पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • The Media Was Showing For Several Days That The Second Wave Is Dangerous, Even Then The Government Did Not Wake Up, Exporting Oxygen And Injection First.

कोरोना से मौतों पर कमलनाथ ने सरकार को घेरा:बोले- 3 महीने पहले से देश विदेश का मीडिया कह रही थी कि दूसरी लहर बड़ी खतरनाक होगी, लेकिन सरकार ने इस ओर ध्यान नहीं दिया

इंदौर5 महीने पहले
एयरपोर्ट पर पहुंचे कमलनाथ

देश और प्रदेश में बढ़ते कोरोना के मामलों पर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भाजपा सरकार को घेरा। उन्होंने कहा, 3 महीने पहले से देश विदेश का मीडिया लगातार इस बात से अवगत करा रहा था कि दूसरी लहर बड़ी खतरनाक होगी, लेकिन सरकार ने इस ओर ध्यान नहीं दिया। मार्च तक भारत से ऑक्सीजन को विदेश भेजा जा रहा था। 340% ऑक्सीजन बाहर सप्लाई किए गए। यह इंटरनेट पर आंकड़े मौजूद हैं।

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ बुधवार को इंदौर आए थे। वे सुबह 11.45 बजे छिंदवाड़ा से विशेष विमान से इंदौर पहुंचे,जिसके बाद वे यहाँ से वे सड़क मार्ग द्वारा झाबुआ रवाना हुए। वहां पर वे कांग्रेस विधायक कलावती भूरिया के शोक कार्यक्रम में शामिल हुए।

कमलनाथ ने सरकार पर हमला करते हुए यह भी कहा कि मौत के आंकड़े सरकार छिपा रही है। प्रदेश में ना तो कोरोना की जांच हो रही है और ना ही वैक्सीन लगाई जा रही है।,प्रदेश की स्वास्थ्य व्यवस्था बुरी तरह से बिगड़ चुकी है। यहां लोग अस्पताल में इलाज के लिए लाइन में लगे हैं तो कहीं ऑक्सीजन और रेमेडेसिविर इंजेक्शन के लिए। लगातार मौतें हो रही हैं। इंदौर में लगातार मौत के आंकड़े को सरकार छुपा रही है और दबाने और छुपाने की राजनीति चल रही है।ये प्रदेश सरकार भरोसे नहीं बल्कि भगवान भरोसे चल रहा है।

इंदौर एयरपोर्ट पर ही कमलनाथ कांग्रेस नेताओं से वर्तमान हालात पर चर्चा। पत्रकारों के पूछे गए सवाल पर कमलनाथ ने कहा कि यह पूछने वाली बात नहीं है कि मौतों का जिम्मेदार कौन ह। केंद्र और राज्य में भाजपा की सरकार है तो जिम्मेदार कौन होगा। क्या जनता जिम्मेदार हैं। सरकार ने लाशों पर राजनीति की है, उन्हें जनता की चिंता नहीं है।

दमोह जीत का श्रेय जनता को

दमोह की जीत के ऊपर कमलनाथ ने कहा कि इस जीत का श्रेय दमोह की जनता को जाता है। दमोह की जनता ने सिर्फ सच्चाई का साथ दिया। पश्चिम बंगाल मैं ममता बनर्जी की जीत को लेकर भी कमलनाथ ने कहा था कि उस दिन पहले मेरी उनकी उन से चर्चा हुई थी। वह मेरी यूथ कांग्रेस के समय से साथी है मैंने उन्हें मध्यप्रदेश आने के लिए भी आमंत्रित किया है। ममता बनर्जी को पूरी केंद्र सरकार से लड़ना पड़ा।

वहां हिंसा होना गलत बात है
ममता ने अकेले ही सभी मंत्री और विधायकों से लड़ाई कर उन्हें बंगाल से लात मारकर भगाया है। पश्चिम बंगाल में हो रही हिंसा को लेकर भी कमलनाथ ने बात की और हिंसा होना गलत बात है, यह भी चर्चा उन्होंने ममता से की है। पश्चिम बंगाल का चुनाव ऐतिहासिक चुनाव रहा और वह तीसरी बार बंगाल की मुख्यमंत्री बनी है। क्या आने वाले समय में ममता विपक्ष में बैठकर केंद्र में राजनीति करेगी की सवाल पर कमलनाथ का कहना था कि यह यूपीए तय करेगा।