• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Uncle And Nephew Drowned While Taking Bath In The Ganges River, Body Brought From Shringi Rampur Of Farrukhabad, Mourning Mourning

भिंड में एक घर से उठी दो अर्थी:गंगा नदी में नहाते समय डूब गए थे चाचा-भतीजे; फर्रुखाबाद के श्रृंगी रामपुर से लाया गया शव, गांव में पसरा मातम

भिंड8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चाचा भतीजा कांवड़ लेकर जल भरने गए थे। - Dainik Bhaskar
चाचा भतीजा कांवड़ लेकर जल भरने गए थे।

शहर के हरवंश की खोड़ इलाके से कांवर भरने गए गए चाचा भतीजे की उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद जिले के श्रृंगी रामपुर में गंगा नदी में डूबने से मौत हो गई थी। मृतक के शवों को बुधवार की सुबह लाया गया। मृतक चाचा भतीजे का शव देखकर पूरे गांव में मातम पसरा हुआ है। एक ही परिवार से दो अर्थी उठती देख हर किसी की आंखों से आंसू छलक उठे।

वार्ड क्रमांक के 37 के हरवंश की खोड़ से सोमवार की शाम गांव से स्वयं के वाहन से लगभग दो दर्जन युवाओं की टोली हर साल की तरह इस बार भी महाशिवरात्रि पर्व पर कांवड़ लेकर गंगाजल भरने के लिए उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद जिले के श्रृंगी रामपुर गए थे। बीते दो दो दर्जन की टोली में कावड़ भरने गए युवाओं के साथ चाचा 25 व भतीजा 17 वर्ष की नदी में डूबने से मौत हो गई। मृतकों के रिश्तेदार राजबीर बघेल ने बताया इन युवा की टीम में जनक सिंह पुत्र कल्याण सिंह बघेल एवं उसका भतीजा अजय पुत्र उत्तम सिंह बघेल भी गया था। यह चाचा-भतीजे गंगा नदी में नहाने के लिए उतरे और दोनों गहराई में समा गए।

इसकी सूचना टोली में शामिल युवकों ने गांववालों को दी। इसके बाद यह खबर हरवंश की खोड़ में परिजनों को दी गई। मंगलवार को मृतक के परिजन श्रृंगी रामपुर पहुंचे। मृतकों का पीएम कराकर बुधवार की सुबह गांव लाया गया। शव को देखकर पूरे गांव में मातम छा गया है। इस दुखद घटना से मृतकों के परिजनों का रो रो कर बुरा हाल है। वही गांव के लोगों उनको ढांढस बंधा रहे हैं।

पहली बार गंगाजल लेने गया था भतीजा अजय
गांव वासियों के मुताबिक जनक सिंह अपने चार भाइयों में सबसे छोटा था। वही अजय सिंह जनक सिंह के भाई उत्तम सिंह का बेटा था। वह पहली बार चाचा के साथ गंगाजल लेने साथ में गया था। घर से गंगाजल लेने जाते समय सभी से आशीर्वाद लिया था। परिजनों से सुखद सफर की कामना के साथ विदाई थी, लेकिन किसी को क्या पता था कि यह सफर आखिरी सफर होगा। अब चाचा और भतीजे कभी वापस नहीं लौटेंगे। ये सोच कर परिवार की आंखों से आंसू थम नहीं रहे हैं।

खबरें और भी हैं...