली गिरने से 9 की मौत:राज्य के 3 जिलों में हुए हादसे; मरने वालों में 5 महिलाएं, 2 लोग एक ही परिवार के, 5 अन्य गंभीर रूप से जख्मी

भोपाल8 महीने पहले
बिजली गिरने की ये घटनाएं तीन जिलों के अलग-अलग गांवों में हुईं। मरने वाले ज्यादातर मजदूर परिवार के थे।

मध्यप्रदेश के देवास, आगर मालवा और धार में सोमवार को अलग-अलग जगह बिजली गिरने से 9 लोगों की मौत हो गई। इनमें दो लोग एक ही परिवार के हैं। मरने वालों में 1 बच्चा और 5 महिलाएं हैं। वहीं, 5 लोग घायल हुए हैं।

जानकारी के अनुसार दोपहर करीब 3 बजे सतवास क्षेत्र में ग्राम डेरिया गुड़िया में रामस्वरूप (24), उसकी पत्नी माया (18) और गांव की ही टीना बाई (19) पिता रामदीन सोयाबीन काटने खेत में गए थे। इसी दौरान अचानक तेज बारिश शुरू हो गई। तीनों पेड़ के नीचे खड़े हो गए, तभी बिजली गिरी। तीनों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई।

वहीं, ग्राम बामनी में रेखा बाई पति हरिओम की भी बिजली गिरने से मौत हो गई। इसके अलावा खातेगांव थाना क्षेत्र में गांव खल में रेशमबाई की बिजली गिरने से मौत हुई है। तीन लोग घायल हो गए। दो घायलों को इंदौर रेफर किया गया है। इसके अलावा टोंक खुर्द में रानी (19) पिता मेहरबान निवासी टोंक खुर्द की मौत बिजली गिरने से हुई। मृत लोगों के परिजनों को कलेक्टर चंद्रमौलि शुक्ला ने 4-4 लाख रुपए आर्थिक सहायता देने के आश्वासन दिया है।

आगर मालवा में महिला और बच्चे की मौत
आगर मालवा जिले के नलखेड़ा में 3 अलग-अलग गांवों में बिजली गिरने से दो लोगों की मौत हुई। मरने वालों में 7 साल का बच्चा और महिला शामिल है। दो लोग घायल हो गए। घायलों को जिला अस्पताल रेफर किया गया है। हादसा मनासा, पिलवास और लसुलड़िया में हुआ। इधर, धार में भी बिजली गिरने से एक की मौत हो गई है।

भारी बारिश का अलर्ट
मध्यप्रदेश में मानसून अपने आखिरी दौर में है। मौसम विभाग ने अगले 24 घंटों में इंदौर समेत 7 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। इसके अलावा मालवा-निमाड़ और महाकौशल में कहीं-कहीं हल्की बारिश हो सकती है। भोपाल और ग्वालियर-चंबल संभाग में कहीं-कहीं बूंदाबांदी के आसार हैं।

मौसम वैज्ञानिक वेद प्रकाश सिंह ने बताया कि चक्रवाती तूफान गुलाब की वजह से आंध्र प्रदेश, ओडिशा और छत्तीसगढ़ के कुछ इलाकों में कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है। अगले 12 घंटों में यह पश्चिम की ओर बढ़ेगा। अभी करीब दो सप्ताह और इसी तरह का मौसम रहेगा। इस कारण 30 सितंबर तक मौसम में खास बदलाव नहीं होगा।

सिंह ने बताया कि अगले 24 घंटे में इंदौर, धार, खंडवा, खरगोन, अलीराजपुर, बुरहानपुर और बैतूल में भारी बारिश हो सकती है। साथ ही जबलपुर, इंदौर, उज्जैन, होशंगाबाद और शहडोल संभाग में कुछ जगह बादल छाए रहेंगे। इस दौरान कहीं-कहीं बिजली गिरने की संभावना भी है। इसके अलावा भोपाल और ग्वालियर संभाग में बूंदाबांदी हो सकती है।

यहां अभी भी संकट के बादल
प्रदेश में कुछ इलाके ऐसे हैं, जहां अभी भी स्थिति ठीक नहीं है। धार, खरगोन, होशंगाबाद, बालाघाट, सिवनी, जबलपुर, कटनी, पन्ना, दमोह और छतरपुर में सामान्य बारिश ही नहीं हो पाई है। यहां सामान्य से 20% से लेकर 38% तक कम बारिश हुई है। हालांकि, प्रदेश की स्थिति पहले से बेहतर है। 1 जून से अब तक करीब साढ़े 37 इंच बारिश हो चुकी है। पिछले 48 घंटों में विदिशा, दमोह और छतरपुर में बिजली गिरने से 7 लोगों और 11 जानवरों के झुलसने की जानकारी मिली है।

खबरें और भी हैं...