पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Scooty Arrived 180 Km From Naxal Area Balaghat Reached Nagpur, Treating The Infected People In Kovid Hospital

इस डॉक्टर बेटी के जज्बे को सलाम:नक्सल प्रभावित क्षेत्र बालाघाट से 180 किलोमीटर अकेले स्कूटी चला कर नागपुर पहुंची डॉक्टर, कोविड अस्पताल में कर रही संक्रमितों का इलाज

बालाघाट2 महीने पहले
बालाघाट से नागपुर 180 किमी का सफर डॉक्टर ने स्कूटी से पूरा किया।

एक तरफ कोरोना का डर और दूसरी तरफ जंगल से घिरे रास्ते। पूरा इलाका नक्सली। लेकिन ये सब मिलकर भी बालाघाट की एक डॉक्टर बेटी के हौसले को नहीं डिगा सके। वह अकेले ही स्कूटी से नागपुर के लिए निकल पड़ी। लगातार 7 घंटे का सफर करके 180 किमी दूर अपना फर्ज अदा करने नागपुर पहुंच गई। अब वह कोविड अस्पताल में मरीजों का इलाज कर रह रही है।

प्रज्ञा घरड़े नाम की यह बेटी पेशे से डॉक्टर हैं। नागपुर के निजी अस्पताल के एक कोविड केयर सेंटर में सेवाएं भी देती हैं। डॉ. प्रज्ञा छुट्टी पर अपने घर आई थी। इस दौरान अचानक संक्रमण बढ़ने के बाद उन्हें छुट्टी के बीच ही नागपुर अपना फर्ज अदा करने लौटना था। लेकिन लॉकडाउन में महाराष्ट्र की ओर जाने वाली बसों और ट्रेनों में जगह ही नहीं मिल पाई।

लेकिन इन हालात में भी हिम्मत न हारते हुए डॉ. प्रज्ञा ने एक साहसी कदम उठाया और अकेले ही अपनी स्कूटी से नागपुर तक का सफर करना तय किया। बेटी को अकेले इतना लंबा रास्ता स्कूटी से तय करने की मंजूरी देने में परिजन हिचक रहे थे। लेकिन डॉ. प्रज्ञा की सेवा भावना और दृढ़ इच्छाशक्ति देखते हुए उन्होंने इस बात पर सहमति दे दी।

6-6 घंटे दो अस्पतालों में देती हैं सेवा

बालाघाट की इस साहसी डॉक्टर बेटी प्रज्ञा ने भास्कर से चर्चा में बताया कि वह नागपुर में प्रतिदिन 6 घंटे एक कोविड अस्पताल में सेवा देती हैं। वे आरएमओ के पद पर पदस्थ हैं। इसके अलावा प्रतिदिन शाम की पाली में भी एक अन्य अस्पताल में मरीजों का इलाज करती हैं। इसके कारण उन्हें लगभग रोज 12 घंटे से अधिक समय तक पीपीई किट पहनकर काम करना पड़ता है। प्रज्ञा ने बताया कि वह अपने घर आई थी। इस दौरान लॉकडाउन लग जाने के लिये नागपुर वापसी का साधन नहीं मिला। लेकिन जब उन्हें यह मालूम हुआ कि संक्रमण के बढ़ने से मरीजों की संख्या बढ़ रही है तो वह स्कूटी से नागपुर पहुंच गईं।

7 घंटे में तय किया नागपुर तक का सफर

डॉ. प्रज्ञा ने बताया कि उन्हें स्कूटी चलाकर बालाघाट से नागपुर पहुंचने में लगभग 180 किमी की दूरी तय करने में करीब 7 घंटे का समय लगा। उन्होंने बताया कि तेज धूप और गर्मी व साथ में अधिक सामान होने से थोड़ी असुविधा जरूर हुई। रास्ते में भी कुछ खाने पीने को नहीं मिला। लेकिन वह दोबारा अपने कर्तव्य पथ पर लौट गईं, इस बात की संतोष है।

खबरें और भी हैं...