• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Many Villages Were Submerged By The Spate Of Parvati River Due To Heavy Rains; Situation Worsens In Ashoknagar Vidisha, Alert In Chhatarpur Tikamgarh

MP में बाढ़ का कोहराम:पार्वती में उफान से गुना में 8 गांव घिरे, 180 लोग फंसे, NDRF बुलाई गई; अशोकनगर-विदिशा में भी बिगड़े हालात, छतरपुर-टीकमगढ़ में अलर्ट

मध्यप्रदेश4 महीने पहले
विदिशा के एक गांव में बाढ़ में फंसे लोगों का रेस्क्यू करती एनडीआरएफ की टीम।

ग्वालियर-चंबल के बाद मध्यप्रदेश के दूसरे हिस्सों में भी लगातार बारिश से बाढ़ आ गई है। पार्वती नदी दोबारा उफान पर आ गई है। इससे गुना के 8 गांवों में पानी घुस गया है। सभी रास्ते बंद हो गए हैं। यहां का सोढ़ी गांव टापू बन गया है, जहां 180 लोग फंसे हुए हैं। इन्हें निकालने के लिए NDRF की टीम बुलाई गई है। 450 लोग राहत शिविरों में लाए गए हैं।

अशोकनगर और विदिशा में भी हालात बिगड़ गए हैं। गांवों से लोगों का रेस्क्यू किया जा रहा है। छतरपुर और टीकमगढ़ में सुजारा बांध पानी से भर गया है। दशान नदी में बाढ़ है। इसकी वजह से दोनों जिलों में नदी के किनारे वाले गांवों को अलर्ट जारी किया गया है।

गुना: 9 घंटे में 6 इंच से ज्यादा बारिश, नदी-नाले उफने
जिले में औसत बारिश का रिकॉर्ड टूट गया है। अब तक 1100 मिमी बारिश हो चुकी है। शुक्रवार सुबह 8 बजे से शाम पांच बजे तक 6 इंच से ज्यादा पानी गिरा है। बमोरी में सबसे ज्यादा बारिश हुई है। यहां औसत वर्षा 1006 के मुकाबले अभी तक 1592 मिमी बारिश दर्ज हुई है।

चौपेटा नदी पर बने गोपीकृष्ण सागर बांध के 3 गेट 15 मीटर खोल दिए गए हैं, जिससे पार्वती नदी उफान पर आ गई है। 8 गांवों में पानी भर गया है। इनमें हमीरपुर, पाटी, विलास, बिसनवाड़ा के अलावा 4 गांव और हैं।

शहर के बूढ़े बालाजी स्थित गौशाला में 4 फीट तक पानी भर गया है। गौशाला की दीवार तोड़कर गायों को रेस्क्यू किया गया। तेज बहाव में बह जाने से 2 गाय की मौत हो गई। शहर की दो दर्जनभर बस्तियां जलमग्न हो गई हैं। 20 से अधिक मकान क्षतिग्रस्त हो गए हैं। लोगों के घरों में 5-5 फीट तक पानी भरा है।

MP में बारिश से अभी राहत नहीं:दो दिन तक भोपाल, ग्वालियर, चंबल और सागर संभाग में बारिश होगी; सोमवार से मौसम के करवट लेने की संभावना

गुना में रपटा पर भरा पानी।
गुना में रपटा पर भरा पानी।

विदिशा: बाढ़ में फंसे सैकड़ों लोगों का रेस्क्यू
पिछले 4 दिनों से लगातार हो रही बारिश से विदिशा जिले में बाढ़ आ गई है। जिले की सभी नदियों और नालों के उफान पर आने से पुल और पुलिया के ऊपर से पानी बह रहा है। जिला मुख्यालय का सड़क संपर्क अधिकांश तहसीलों का गांव से कट गया है।

जिला बाढ़ नियंत्रण कक्ष के अनुसार कुरवाई में 4 गांव का संपर्क कट गया है। हालांकि, इन गांवों में फंसे 425 लोगों को वहां से निकाल लिया गया है। सिरोंज में 8 गांव में 250 लोग फंस गए, जहां से 124 लोगों को निकाल लिया गया है। बाकी 126 को निकाला जा रहा है। नटेरन के 1 गांव में 30 लोग फंस गए वहां रेस्क्यू चल रहा है। बासौदा के 7 गांव में 130 लोग फंस गए थे, उन्हें निकाल लिया गया है। विदिशा के 1 गांव में 40 और लटेरी के 8 गांव से 120 लोगों को रेस्क्यू किया गया है।

विदिशा के गांव में बाढ़ में फंसे लोगों को रेस्क्यू किया जा रहा है।
विदिशा के गांव में बाढ़ में फंसे लोगों को रेस्क्यू किया जा रहा है।

विदिशा जिले के शमशाबाद में बाह नदी पर बने संजय सागर बांध के 7 गेट खोल दिए गए हैं। इससे प्रभावित होने वाले निचले क्षेत्रों में अलर्ट कर दिया गया है। विदिशा-अशोकनगर मार्ग पर बाह नदी पर बने कागपुर पुल पर 5 फिट से ज्यादा ऊपर पानी बह रहा है। शमशाबाद के भन्नाखेड़ी में कच्चा मकान गिर जाने से 40 बकरियां दबकर मर गई हैं। यहां के सोमवारा में फंसे 14 लोगों को बाहर निकाला गया है।

गुना में नाले में बहा युवक:80 मीटर दूर जाकर तैराक ने बचाया; 3 घंटे में एक इंच से ज्यादा बारिश, पार्वती नदी के उफान पर आने से राजस्थान जाने वाले तीनों रास्ते बंद

सगड डेम के गेट खोलने से आई बाढ़, फंसे 47 को बचाया
विदिशा के नटेरन तहसील के खड़ेर गांव में बाढ़ में फंसे 47 लोगों को रेस्क्यू कर निकाला, जिन्हें सरकारी स्कूल में ठहराया गया है।

छतरपुर-टीकमगढ: बान सुजारा बांध के गेट खोले, दशान नदी में जलस्तर बढ़ जाने के कारण अलर्ट
छतरपुर-टीकमगढ़ जिले की सीमा पर बने बान सुजारा बांध का गेट खोल दिया गया है जिससे दशान नदी का जलस्तर बढ़ गया है। गेट शाम 4 बजे खोल दिया गया है। यहां की अन्य नदियों में भी पानी बढ़ा है। धशान नदी के किनारे बसे गांव में प्रशासन द्वारा अलर्ट जारी किया है।

राजगढ़ की गाड़ गंगा नदी में भयंकर बाढ़
राजगढ़ जिले में लगातार 4 दिन से हो रही बारिश से लोग परेशान है। लगातार हो रही बारिश की वजह से खिलचीपुर की गाड़ गंगा नदी उफान पर है। नदी पर बना छोटा पुल पानी में डूब चुका है। हालात यह है कि नदी पर बने बड़े पुल तक पानी पहुंचने लगा है। खिलचीपुर से सोमवारिया जाने वाले बड़े पूल से नदी का पानी महज 3 फीट नीचे है।

​​​आगर मालवा: कुंडालिया बांध के गेट खोले, अलर्ट जारी
आगर मालवा जिले में बारिश का दौर लगातार जारी है। गुरुवार रात से जारी बारिश के चलते नलखेड़ा में स्थित प्रसिद्ध मां बगलामुखी मंदिर के समीप बरसाती नाले के उफान पर आ जाने से मंदिर का मुख्य रास्ता बंद हो गया है। साथ ही नलखेड़ा में निचली बस्तियों में जलभराव की भी स्थति बनने लगी है।

क्षेत्र के सबसे बड़े कुंडालिया बांध के 8 गेट खोले दिए गए हैं। निचले इलाकों में अलर्ट जारी किया गया है। जिले में पिछले 24 घंटे में औसत 43.8 मिलीमीटर बरिश दर्ज की गई है, जिसमें सर्वाधिक नलखेड़ा में 80.4 मिमी दर्ज की गई है।

अशोकनगर में पानी भरने के बाद चलाया जा रहा रेस्क्यू ऑपरेशन।
अशोकनगर में पानी भरने के बाद चलाया जा रहा रेस्क्यू ऑपरेशन।

अशोकनगर: केथन नदी उफनी, सड़कों पर भरा पानी
केथन नदी उफान पर आने से बहादुरपुर सहित अकोदिया, घाटबमूरिया व अन्य गांव में पानी भर गया। बहादुरपुर की कई दुकानें खाली कराई हैं। वहीं प्रशासनिक अमला ने मौके पर पहुंचकर राहत बचाव कार्य शुरू कर दिया है। मुंगावली-बहादुरपुर मार्ग पर पानी आने के कारण मार्ग पूरी तरह से बंद हो गया। मुंगावली की ओर जाने वाला मार्ग के पुल पर लगभग 4 फीट तक पानी भर गया है।

बहादुरपुर की पास के गांव अकोदिया पानी की डूब क्षेत्र में आने के कारण वहां से गांव के लोगों को बाहर निकाला जा रहा है। साथ ही नेशनल हाईवे 346 तक पानी आने के कारण कई जगह से धसक चुका है। इसके चलते आवाजाही रोक दी गई है।

अब जिंदगी को पटरी पर लाने की चुनौती:बाढ़ से 18 लोगों की मौत, हजारों घर तबाह; अब क्वारी नदी से खतरा, भिंड-मुरैना में रेस्क्यू जारी, शिवपुरी-श्योपुर, दतिया, ग्वालियर में बचाव कार्य बंद

खबरें और भी हैं...