• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Starting Package From 4 Lakhs To 14 Lakhs; Get The Best Jobs In Top Companies From Government Through Research

फूड टेक्नोलॉजी करियर में कई ऑप्शन:शुरुआती पैकेज 4 लाख से 14 लाख तक; रिसर्च से टॉप कंपनियों में पाएं बेहतरीन जॉब

मध्यप्रदेश4 महीने पहले

वर्तमान में फूड इंडस्ट्रीज सबसे ज्यादा रफ्तार से बनी है। खाने के नए-नए प्रयोग किए जा रहे हैं। लोगों के स्वाद और सेहत से भरपूर खाने पर जोर दिया जा रहा है। इसके साथ खाने को ज्यादा समय तक संरक्षित रखने पर काम किया जा रहा है। इससे फूड टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में करियर की संभावनाएं सबसे ज्यादा बढ़ गई हैं। आइए जानते हैं एक्सपर्ट आकाश इंट्‌टीयूट भोपाल के असिस्टेंट डायरेक्टर रणधीर सिंह से...

क्‍या है फूड टेक्नोलॉजी

फूड टेक्नोलॉजी में फूड प्रोसेसिंग में रॉ इंग्रेडिएंट्स को खाने योग्य फॉर्म्स में बदलने के लिए रिसर्च से लेकर सभी तरह के वर्क होते हैं। फूड टेक्नोलॉजी में 4 साल का बीई व बीटेक कोर्स करवाया जाता है। फूड को कई तरह के केमिकल प्रोसेस कर फूड प्रोडक्ट्स को मानव उपयोग और ज्यादा समय तक उपयोग किए जाने योग्य बनाया जाता है।

कोर्स के लिए योग्‍यता

इसके लिए भौतिकी, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान, गणित या होम साइंस में 12वीं पास होना अनिवार्य है। फूड साइंस, केमिस्ट्री या माइक्रोबायोलॉजी में बैचलर डिग्री कर सकते हैं। यह कोर्स चार साल का होता है। बैचलर डिग्री के बाद फूड केमिस्ट्री, मैन्युफैक्चरिंग प्रोसेस और अन्य क्षेत्रों में एडवांस डिग्री होती है। इसके साथ ही डिप्लोमा डायटेटिक्स एंड न्यूट्रिशन और फूड साइंस एंड पब्लिक हेल्थ न्यूट्रिशन में भी कर सकते हैं।

यह होना जरूरी

  • फूड टेक्नोलॉजी में करियर बनाने के लिए फूड साइंस की अच्छी समझ होना जरूरी है।
  • इसमें अध्ययन यानी रिसर्च सबसे अहम होता है। ऐसे में नई तकनीक की जानकारी और उसे जल्द समझने की समझ का होना जरूरी है।
  • खाने के अपडेट से लेकर लोगों की फूड से जुड़ी रुचियों की अच्छी जानकारी होना जरूरी है।
  • फूड के मार्केट और बाजार के ट्रेंड को भी समझना होगा।

जॉब प्रोफाइल

फूड टेक्नोलॉजी सेक्टर में लोगों को रिसर्च से लेकर फील्ड तक के जॉब मिलते हैं। इसमें फूड की गुणवत्ता, स्वाद और रंग-रूप का ख्याल रखना होता है। करियर बनाने के ऑप्शन के रूप में फूड टेक्नोलॉजिस्ट कच्चे और बने हुए माल की गुणवत्ता, स्टोरेज और हाइजीन तक पर काम करता है। ऐसे में उसका प्रोडक्ट किस तरह का और कैसा होगा यह वह ही तय करता है। इससे फूड प्रोडक्शन मैनेजर, क्वालिटी मैनेजर, प्रोसेस डेवलपमेंट साइंटिस्ट, फूड टेक्नोलॉजिस्ट, फूड परचेजिंग मैनेजर, फूड रिसर्चर साइंटिस्ट, लेबोरेटरी टेक्नीशियन, रेगुलेटरी अफेयर अफसर समेत अन्य तरह के जॉब प्रोफाइल होते हैं।

इस कारण मांग बढ़ रही

दुनिया भर में फूड की रिसर्च पर काफी काम हो रहा है। इसकी क्वालिटी से लेकर स्वाद पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। नए-नए रास्ते निकाले जा रहे हैं, ताकि बाजार में बिकने वाला हर फूड पोषक तत्वों से भरपूर हो। इस कारण सरकारी एनजीओ से लेकर कई प्राइवेट एनजीओ में इसकी फील्ड में अपार संभावनाएं हो गई हैं। फूड टेक्नोलॉजी में बीएससी ऑनर्स, एमटेक फूड टेक्नोलॉजी, बीटेक फूड टेक्नोलॉजी, पीजी डिप्लोमा इन फूड साइंस एंड टेक्नोलॉजी और एग्री बिजनेस मैनेजमेंट में एमबीए कर सकते हैं।

इन फील्ड में मौके

फूड टेक्नोलॉजी में कोर्स करने के बाद जॉब की कई फील्ड ओपर हो जाती हैं। इसमें रिटेल कंपनी, फूड प्रोसेसिंग यूनिट, होटल्स एग्री प्रोडक्ट बनाने वाली कंपनियों में मौके हैं। कई प्रयोगशालाओं से लेकर खाने वाली चीजों से लेकर रिसर्च और उन्हें संरक्षित कंपनियों में जॉब के कई ऑफर हैं। खुद का स्टार्टअप करके भी फूड टेक्नोलॉजी के बिजनेस में आकर अच्छा पैसा कमा सकते है।

कोर्स करने के प्रमुख संस्थान

  • मुंबई यूनिवर्सिटी, मुंबई
  • दिल्ली यूनिवर्सिटी, दिल्ली
  • कानपुर यूनिवर्सिटी, कानपुर
  • इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी, दिल्ली
  • बुंदेलखंड यूनिवर्सिटी, झांसी
  • गुरू नानक देव यूनिवर्सिटी, अमृतसर
  • सेंट्रल फूड टेक्नोलॉजी रिसर्च इंस्टीट्यूट, मैसूर
  • बिरला इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी
  • कोलकाता विश्वविद्यालय, कोलकाता

भास्कर एक्सपर्ट सीरीज में अगला वीडियो एंथ्रोपोलॉजी विषय पर होगा। अगर आपका कोई सवाल हो, तो इस नंबर-9826857220 पर दोपहर 12 बजे तक वाट्सएप कर सकते हैं।

ये भी पढ़िए:-

फॉरेंसिक साइंस से इंटेलिजेंस तक में जाने का मौका:सरकारी, प्राइवेट एजेंसी और लैबोरेटरी में अच्छे करियर ऑप्शंस; टॉप इंस्टीट्यूट में MP की हरिसिंह गौर विवि शामिल

बायोकेमेस्ट्री से करियर को कीजिए ब्राइट, जानिए एक्सपर्ट से:मेडिसिन से लेकर एग्रिकल्चर, फारेंसिक साइंस और पर्यावरण तक में फील्ड खुल जाती है

IOQ में सक्सेस का मंत्र:इंडियन ओलंपियाड क्वालीफाइ करने के लिए अलग तरह से सोचना होगा; रटने की जगह पिछले पेपर हल करें

IOQ दिलाता है इंटरनेशनल पहचान:इंडियन ओलंपियाड क्वालीफाइ करने वालों को अच्छे कॉलेज-जॉब के अवसर ज्यादा; कॉम्पिटिटिव एग्जाम का एक्सपोजर भी

मैथ्स-साइंस लेकर बने वैज्ञानिक, पैसा भी मिलेगा:11वीं, 12वीं और B.SC फर्स्ट ईयर के स्टूडेंट्स को भी मौका; फॉर्म भरने के लिए 10वीं में 75% होना जरूरी

IIT की तैयारी खुले दिमाग से करें:रटने से काम नहीं चलेगा; मैथ्स, केमिस्ट्री, फिजिक्स को जीना होगा, कॉन्सेप्ट क्लियर होने पर सफलता

JEE मेन में शॉर्टकट नहीं चलता:मैथ्स की चार स्टेप में प्लानिंग करें; कठिन सवाल में न उलझें, NTA abbhyas QUSEYION से तैयारी करें

एक्सपर्ट से जानिए कैसे पाएं NEET में सक्सेस:बायो में फुल मार्क्स लाने का फॉर्मूला; एनसीईआरटी में बोल्ड और हाई लाइट वर्ड से ही बनते हैं अधिकांश प्रश्न

कॉम्पिटिटिव एग्जाम के लिए 4 बातें जरूरी:एग्जाम और सब्जेक्ट क्या है, किस तरह के सवाल आते हैं; पहले से टारगेट तय करना जरूरी

एग्जाम के पहले 3 बातों का ध्यान रखें:तनाव के साथ ही 10 से 12 मिनट खराब होने से बचते हैं; रिजल्ट भी 15% से 20% बेहतर होगा

NEET में फिजिक्स में अच्छे स्कोर का मंत्र:पेपर में 67% सरल सवालों पर फोकस कर 100 मार्क्स हासिल कर सकते हैं; इतना ही करना काफी