आरक्षक भर्ती परीक्षा का पहला दिन:33 हजार अभ्यर्थियों में से 18 हजार ने ही दिया पेपर; ग्वालियर में हंगामा, इंदौर में परीक्षार्थी के पास मोबाइल मिला

भोपाल5 महीने पहले

मध्यप्रदेश में करीब तीन साल बाद पुलिस आरक्षक भर्ती परीक्षा शनिवार से शुरू हो गई। प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड (PEB) द्वारा आयोजित परीक्षा के पहले दिन अभ्यर्थियों को मौसम के कारण काफी परेशानी हुई। पहले दिन करीब 33 हजार अभ्यर्थियों को पेपर देना था, लेकिन सिर्फ 18 हजार ही पेपर देने पहुंचे। ग्वालियर के एक सेंटर पर सर्वर डाउन होने के कारण देरी से पेपर शुरू हो सका। इसके कारण वहां जमकर हंगामा हुआ। इंदौर में एक अभ्यर्थी के पास मोबाइल फोन मिला। बता दें, यह परीक्षा 4000 पदों के लिए हो रही है।

रीजनिंग में उलझते नजर आए

सबसे ज्यादा परेशानी बाहर के शहरों से आने वाले अभ्यर्थियों को हुई। कई अभ्यर्थी तो सेंटर पर देरी से पहुंचे। पेपर के शुरू से होने से करीब एक घंटे पहले तक अभ्यर्थियों को केंद्र प्रवेश दिया गया। रीजनिंग के सवालों में अभ्यर्थी उलझते नजर आए। सवाल और ऑप्शन में मिल नहीं खाने के कारण यह परेशानी हुई। आरक्षक भर्ती परीक्षा दो पालियों में सुबह 10 बजे और दोपहर 3 बजे से आयोजित की गई। इसके पेपर 17 फरवरी तक होंगे।

अभ्यर्थियों ने साजिश के आरोप लगाए

लंबे समय बाद प्रदेश में हो रही पुलिस कॉन्स्टेबल भर्ती एग्जाम के पहले ही दिन ग्वालियर के मालवा कॉलेज में हंगामा हो गया। सर्वर डाउन होने के कारण एक घंटे की देरी से परीक्षा शुरू हो सकी। तकनीकी खामी के चलते बीच में लैब भी बदली गई है। इस कारण परीक्षार्थियों का पेपर छूट गया। उन्होंने हंगामा किया। सूचना मिलते ही पुलिस और प्रशासन मौके पर पहुंच गए। जो पेपर 12 बजे तक छूटना था, वह दोपहर 1 बजे के बाद छूटा है। परीक्षार्थियों का आरोप है कि यह साजिशन भी हो सकता है।

दिन भर यह चला

  • पहली पाली में 16 हजार 392 छात्रों में से 8957 ने परीक्षा दी। दूसरी पानी में 16 हजार 392 में से 9264 छात्र पेपर देने आए।
  • इंदौर के इस्लामिया करिमिया कॉलेज सेंटर-1में एक अभ्यर्थी के पास मोबाइल फोन मिला। उदसके खिलाफ यूएफएम प्रकरण दर्ज किया गया।
  • जबलपुर शहर में एक ऑब्जर्वर एवं एक सुपरीटेंडेट तथा खंडवा के एक ऑब्जर्वर को समय पर नहीं पहुंचने पर नोटिस जारी किए गए।
  • अभ्यर्थियों की पहचान के लिए रजिस्ट्रेशन के समय उनके हाथ में नीले रंग का बैंड बांधा गया।

इसका पालन करें

  • केंद्र में प्रवेश करने से पहले साबुन से हाथ धोना और हैंड सैनिटाइज करना जरूरी।
  • प्रवेश के समय, एडमिट कार्ड पर स्वघोषणा और शरीर के तापमान (थर्मो गन्स) की जांच की जाएगी।
  • उम्मीदवारों को केंद्र के कर्मचारियों द्वारा प्रदान किए गए निर्देशों का कड़ाई से पालन करना आवश्यक है।
  • केंद्र के बाहर लैब नंबर की जानकारी नहीं होगी। उम्मीदवार को निर्देश के अनुसार एडमिट कार्ड में विधिवत (डिटेल्स) भरा हुआ लाना होगा।
  • उम्मीदवारों को हर समय एक-दूसरे से कम से कम 6 फीट की दूरी बनाकर रखनी होगी। किसी भी स्थिति में किसी भी स्थान पर भीड़ नहीं लगाई जा सकती है।
  • परीक्षा के दिन प्रवेश पत्र में उल्लेखित सरकार (केंद्रीय/राज्य) के covid-19 निर्देशों/सलाह का पालन अनिवार्य होगा।
  • रफ कार्य के लिए प्रत्येक अभ्यर्थी के डेस्क पर A-4 साइज के 5 पेपर/शीट रखी जाएंगी।
  • उम्मीदवार शीट की जरूर होने पर अलग से ले सकता है।
  • परीक्षा के दौरान पेन, पेंसिल और रबर के साथ मास्क लाना होगा। इसके साथ परीक्षा संबंधी दस्तावेज, एडमिट कार्ड और आईडी कार्ड साथ रखना होगा।
  • एक साधारण पारदर्शी बॉल पॉइंट पेन, अलग से फोटो, खुद की हैंड सैनिटाइजर (50 ml) और पारदर्शी पानी की बोतल रख सकते हैं।
  • परीक्षा दो पालियों में होगी। एक पारी के पूरा होने पर, अभ्यर्थियों को एक समय में एक कतार में बाहर जाने की अनुमति होगी। केंद्र प्रमुख के निर्देशों के बाद ही सीट से उठ सकते हैं।
  • अभ्यर्थी को ड्रॉप बॉक्स के पास उपलब्ध कर्मचारियों को प्रदर्शित करने के बाद एडमिट कार्ड और रफ शीट्स को सजेशन बॉक्स में छोड़ना होगा।
  • अगर कोई भी अभ्यर्थी बॉक्स में एडमिट कार्ड या रफ शीट्स छोड़ने से चूक जाता है, तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जा सकती है। वह परीक्षा से अयोग्य भी हो सकता है।