क्योंकि वो मां है...:बछड़े के जन्म के बाद बाहर आई गाय की बच्चेदानी, 5 दिन तक नोचते रहे कुत्ते, फिर भी बछड़े को पिलाती रही दूध

मंडीदीप2 महीने पहले

औद्योगिक नगर मंडीदीप के वार्ड क्रमांक 22 में स्थित गोशाला में लगभग 5 दिन पूर्व गाय ने एक बछड़े को जन्म दिया। जन्म देने के बाद गर्भाशय से निकलने वाली बोम्बी (आंवल) के साथ बच्चेदानी बाहर आ गई। इस बच्चेदानी को कुत्ते नोचते रहे, लेकिन गाय अपने बछड़े को दुध पिलाती रही। गोशाला में कोई नहीं होने से गाय की ओर किसी का ध्यान नहीं गया। गाय 5 दिनों तक दर्द से कहारते हुए मौत से जंग लड़ रही थी, लेकिन बछड़े को दूध पिलाना नहीं बंद किया।

लोगों से जानकारी मिलने पर शुक्रवार शाम को सर्वोदय सामाजिक संस्था ने गाय का ऑपरेशन करवाकर मानवता की मिसाल पेश की। जिससे अब गाय खतरे से बाहर है। संस्था के अध्यक्ष पंकज ने बताया कि इस गोमाता की पीड़ा का अनुमान आप इस बात से लगा सकते हैं कि 5 दिनों से बच्चेदानी बाहर आने के बाद से ही इसे कुत्ते नोच रहे थे, यूट्रस में कीड़े पड़ चुके थे। फिर भी एक मां अपने बच्चे को दूध पिलाती रही।

इसकी सूचना सर्वोदय संस्था के कार्यालय को मिलते ही तत्काल संस्था का एक दल राजू अतुलकर के निर्देशन में पशु चिकित्सक संजय दांगी के साथ गोशाला पहुंचा। सर्वोदय के विशेष दल के मार्गदर्शन ने पीड़ित गाय का सफल ऑपरेशन कर आवश्यक दवाएं देकर गोमाता को बचा लिया।

गाय खतरे से बाहर

डॉक्टर संजय दांगी ने बताया कि गाय अब खतरे से बाहर है। संस्था के अध्यक्ष पंकज जैन ने बताया कि भारतीय संस्कृति में भले ही गाय को मां का दर्जा दिया गया है। मगर, सच्चाई यह है कि इसी मां की हालत पर न तो तथाकथित गो भक्तों, गो पालकों को और न ही शासन-प्रशासन को रहम आ रहा है। आज तक स्थानीय निकाय ने गायों की देखभाल के लिए कोई कारगर कदम नहीं उठाए।

खबरें और भी हैं...