पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Tiger Panna Has Been Adopted From Van Vihar, 73 People Have Adopted Wild Animals Till Now.

भोपाल:वन विहार से बाघ पन्ना को लिया गया गोद, अब तक 73 वन्य प्राणियों को अपनाया लोगों नेवन्य प्राणियों को गोद लेने से इनकम टैक्स में मिलती है छूट

भोपाल(वंदना श्रोती)एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • वन विहार में इस साल केवल एक बाघ को गोद लिया गया है। यह बाघ पन्ना है। इसे एसबीआई बैंक ने गोद लिया है

वन विहार में इस साल केवल एक बाघ को गोद लिया गया है। यह बाघ पन्ना है। इसे एसबीआई बैंक ने गोद लिया है। इसके लिए बैंक ने 2 लाख रुपए का चेक वन विहार प्रबंधन को दिया है।  यह तीसरा मौका है जब पन्ना को गोद लिया गया है। इसके पहले एसबीआई के अलावा देना बैंक ने इसे गोद लिया था। कोरोना संक्रमण और लॉक डाउन के चलते पहली बार ऐसा हुआ है कि वन विहार से केवल एक ही वन्यप्राणी गोद लिया गया। इसके इसके पहले आमजन भी अपनों के बर्थडे और मैरिज एनिवर्सरी के मौके पर लोग अजगर, भालू सहित अन्य वन्य प्राणी गोद लेते थे। बाघ के बाद सबसे ज्यादा लिया जाने वाला वन्य प्राणी अजगर है। अब तक 24 बार लोग मेल और फीमेल अजगर को गोद ले चुके हैं। वहीं पहले नंबर पर बाघ है इसे 29 बार गोद लिया गया है।

वन विहार के डिप्टी डायरेक्टर एके जैन ने बताया कि तीन साल बाद किसी संस्था ने टाइगर को गोद लिया है। इसके पहले व्यक्तिगत तौर पर 2019 में दो बार अजगर और 2018 मेें तीन बार व्यक्तिगत तौर पर अजगर ही गोद लिया गया।  इसके तहत अब तक 73 वन्य प्राणी गोद दिए जा चुके हैं। जैन ने बताया कि वन्य प्राणियों के संरक्षण के लिए वर्ष 2009 से उन्हें गोद देने की योजना शुरू हुई थी। हर साल तीन से चार वन्य प्राणी गोद जाते हैं। सबसे अधिक वन्य प्राणी 2016 में गोद लिए गए थे। इस साल 7 वन्य प्राणी गोद  दिए गए थे। उसके बाद तीन या चार ही वन्य प्राणी गोद लिए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि गोद लेने पर संस्था व्यक्ति से जो राशि मिलती है, उसे वन्य प्राणियों के रखरखाव पर खर्च किया जाता है। वन्य प्राणियों को गोद देने से अभी तक वन विहार को 5714480 रुपए की राशि मिल चुकी है।

वन्य जीवों को गोद लेने की प्रक्रिया
वन्य प्राणी को गोद लेने के लिए वन विहार में एक सादे कागज पर आवेदन करना होता है। इसमें गोद लिए जाने वाले वन्य जीव की इच्छा बतानी होगी। इसके बाद इस आवेदन के बाद उस वन्य जीव पर हाेने वाले खर्च का ब्योरा आवेदनकर्ता को बता देते है। साथ ही गोद दिए जाने की गाइड लाइन । गोद लेने वाले व्यक्ति को वन्य जीव पर होने वाला सालाना खर्च एडवांस में जमा करवाना होता है, इसके बाद सर्टिफिकेट दिया जाता है।

इनकम टैक्स में इस तरह दी जाती है छूट
वन्य प्राणी को गोद लेने या टाइगर रिजर्व क्षेत्र में कोई भी वस्तु दान करने पर इनकम टैक्स की दान धारा 80 जी के तहत छूट मिलती है।  किसी भी ट्रस्ट, चैरिटेबल संस्थान या स्‍वीकृत शिक्षा संस्थान को दिया गया दान टैक्‍स छूट के दायरे में आता है। यह छूट दान की गई रकम के 50 फीसदी या 100 फीसदी तक हो सकती है।

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज पिछली कुछ कमियों से सीख लेकर अपनी दिनचर्या में और बेहतर सुधार लाने की कोशिश करेंगे। जिसमें आप सफल भी होंगे। और इस तरह की कोशिश से लोगों के साथ संबंधों में आश्चर्यजनक सुधार आएगा। नेगेटिव-...

और पढ़ें