• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Said Chief Minister To Go To Every District With Helicopter And Meet People And See The Truth, Sit The Principal Secretaries In The Offices Of Oxygen Plants And Pharma Companies

कोरोना पर कमलनाथ की शिवराज काे सलाह:मुख्यमंत्री हर जिले में लोगों से मिल कर सच पता करें, प्रमुख सचिवों को ऑक्सीजन प्लांट व फार्मा कंपनियों के दफ्तरों में बैठाएं

भोपाल6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कोरोना को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को घेरा है। उन्होंने आरोप लगाया, सरकार मौतों का आंकड़े छुपा रही है। अस्पताल से जारी डेथ सर्टिफिकेट को रिकॉर्ड में लिया जा रहा है, जबकि कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा बड़ा है। जमीनी हकीकत यह है कि लोग इलाज के लिए तरस रहे हैं। ऑक्सीजन और रेमडेसिविर इंजेक्शन के लिए परेशान हो रहे हैं। मुख्यमंत्री हेलिकाॅप्टर लेकर जिलों में जाएं और लोगों से सच्चाई जानें।

कमलनाथ ने मीडिया से वर्चुअल बातचीत करते हुए कहा- जब सरकारी दफ्तरों में कोई काम नहीं हो रहा है, तो प्रमुख सचिव के अफसरों की फौज मंत्रालय में क्या कर रही है? उन्होंने मुख्यमंत्री को सलाह दी है, अफसरों को ऑक्सीजन प्लांट और फार्मा कंपनियों के हेड क्वार्टर में बैठाएं, ताकि इलाज के लिए जरूरी दवाओं का प्रबंध हो सके।

उन्होंने कहा, जिलाध्यक्षों से फीडबैक मिला है कि कोरोना गांव-गांव में फैल रहा है, लेकिन टेस्टिंग नहीं हो रही है। यदि होती भी है, तो 5-6 दिन में रिपोर्ट आ रही है। सरकार सिर्फ इंतजामों को कागजों पर तैयार कर जनता को गुमराह कर रही है।

एक माह पहले कहा था- कोविड सेंटर तैयार कर लें
कमलनाथ ने कहा कि मैंने एक माह पहले शिवराज को सलाह दी थी कि कोरोना की दूसरी लहर आने वाली है। कोविड केयर सेंटर तैयार करें। इसके लिए सरकारी भवनों का उपयोग हो सकता है, लेकिन हालत यह है कि भोपाल मेमोरियल हॉस्पिटल बंद पड़ा है। उन्होंने कहा कि समय रहते इंतजाम नहीं होने के कारण लोगों को इलाज नहीं मिल पा रहा।

सरकार ने जो मदद मांगी, हमने की
पूर्व मुख्यमंत्री ने बताया, 5-6 दिन पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मुझसे बात कर मदद मांगी थी। इसके बाद आईएएस अफसर विवेक पोरवाल का टैंकरों के लिए फोन आया था। जिस कंपनी ने सरकार को ऑक्सीजन टैंकर उपलब्ध कराने से इंकार कर दिया था। मैंने उसी कंपनी से 24 घंटे में 3 टैंकर उपलब्ध कराए थे। मैंने फार्मा कंपनियों सिपला और सनफार्मा के प्रबंधकों से बात की।

सरकार को समय रहते स्टॉक करना था
कमलनाथ ने कहा, दूसरी लहर की चेतावनी के बाद ऑक्सीजन, रेमडेसिविर सहित अन्य दवाओं का स्टॉक करना था, लेकिन सरकार चुनाव में व्यस्त थी। उन्होंने कहा कि अब प्रदेश में हाहाकार मचा है। इसके लिए कौन जिम्मेदार है? जनता सब जानती है।

खबरें और भी हैं...