• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Raisen
  • King Shiladitya Was Defeated By Bahadur Shah, Ruled From Dhar, Ujjain, Mandu, Sarangpur To Chanderi

रानी दुर्गावती ने 700 राजपूती स्त्रियों के साथ किया जौहर:राजा शिलादित्य को बहादुर शाह ने हराया था, धार, उज्जैन, मांडू, सारंगपुर से लेकर चंदेरी तक था शासन

रायसेन2 महीने पहले

मध्यप्रदेश के रायसेन किले पर रानी दुर्गावती सहित 700 राजपूत स्त्रियों और बच्चों ने अपने स्वाभिमान की रक्षा के लिए सन् 1532 में आज के ही दिन जौहर किया था। उनकी स्मृति में पुरातत्वविद राजीव लोचन चौबे के नेतृत्व में शहर के अन्य लोगों ने किले के जौहर स्थल पर श्रद्धांजलि दी और उनके वैभव को याद किया। 6 मई 1532 को राणा सांगा की बेटी और यहां के राजा शिलादित्य की पत्नी रानी दुर्गावती ने 700 राजपूत महिलाओं और बच्चों के साथ किले पर एक अग्नि कुंड में एक साथ जौहर किया था।

राजा शिलादित्य का बलिदान दिवस 10 मई को

सोलहवीं शताब्दी में यहां राजा शिलादित्य का शासन था। रायसेन उनकी राजधानी थी। धार, उज्जैन, मांडू, सारंगपुर से लेकर चंदेरी तक इनका शासन था। 1532 में गुजरात के सुल्तान बहादुर शाह ने यहां आक्रमण किया था। उस समय पराजय जानकर रानी दुर्गावती जो राणा सांगा की बेटी थी, उन्होंने राज परिवार के बच्चों सहित 700 राजपूती स्त्रियों के साथ जौहर किया था। इसके बाद राजा शिलादित्य उनके छोटे भाई लक्ष्मण सेन सहित पूरी सेना अंतिम सांस तक 10 मई तक युद्ध करती रही 10 मई को राजा शिलादित्य सहित सभी वीर वीरगति को प्राप्त हो गए। इसलिए रानी दुर्गावती के बलिदान को युगों-युगों तक लोग याद करते हैं। वही राजा का बलिदान दिवस 10 मई को हुआ था।