पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Recruitment Of 600 Bedhospitals Ready On 45 Acres Of Radhaswami Satsang Beas,

MP का सबसे बड़ा कोविड सेंटर, देखिए VIDEO:इंदौर के राधास्वामी सत्संग व्यास की 45 एकड़ जमीन पर 600 बेड लगाए, बड़ी स्क्रीन पर रामायण के साथ IPL भी देख सकेंगे; ट्रायल रन आज

इंदौर/हेमंत नागले2 महीने पहले

कोरोना संक्रमण के चलते मरीजों के लिए खंडवा रोड स्थित राधास्वामी सत्संग व्यास में देश का दूसरा और प्रदेश का सबसे बड़ा कोविड केयर सेंटर बनकर तैयार है। परिसर में मां अहिल्या कोविड केयर सेंटर तैयार हो गया है। गुरुवार सुबह उसका ट्रायल रन किया जाएगा। अगर इसमें कोई खामी नहीं मिलती है, तो आज शाम से आरआरटी टीम द्वारा मरीजों को भर्ती करना शुरू कर दिया जाएगा। यहां मनोरंजन के लिए लोगों के लिए रामायण, महाभारत जैसे सीरियल का प्रसारण भी एलईडी पर किया जाएगा। 10 बड़े एलईडी लगाए गए हैं।

यहां तैनात किए जाने वाले मेडिकल स्टाफ की ट्रेनिंग भी मंगलवार को पूरी हो गई। गुरुवार को रिसेप्शन से लेकर मरीजों को भर्ती करने की प्रक्रिया का परीक्षण किया जाएगा, ताकि खामी ना रहे। अन्यथा एक बार मरीजों को भर्ती करने के बाद फिर उसे दूर करना संभव नहीं होगा।

परिसर में अभी 600 बेड की क्षमता रखी गई है। इतने ही बेड की और व्यवस्था की जा रही है, जिसका काम शुरू हो गया है। शाम को संघ के पदाधिकारियों के अलावा प्रभारी मंत्री तुलसीराम सिलावट, संभागायुक्त डॉ. पवन कुमार शर्मा , कलेक्टर मनीष सिंह , निगमायुक्त श्रीमती प्रतिभा पाल ने दौरा भी किया।

वहीं, राज्य स्तरीय कोविड सलाहकार समिति के सदस्य डॉ. निशांत खरे का कहना है कि सभी तैयारियां पूरी हो चुकी हैं। सेंटर को चार ब्लॉक में बांटा गया है। यहां का सेटअप प्राधिकरण सीईओ विवेक श्रोत्रिय और उनकी टीम ने करवाया।

करीब 100 नर्स, मेडिकल स्टाफ को प्रशिक्षित भी किया गया है।शहर के चार बड़े अस्पताल बॉम्बे हास्पिटल, अपोलो, मेदांता और चोइथराम अस्पताल द्वारा इन चारों ब्लॉकों की मॉनिटरिंग की जाएगी। हर हाॅस्पिटल को एक-एक ब्लाॅक की जिम्मेदारी दी गई है। इसमें ए सिम्टोमैटिक यानी कम लक्षण वाले मरीजों को भर्ती किया जाएगा।

2 ऑक्सीजन प्लांट से 850 लीटर प्रति घंटे ऑक्सीजन

कलेक्टर मनीष सिंह ने बताया, यह सेंटर सर्वसुविधाओं से परिपूर्ण रहेगा। यहां जनभागीदारी से करीब दो करोड़ से अधिक की लागत के दो ऑक्सीजन प्लांट तैयार किए जा रहे हैं। इनकी क्षमता 850 लीटर प्रति मिनट रहेगी। उन्होंने बताया कि जिले के निजी चिकित्सालयों में डिमांड व सप्लाई के आधार पर रेमडेसिविर इंजेक्शन के उपयोग की मॉनिटरिंग की जा रही है। ​​​​​कलेक्टर द्वारा यहां मरीजों के ‍लिए सीएमएचओ को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। कोविड केयर सेंटर में स्वास्थ्य विभाग का दायित्व सीएमएचओ कार्यालय के चिकित्सा अधिकारी डॉ. अमित मालाकार एवं चिकित्सा अधिकारी डॉ. अनिल डोंगरे को सौपा गया है।

खबरें और भी हैं...