• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Madhya Pradesh Rainfall Situation Update; Bhopal, Indore, Jabalpur Weather Latest Forecast

भोपाल में 50 साल में सबसे ज्यादा 72 इंच बारिश:रातभर गिरता रहा पानी; बुंदेलखंड-बघेलखंड और महाकौशल में आज भी झमाझम

भोपाल3 महीने पहले

मध्यप्रदेश में तीन दिन से हो रही भारी बारिश ने हालात बिगाड़ दिए हैं। भोपाल में गुरुवार रात से शुक्रवार की सुबह तक तेज बारिश होती रही। भोपाल में अभी तक 72 इंच बारिश हो चुकी है। मौसम विभाग के अनुसार पिछले 50 साल में यह सबसे अधिक है। सामान्य रूप से सितंबर तक 31 इंच बारिश होती है। इधर, उज्जैन में 24 घंटे से लगातार हो रही बारिश के कारण स्कूलों की छुट्‌टी घोषित कर दी गई। शिवपुरी में बारिश से निचले इलाकों में जलभराव हो गया।

मौसम विभाग के मुताबिक बीते 24 घंटे के दौरान इंदौर, भोपाल, रायसेन, पचमढ़ी, नर्मदापुरम और दतिया में डेढ़-डेढ़ इंच बारिश हुईl नौगांव, रतलाम, उज्जैन, नरसिंहपुर, जबलपुर और सागर में एक-एक इंच पानी गिरा हैl खरगोन, ग्वालियर, गुना, उमरिया, शिवपुरी, बैतूल, खजुराहो, धार, सीधी, रीवा, छिंदवाड़ा, खंडवा, सतना और मंडला में भी बारिश हुई।

मौसम विभाग का कहना है कि इंदौर समेत कुछ जिलों में आज दोपहर तक रिमझिम हो सकती है। बुंदेलखंड, बघेलखंड और महाकौशल के कुछ इलाकों में बारिश होने की संभावना है। उमरिया, अनूपपुर, शहडोल, डिंडोरी, रीवा, सतना, सीधी और सिंगरौली में यलो अलर्ट जारी किया गया है।

भोपाल के भदभदा-कलियासोत डैम के गेट खुले
राजधानी भोपाल में लगातार बारिश होने के बाद भदभदा और कलियासोत डैम के गेट खोलने पड़े। रात में ही भदभदा का एक और कलियासोत डैम के दो गेट खोले गए। गेट अभी भी खुले हुए हैं। इसके बाद कलियासोत नदी में पानी का बहाव बढ़ गया है। इसलिए निचले इलाकों में रहने वाले लोगों को अलर्ट किया गया है। नगर निगम की टीमें दामखेड़ा और समर्धा टोला के निचले इलाकों में नजर रख रही है।

टीकमगढ़-झांसी हाईवे पर पुलिया पर पानी होने के बाद भी बस ड्राइवर जोखिम लेकर वाहन निकालते रहे।
टीकमगढ़-झांसी हाईवे पर पुलिया पर पानी होने के बाद भी बस ड्राइवर जोखिम लेकर वाहन निकालते रहे।

बरगी बांध के गेट खोले
उज्जैन में शिप्रा नदी का जलस्तर बढ़ने के बाद रामघाट स्थित मंदिर आधे-आधे डूबे हुए हैं। नर्मदापुरम के तवा डैम में भी पानी बढ़ गया है। इसके 3 गेट खोलकर पानी छोड़ा जा रहा है। इस सीजन में तवा डैम के गेट 32 बार खोले गए हैं। जबलपुर में बरगी डैम के 11 गेट खुले तो छिंदवाड़ा में 15 गांवों का शहर से संपर्क कट गया। यहां अगले 24 घंटे में तेज बारिश होने की संभावना ने फिर से चिंता बढ़ा दी है। उज्जैन में कलेक्टर ने आज सभी स्कूलों में छुट्टी घोषित कर दी है।

दूसरे सिस्टम ने बिगाड़े हालात
सितंबर में पहला कमजोर सिस्टम 9 और 10 को बना था। इसके बाद 12 सितंबर को दूसरा सिस्टम एक्टिव हुआ। इससे 13 को तो ज्यादा बारिश नहीं हुई, लेकिन 14 और 15 सितंबर को प्रदेश के कई इलाकों में झमाझम बारिश होने से बाढ़ जैसे हालात बन गए। अकेले भोपाल में ही अब तक रिकॉर्ड 72 इंच से ज्यादा बारिश हो चुकी है। हालांकि भोपाल जिले में अभी तक 68 इंच पानी गिरा है। मध्यप्रदेश में अब तक साढ़े 43 इंच बारिश हो चुकी है। यह सामान्य से 22% ज्यादा है। प्रदेश के अधिकांश जलाशय फुल हो चुके हैं।

टीकमगढ़ में पुल पार करते समय एक युवक की बाइक बह गई। उसने बाइक बचाने का प्रयास किया तो खुद भी नाले में बह गया। यहां 24 घंटे में 7 इंच बारिश दर्ज की गई है।
टीकमगढ़ में पुल पार करते समय एक युवक की बाइक बह गई। उसने बाइक बचाने का प्रयास किया तो खुद भी नाले में बह गया। यहां 24 घंटे में 7 इंच बारिश दर्ज की गई है।

इन इलाकों में हालात बिगड़े
छिंदवाड़ा के पांढुर्णा में गुरुवार सुबह तेज बारिश के कारण पानी घरों में घुस गया। इससे राशन, खेती के लिए रखे बीज, खाद समेत अन्य सामान पानी में खराब हो गए। अशोकनगर में बीते 48 घंटों के दौरान 6 इंच से ज्यादा बारिश हो चुकी है। नालों के उफान पर आने से कुछ गांवों का संपर्क शहर से टूट गया है। ईसागढ़ के भर्रोली गांव में तालाब में कटाव होने से पानी गांवों में घुस गया। आक्रोशित ग्रामीण ईसागढ़ मार्ग पर धरने पर बैठ गए।

छिंदवाड़ा के पांढुर्णा में नाले का पानी घुसने से घरों में रखा सामान खराब हो गया।
छिंदवाड़ा के पांढुर्णा में नाले का पानी घुसने से घरों में रखा सामान खराब हो गया।

17 सितंबर से बन रहा नया सिस्टम
मध्यप्रदेश के लिए 17 सितंबर से नया सिस्टम बन रहा है। यह सितंबर का अब तक का तीसरा सिस्टम होगा। हालांकि, मौसम विभाग की मानें तो अब ज्यादा बारिश की संभावना नहीं है। कहीं-कहीं गतिविधियों के साथ तेज बारिश की संभावना बन सकती है।

1 जून से अब तक बारिश (आंकड़े इंच में)

जिलाबारिश हुईबारिश होनी थीबारिश % में
भोपाल67.7635.00185
राजगढ़60.5133.03183
छिंदवाड़ा57.3236.10159
आगर मालवा51.1832.80156
बैतूल58.5837.76155
गुना53.8234.72155
विदिशा55.7937.87147
बुरहानपुर38.5426.30147
देवास48.0732.91146
नीमच41.1428.50144
रायसेन56.7739.65143
सीहोर55.2839.21141
सिवनी51.8136.93140
शाजापुर46.1433.07140
श्योपुरकलां33.8624.84136
नर्मदापुरम62.9146.54135
हरदा52.3239.65132
खंडवा35.3128.15125
मंदसौर37.8330.63124
सागर48.0739.06123
रतलाम41.1033.54123
उज्जैन38.7432.40120
नरसिंहपुर44.8038.35117
अनूपपुर41.6935.94116
इंदौर35.5931.22114
मंडला48.8243.86111
बड़वानी26.1023.62111
बालाघाट49.9245.28110
खरगोन27.5625.55108
शिवपुरी30.0029.09103
अशोकनगर38.1938.31100
निवाड़ी28.9429.06100
भिंड21.9722.5298
शहडोल35.0036.0697
उमरिया37.0939.2195
जबलपुर39.1741.4694
पन्ना37.2440.0093
मुरैना21.7323.8291
दमोह36.2239.9691
धार25.7928.7490
छतरपुर30.9434.5390
कटनी30.4734.4988
डिंडोरी38.0343.5887
सिंगरौली26.1031.3883
सतना28.7434.6983
ग्वालियर20.7926.1879
झाबुआ25.1231.8979
टीकमगढ़26.5033.6679
अलीराजपुर22.9931.1474
रीवा24.5735.7569
सीधी25.3537.6467
दतिया18.0327.4066

भोपाल में अब तक 72 इंच पानी गिर चुका; तालाब-झील कराते ज्यादा बारिश