पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Modi Cabinet Expansion; Jyoraditya Scindia, Tikamgarh MP Virendra Khatik COVID Test Report Negative

मोदी सरकार में अब मप्र से 5 मंत्री:खटीक को सामाजिक न्याय, राज्य मंत्री प्रहलाद पटेल अब जल शक्ति और फूड प्रोसेसिंग देखेंगे, कुलस्ते के पास स्टील और ग्रामीण विकास मंत्रालय

भोपाल2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मंत्री पद की शपथ लेते वीरेंद्र कुमार और ज्योतिरादित्य सिंधिया। - Dainik Bhaskar
मंत्री पद की शपथ लेते वीरेंद्र कुमार और ज्योतिरादित्य सिंधिया।
  • प्रहलाद पटेल का विभाग बदला, फग्गन कुलस्ते को स्टील के साथ ग्रामीण विकास की भी जिम्मेदारी

मोदी कैबिनेट के विस्तार में मध्य प्रदेश से दो मंत्री बनाए गए हैं। ज्योतिरादित्य सिंधिया के अलावा डॉ. वीरेंद्र कुमार खटीक ने राष्ट्रपति भवन में पद एवं गोपनीयता की शपथ ली। इसी के साथ सिंधिया को नागरिक उड्‌डयन मंत्रालय का प्रभार देकर बड़ी जिम्मेदारी दी गई है। वहीं, खटीक को सामाजिक न्याय एंव अधिकारिता जैसे अहम मंत्रालय का प्रभार सौंपा गया है।

इसके अलावा मोदी कैबिनेट में पहले से शामिल दो मंत्रियों के विभागों में भी फेरबदल किया गया है। प्रहलाद पटेल से संस्कृति मंत्रालय वापस लेकर उन्हें जल शक्ति और फूड प्रोसेसिंग इंडस्ट्री मंत्रालय सौंपा गया है। वहीं, फग्गन सिंह कुलस्ते को स्टील मंत्रालय के साथ ग्रामीण विकास मंत्रालय की जिम्मेदारी भी दी गई है।

खास बात है कि 43 मंत्रियों की सूची में सीनियरिटी के लिहाज से तीसरे नंबर पर डॉ. वीरेंद्र कुमार खटीक ने और ज्योतिरादित्य सिंधिया ने चौथे नंबर पर शपथ ली। इन नेताओं को राष्ट्रपति भवन में शाम 6 बजे मंत्री पद की शपथ दिलाई गई। दैनिक भास्कर ने सबसे पहले यह खबर बता दी थी कि सांसद खटीक को मौका दिया जा सकता है। अब मध्यप्रदेश के कोटे से मोदी सरकार में 5 मंत्री हो जाएंगे। इनके अलावा नरेंद्र तोमर (ठाकुर), प्रहलाद पटेल (लोधी) और फग्गनसिंह कुलस्ते (ST) भी हैं।

स्कूल के वक्त पंचर बनाते थे खटीक। स्कूटर पर चलना उनकी पहचान बन गया।
स्कूल के वक्त पंचर बनाते थे खटीक। स्कूटर पर चलना उनकी पहचान बन गया।

बुंदेलखंड के बड़े नेता वीरेंद्र खटीक सागर, टीकमगढ़ से 7 बार के सांसद हैं। थावरचंद गहलोत अनुसूचित जाति वर्ग से आते हैं, जिन्होंने इस्तीफा दिया है। लिहाजा, उनकी जगह इसी वर्ग से खटीक को मौका दिया गया है। इसके अलावा खटीक टीकमगढ़ से सांसद हैं, जिसकी सीमा उत्तर प्रदेश से सटी है। आने वाले दिनों में उत्तर प्रदेश में चुनाव हैं।

वीरेंद्र ने 5वीं कक्षा से लेकर सागर यूनिवर्सिटी में पढ़ाई के दौरान साइकिल रिपेयरिंग का काम भी किया। वीरेंद्र खटीक की एक और पहचान है। वह है उनका सालों पुराना स्कूटर। वीरेंद्र खटीक जब सागर सांसद थे तो अपने पुराने स्कूटर से घूमा करते थे। उनकी यही सादगी उनकी पहचान बन गई है। एक कार्यक्रम के दौरान जब दिव्यांगों को दी जाने वाले ट्राई-साइकिलों में हवा कम दिखी तो खुद सांसद वीरेंद्र खटीक पंप से पहियों में हवा भरने लगे थे।

मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में राज्यमंत्री रहे हैं

सांसद खटीक मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में सितंबर 2017 में महिला एवं बाल विकास मंत्रालय में राज्य मंत्री बनाए गए थे। 2019 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दोबारा सरकार बनने पर खटीक को 17 जून 2019 को प्रोटेम स्पीकर बनाया गया था। उन्होंने मोदी सहित सभी सांसदों को शपथ दिलाई थी।

स्कूटर चलाने के अंदाज से चर्चा में रहते हैं खटीक

डॉ. वीरेंद्र खटीक अपनी सादगी की वजह से भी जाने जाते हैं। वे सबसे पहले साल 1996 में लोकसभा चुनाव जीतकर संसद पहुंचे थे। तब से लेकर अब तक वीरेंद्र खटीक 7 बार लोकसभा चुनाव जीत कर सांसद बन चुके हैं और यही वजह है कि उनके लम्बे चौड़े संसदीय संसदीय अनुभव को देखते हुए उन्हें प्रोटेम स्पीकर बनाया गया था।

सांसद डॉ. वीरेंद्र खटीक आखिर हैं कौन?

वीरेंद्र कुमार का जन्म 27 फरवरी 1954 में सागर में हुआ था। उनकी पत्नी कमल खटीक गृहिणी हैं। उनका एक बेटा और बेटी है. वे संघ, अभाविप, विहिप और बीजेपी में विभिन्न पदों पर रहे। उसके बाद 12वीं, 13वीं और 14वीं लोकसभा में सागर से प्रतिनिधित्व किया।

मंत्रिमंडल विस्तार से पहले सिंधिया से बात करते पीएम मोदी।
मंत्रिमंडल विस्तार से पहले सिंधिया से बात करते पीएम मोदी।

मंत्री बनते ही टूटा सांसद के घर का सन्नाटा:दो घंटे पहले तक वीरेंद्र खटीक के घर पसरा था सन्नाटा, शपथ लेते ही समर्थकों ने की आतिशबाजी, मिठाइयां बांटी

जनता दरबार से मिली प्रसिद्धि

लोकसभा सीट के नए परिसीमन के बाद टीकमगढ़ लोकसभा सीट पर भी जीत का सिलसिला जारी रहा। अब 15 वीं और 16 वीं लोकसभा में वे इसी सीट से प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। सागर के कलेक्ट्रेट परिसर में उन्होंने जनता दरबार की शुरुआत की और इसी से उन्हें प्रसिद्धि मिली।

वीरेंद्र खटीक का जीवन परिचय

  • वीरेंद्र खटीक का जन्म 27 फरवरी 1954 को हुआ।
  • डॉ. हरिसिंह गौड़ विश्‍वविद्यालय, सागर से एम.ए. (अर्थशास्‍त्र), पीएचडी (बाल श्रम) तक शिक्षा ग्रहण की।
  • खटीक ने सागर यूनिर्वसिटी से अपने राजनीतिक करियर की शुरुवात की।
  • 1977 से ही एबीवीपी से जुड़ गए थे और आपातकाल के दौरान जेल में भी रहे।
  • युवा मोर्चा से जुड़ने के बाद वह सक्रिय राजनीति में नित नए मुकाम हासिल करते रहे।
  • 1996 के लोकसभा चुनाव में सागर संसदीय सीट से सांसद चुने गए।
  • तब से लेकर अब तक वे 7 बार सांसद हैं।
खबरें और भी हैं...