पुस्तके बच्चों को वितरण नहीं:शाला की पुस्तकें बेचने ले जा रहा था प्रधानाध्यापक, लोगों ने पकड़ा

पृथ्वीपुर10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

विकासखंड अंतर्गत आने वाली ग्राम पंचायत ढिल्ला के शासकीय माध्यमिक शाला के प्रधानाध्यापक के द्वारा शासकीय पुस्तकों को टैक्सी में भरकर बेचने ले जाया जा रहा था। लेकिन ग्रामीणों ने वाहन को पकड़ लिया और प्रशासनिक अधिकारियों के हवाले करके पुस्तकों को जब्त कराया है।

माध्यमिक शाला ढिल्ला में शासन द्वारा वितरण के लिए किताबें भेजी गई थीं। जिनका माध्यमिक शाला ढिल्ला के प्रधानाध्यापक केपी अहिरवार के द्वारा छात्रों को वितरण नहीं किया गया। प्रधानाध्यापक द्वारा यह कह दिया जाता था कि अभी किताबें शासन से उपलब्ध नहीं हुई हैं।

शनिवार को जब पुस्तकों काे टैक्सी में ले जाकर बाजार में रद्दी के भाव विक्रय करने ले जा रहे थे तो ग्रामीणों ने इसका विरोध किया। टैक्सी चालक ने वाहन ले जाने की कोशिश की जिसे मडवा ग्राम में पकड़ लिया। पुस्तक बेचने की सूचना प्रशासनिक अधिकारियों को दी।

विकासखंड शिक्षा अधिकारी छक्कीलाल बंशकार, नायब तहसीलदार सुधीर शुक्ला,बीआरसीसी अनिल तिवारी, जन शिक्षक सतीश पटैरिया,अरविन्द प्रजापति एवं संकुल प्रभारी राजेन्द्र मिश्रा मौके पर पहुंचे। टैक्सी में 6वीं, 7वीं, 8वीं कक्षा की पुस्तकें थी।

किताबें निकलवाकर मौके पर पंचनामा बनाया गया और पुस्तकों को जब्त किया।
ग्राम के कमलेश झा, नरेश प्रजापति,काशीराम अहिरवार, मोहन यादव आदि की मौजूदगी पंचनामा तैयार किया गया। वहीं बीआरसीसी अनिल तिवारी ने बताया कि शासन से आई पुस्तकों का बच्चों को वितरण नहीं किया गया। उन्हें रद्दी में बेचने का मामला सामने आया है। जिन्हें जब्त कर टीम के द्वारा जांच शुरू कर दी गई है।

खबरें और भी हैं...