• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Wearing A Life Jacket, Crossed The Sweltering Sindh And Reached Kotra Village; If Trapped In The Middle Of The Water, Rescue Had To Be Done With The Help Of Helicopter

बाढ़ में घिरे MP के गृह मंत्री का VIDEO:9 के फंसे होने की सूचना पर नाव से रवाना हुए थे गृहमंत्री, बिजली के तार में उलझी और कांटे से पंचर हुई नाव के ऊपर गिरा पेड़, एयरफोर्स ने निकाला

मध्य प्रदेशएक वर्ष पहले
बाढ़ में फंसे गृहमंत्री को हेलिकॉप्टर की सहायता से सुरक्षित निकाला गया।

मध्यप्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा बुधवार को दतिया के बाढ़ प्रभावित गांवों में रेस्क्यू ऑपरेशन का जायजा लेने पहुंचे थे, लेकिन वे खुद फंस गए। बाद में एयरफोर्स की टीम ने उन्हें एयरलिफ्ट कर बाहर निकाला।

नरोत्तम मिश्रा दतिया में NDRF की मोटर बोट में लाइफ जैकेट पहन कर बाढ़ प्रभावित कोटरा गांव पहुंचे थे। यहां उन्होंने एक घर में कुछ लोगों को फंसे होने की सूचना मिली तो खुद ही रेस्क्यू के लिए रवाना हो गए। SDRF ने यहां से सभी को सुरक्षित निकाल लिया, लेकिन गृहमंत्री फंस गए। बाद में उन्हें एयरफोर्स ने निकाला।

गृहमंत्री की आपबीती

जिले के कोटरा गांव में एक मकान की छत पर नौ लोगों (तीन बेटियां, माता, पिता, दादा और तीन अन्य लोग) के फंसे होने की सूचना मुझे मेरे कार्यकर्ताओं ने दी। इसके बाद मैंने थोड़ी देर कलेक्टर संजय कुमार और एसपी अमन सिंह राठौड़ से चर्चा की। कोटरा में फंसे लोगाें को सेना के हेलीकॉप्टर से निकालने के संबंध में चर्चा की। पता लगा कि हेलीकॉप्टर को आने में थोड़ा वक्त लग रहा था तो मैंने पास में खड़ी नाव देखी। उसी नाव में अपने गनमैन के साथ बैठकर कोटरा गांव की ओर रवाना हो गया। नाव कुछ दूर ही चली थी कि नाव में बिजली का तार उलझ गया। इससे नाव अनियंत्रित हो गई। एक तरफ उन नौ लोगों की चिंता सता रही थी, वहीं दूसरी तरफ गांव तक पहुंचने में आ रही अड़चन से कुछ विचलित जरूर हुए लेकिन हिम्मत नहीं हारी। जैसे तैसे नाव संभली तो आगे बढ़ी लेकिन कुछ दूर चलकर नाव कांटे से पंचर हो गई। नाव को किनारे की तरफ ले जा रहे थे कि तभी एक पेड़ उस पर गिर पड़ा। गनीमत रही कि पेड़ गिरने से कोई भी गंभीर रूप से जख्मी नहीं हुआ। हालांकि मेरे और गनमैन के हाथ में जरूर थोड़ी चोट आई। लेकिन उन नौ लोगों को बचाने जाने के जुूनून के आगे यह दर्द कुछ भी नहीं था। नाव फंस चुकी थी और आगे जाना संभव नहीं था इसलिए हम लोगों ने पैदल चलने की हिम्मत जुटाई। तीन से चार फीट पानी के बीच पैदल चले। काफी दूर चलने पर गांव दिखा। वहां एक छत पर कुछ लाेग रो रहे थे। उनके रोने की आवाज सुनकर उन तक पहुंचे। हम लोगों ने सबसे पहले उन लोगों को धैर्य रखने के लिए कहा। साथ ही कहा कि आप लोगों को सुरक्षित लेकर ही जाएंगे। थोड़े इंतजार के बाद सेना का हेलीकॉप्टर आ गया। नौ लोगों को हेलीकॉप्टर से सुरक्षित स्थान पर भेजा गया। उनका जरूरी सामान भी उनके साथ भेजा गया। इसके बाद दूसरे चक्वर में खुद हेलीकॉप्टर से लौटे। इसके बाद बड़ौनकला में फंसे लोगों की सूचना आई तो वहां पहुंच गए। मेरे लिए सबसे पहले अपने विस क्षेत्र की जनता की जान बचाना जरूरी था।
-जैसा कि गृहमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने दैनिक भास्कर को बताया।

गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा बोट से कोटरा गांव पहुंचे थे।
गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा बोट से कोटरा गांव पहुंचे थे।

गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा दतिया और डबरा में बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई और बोट के जरिए दौरा कर रहे थे। जहां उन्होंने दतिया की नदियों में बढ़ रहे जलस्तर का जायजा भी लिया है। इस दौरान बाढ़ प्रभावित लोगों से मुलाकात कर उनके भोजन-आवास की समुचित व्यवस्था को लेकर जरूरी दिशा-निर्देश दिए।

उन्होंने कहा कि सिंध नदी में बाढ़ के चलते नदी के किनारे स्थित गांव बुरी तरह प्रभावित है। सेना और वायुसेना बाढ़ प्रभावित इलाकों में फंसे लोगों का रेस्क्यू कर उन्हें सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा रही है।

सिंध नदी का पानी किनारे पर बसे गांवों में घुस गया है। नदी का जलस्तर बढ़ने से इंदरगढ़ क्षेत्र के रूर और कुलैथ गांवों के बीच संपर्क टूट गया है। कई अन्य गांव भी एक-दूसरे से कट गए हैं। मंगलवार को लमकना टापू क्षेत्र में डारों ओर पानी बढ़ने से कई लोग इसमें फंस गए। महुअर नदी में उफान से पानी तेजी से बढ़ा और लोग टापू पर घिर गए। बड़ोनी पुलिस ने रेस्क्यू ऑपरेशन चलाकर उन्हें सुरक्षित निकाला।

रेस्क्यू किए जाने के बाद गृहमंत्री तबाही के मंजर को देखते रहे।
रेस्क्यू किए जाने के बाद गृहमंत्री तबाही के मंजर को देखते रहे।

शिवपुरी डैम से पानी छोड़ने पर उफनाई सिंध नदी
शिवपुरी डैम से छोड़े गए पानी की वजह से दतिया में सिंध नदी भी उफान पर है। इसी सिंध नदी पर रतनगढ़ माता मंदिर के नीचे पुल बना हुआ था। नदी में पानी का बहाव इतना तेज था कि पुल इसका दबाव सहन नहीं कर सका और तिनके की तरह पुल गया। इस पुल के ढहने की तस्वीर वहां मौजूद कुछ लोगों ने अपने मोबाइल में भी कैद कर ली।

खबरें और भी हैं...