• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Reason... MP Government Takes Maximum Tax In The Country; Prices Increased 9 Times In July, Diesel In Shahdol Balaghat Also Crossed Rs 100

9 राजधानियों में सबसे महंगा पेट्रोल भोपाल में:जुलाई में 9 बार बढ़े दाम, शहडोल-बालाघाट में डीजल भी 100 रुपए के पार

मध्य प्रदेश3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

देश के 9 राज्यों की राजधानियों की तुलना में भोपाल में सबसे महंगा पेट्रोल बिक रहा है। यहां 30 जुलाई को पेट्रोल के दाम 110 रुपए 20 पैसे प्रति लीटर है। वजह है, मध्य प्रदेश में सबसे ज्यादा टैक्स (वैट व एडिशनल चार्ज) लिया जा रहा है। परिवहन शुल्क ज्यादा होने के कारण शहडोल और बालाघाट में पेट्रोल का दाम 112 रुपए प्रति लीटर से ज्यादा पहुंच गया है। दोनों जिलों में डीजल के दाम भी 100 रुपए से ज्यादा हो गए हैं।

मध्यप्रदेश में पेट्रोल पर 31.55 रुपए प्रति लीटर वैट लिया जाता है जो देश में सबसे ज्यादा है। यह जानकारी पेट्रोलियम मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने हाल ही में लोकसभा में दी है।

अगर बढ़ोतरी पर नजर डालें, तो जुलाई में पेट्रोल में 9 बार बढ़ोतरी हुई है। वहीं, डीजल के रेट में 5 बार बढ़ोतरी और एक बार कटौती हुई है। वहीं, जून में पेट्रोल-डीजल के दामों में 16 बार बढ़ोतरी हुई थी। पिछले महीनों की बढ़ोतरी से जुलाई में पेट्रोल 11.44 रुपए और डीजल 9.14 रुपए प्रति लीटर महंगा हुआ है।

मध्यप्रदेश में ही महंगा क्यों?
मध्यप्रदेश में 33% टैक्स लगाया जाता है। उसके बाद निश्चित सेस लगाया जाता है। पेट्रोल पर यह 4.75 रुपए एडिशनल डयूटी और 1% सेस लगता है। इसी तरह डीजल पर 23% टैक्स के बाद 3 रुपए प्रति लीटर एडिशनल डयूटी और 1% सेस लगाया जाता है।

7 साल में 300% तक बढ़ी एक्साइज ड्यूटी
साल 2014 से लेकर 2021 तक पेट्रोल और डीजल की एक्साइज ड्यूटी को केंद्र सरकार ने 300% तक बढ़ाया है। यह जानकारी केंद्र सरकार ने मार्च 2021 में लोकसभा में दी थी। इसके मुताबिक, 2014 में पेट्रोल पर 9.48 रुपए प्रति लीटर एक्साइज ड्यूटी लगती थी, जो अब बढ़ कर 32.90 रुपए प्रति लीटर हो गई है।

ये समझना जरूरी है.... तेल की की कीमत 4 स्तर पर तय होती हैं

  • अंतरराष्ट्रीय बाजारों में तेल के दाम, रिफाइनरी तक पहुंचने में लगा फ्रेट चार्ज (समुद्र के जरिए आने वाले सामानों पर लगने वाला कर)
  • डीलर का मुनाफा और पेट्रोल पंप तक पहुंचने का सफर
  • जब पेट्रोल पंप पर पहुंचता है, तो इस पर केंद्र सरकार की ओर से तय एक्साइज ड्यूटी जुड़ जाती है।
  • इसके साथ ही राज्य की सरकार की ओर से वसूला जाने वाला VAT (वैल्यू एडेड टैक्स) भी इसमें जुड़ता है।
  • मध्य प्रदेश में वैट के अतिरिक्त एडिशनल डयूटी व सेस भी लिया जा रहा है।
खबरें और भी हैं...