• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Spoke To The State Presidents Of The Fronts Wait In Bhopal, Appoint The Presidents Of The Districts In 24 Hours

BJP की बैठक में नाराज हुए प्रदेश प्रभारी:मोर्चों के प्रदेशाध्यक्षों से बोले- कार्यकर्ता लाइन लगाकर खड़े हैं, आप उन्हें काम नहीं दे पा रहे

मध्य प्रदेश2 महीने पहले

भाजपा की प्रदेश कार्यसमिति की बैठक से एक दिन पहले पार्टी के प्रदेश प्रभारी पी मुरलीधर राव ने सख्त तेवर दिखाए। प्रदेश पदाधिकारियों, मोर्चों के प्रदेश अध्यक्षों और जिलों के अध्यक्षों की गुरुवार देर शाम हुई बैठक में राव ने दो टूक कहा- प्रदेश में अब चुनावों का सीजन आने वाला है। कार्यकर्ता काम मांगने के लिए लाइन लगाकर खड़े हैं, लेकिन आप उन्हें काम नहीं दे पा रहे।

प्रदेश प्रभारी ने मोर्चों के प्रदेशाध्यक्षों से सवाल किया कि आपने सभी जिलों में अध्यक्षों की नियुक्ति कर दी है? जवाब ना में मिलने पर राव ने कहा- आपके पास कार्यसमिति की बैठक तक 24 घंटे का समय है, भोपाल में ही रुको और सभी जिलाध्यक्षों की नियुक्ति करो। जिलाध्यक्षों को भी उन्होंने चेतावनी भरे लहजे में कहा- कल (शुक्रवार) तक जिलों की कार्यसमिति की घोषणा हो जानी चाहिए। बता दें कि अभी 15 जिले ऐसे हैं, जहां कार्यसमिति नहीं बन पाई है।

बता दें कि दो दिन से बीजेपी के मोर्चों के जिला अध्यक्षों की सूची जारी हो रही है। महिला मोर्चा और अल्पसंख्यक मोर्चा ने प्रदेश के आधे जिलों में अध्यक्ष घोषित नहीं किए थे। बुधवार को देर शाम दोनों मोर्चा ने सूची जारी की थी। बैठक में प्रदेश पदाधिकारियों से जिलों के प्रवास का लेखा जोखा मांगा गया, तो वे एक दूसरे की बगलें झांकने लगे, फिर संभलते हुए जवाब दिया कि उपचुनाव में व्यस्त होने के कारण प्रवास नहीं कर पाए।

राजगढ़ में हुई पिछली प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में सभी पदाधिकारियों को कार्यक्रम बनाकर जिलों के प्रवास करने के निर्देश दिए गए थे। बैठक में राष्ट्रीय सह संगठन महामंत्री शिव प्रकाश, प्रदेश सह प्रभारी पंकजा मुंडे, प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा, प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत एवं सह संगठन महामंत्री हितानंद शर्मा उपस्थित थे। बैठक में आगामी संगठनात्मक कार्यक्रमों पर चर्चा हुई।

भाजपा का संगठन सत्ता आधारित नहीं: शिवप्रकाश
प्रदेश पदाधिकारियों, मोर्चा के प्रदेशाध्यक्ष और जिलाध्यक्षों की बैठक में पार्टी के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री शिवप्रकाश ने कहा कि भाजपा का संगठन सत्ता आधारित नहीं है, संगठन सर्वोपरि है। सत्ता नहीं रहेगी, तब भी संगठन रहेगा। संगठन को आत्मनिर्भर बनाने के लिए सहयोग निधि का टारगेट पूरा करना है। इस बार 100 करोड़ रुपए जुटाने का लक्ष्य रखा है। इस लक्ष्य को हर हाल में पूरा करना है।

विधानसभा चुनाव में टिकट, उसे ही मिलेगा जो काम करेगा
भोपाल में भाजपा प्रदेश मुख्यालय में विधायकों की मैराथन फीडबैक बैठक चली। गुरुवार को भोपाल, होशंगाबाद, उज्जैन और इंदौर संभाग के विधायकों को बुलाया गया था। बैठक में विधायकों से फीडबैक लेने के साथ ही संगठन के आने वाले कार्यक्रमों की रूपरेखा तय की गई। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक विधायकों आगाह किया गया कि कि 2022 में उनके परफॉर्मेंस देखा जाएगा। इसके आधार पर ही उन्हें 2023 के विधानसभा चुनाव में टिकट मिलेगा।

खबरें और भी हैं...