हिंदू बच्चों का धर्म बदलकर मुस्लिम बनाया:लॉकडाउन से पहले मां-बाप से बिछड़े थे तीनों भाई-बहन

रायसेन3 महीने पहले

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से लगे हुए रायसेन जिले के गौहरगंज में मां-बाप से बिछड़े 3 हिंदू बच्चों को मुस्लिम बना दिया गया है। तीनों बच्चे भाई-बहन हैं, जो साल 2020 में कोविड के कारण लगे पहले लॉकडाउन के पहले मंडीदीप में अपने माता-पिता से बिछड़ गए थे। क्या है पूरा मामला, बच्चे कैसे बिछड़े और मामले का खुलासा कैसे हुआ, ये जानने से पहले पोल में हिस्सा लेकर अपनी राय दीजिए...

जानते हैं, बच्चों की पूरी कहानी, कैसे पेरेंट्स से बिछड़ गए...
रायसेन के गोदी शिशु गृह गौहरगंज में रहने वाले शाहरुख, सुहाना और रुखसाना (नए नाम) के पिता मंडीदीप में किसी फैक्ट्री में गार्ड हैं। आपसी विवाद के बाद मां और पिता साथ नहीं रहते। मां बच्चों को लेकर भोपाल चली गई थी। यहां वह ताजुल मस्जिद के पास किसी मुस्लिम फकीर के साथ भीख मांगने लगी। कोविड में बच्चे मां से बिछुड़ गए।

भोपाल की मातृ-छाया संस्था (NGO) को बच्चे लावारिस नजर आए। उन्होंने बच्चों को बाल कल्याण समिति भोपाल के सामने पेश किया। मामला रायसेन जिले का था, इसलिए बाल कल्याण समिति भोपाल ने यह केस रायसेन बाल कल्याण समिति के पास ट्रांसफर कर दिया। बाल कल्याण समिति रायसेन ने इन बच्चों को गोदी शिशु गृह गौहरगंज को तब तक के लिए हवाले कर दिया, जब तक इनके पेरेंट्स नहीं मिल जाते।

महिला बाल विकास विभाग ने बच्चों की एसआईआर रिपोर्ट पेश करने के निर्देश दिए। जांच करने पर पता चला कि बच्चों के माता-पिता हिंदू हैं। इसके बावजूद, शिशु गृह संचालक हसीन परवेज ने उनका नाम परिवर्तित न करा कर स्कूल और आधार कार्ड पर उनका नाम मुस्लिम ही लिखवा दिया।

मामले का खुलासा तब हुआ, जब शिकायत पर राष्ट्रीय बाल आयोग के अध्यक्ष प्रियंक कानूनगो इस शिशु गृह का निरीक्षण करने पहुंचे। बाल आयोग ने हसीन परवेज को इस मामले में आरोपी बनाया है।

आधार कार्ड में भी केयर टेकर का नाम
तीनों बच्चे बीते 3 साल से गौहरगंज में सरकारी अनुदान पर चलने वाले शिशु गृह में रह रहे हैं। बच्चे हिंदू हैं और पिछड़ा वर्ग से हैं। इनकी उम्र 4, 6 और 8 साल है। इनमें दो बहन और एक भाई है। बच्चों ने बताया कि पहले उनके नाम दूसरे थे, अब यहां के टीचर ने उनके दूसरे नाम रख दिए हैं। आधार कार्ड में बच्चों के माता-पिता के बजाय केयरटेकर के रूप में शिशु गृह के संचालक हसीन परवेज का नाम दर्ज है।

शिशु गृह के सभी दस्तावेज जब्त
इस शिशु गृह में 5 बच्चे रहते हैं। इनमें से तीन सगे भाई-बहन हैं। राष्ट्रीय बाल आयोग के अध्यक्ष प्रियंक कानूनगो ने शिशु गृह के संचालक को फटकार लगाते हुए शिशु गृह के सभी दस्तावेज जब्त करने के निर्देश दिए हैं। साथ ही महिला बाल विकास विभाग को जांच कर FIR दर्ज कराने के आदेश भी दिए हैं।

राष्ट्रीय बाल आयोग के अध्यक्ष ने धर्म परिवर्तन के मामले में किया ट्वीट।
राष्ट्रीय बाल आयोग के अध्यक्ष ने धर्म परिवर्तन के मामले में किया ट्वीट।

राष्ट्रीय बाल आयोग अध्यक्ष का क्या कहना है...
राष्ट्रीय बाल आयोग के अध्यक्ष प्रियंक कानूनगो ने कहा- बच्चों की आइडेंटिटी बदली गई। यह भारत के संविधान का उल्लंघन है। हमने मौके पर डीपीओ से बोला कि यहां से पूरे कागज जब्त कर लीजिए। निर्देश दिए हैं कि FIR दर्ज कराएं। बच्चों के परिवार को ढूंढकर रीस्टोर करें। जो इस तरह की संस्था का संचालन कर रहा है, उसके खिलाफ FIR दर्ज करें। पुलिस अधीक्षक से भी फोन पर बात की है।

आरोपी संचालक बोला- हमने नाम नहीं बदले
शिशु गृह के संचालक हसीन परवेज का कहना है कि बच्चे यहां भोपाल से ट्रांसफर हुए हैं। बाल कल्याण समिति (CWC) ने जो आदेश दिए हैं, वही नाम संस्था में रखे गए। हम तब तक नाम नहीं बदल सकते, जब तक CWC आदेश नहीं दे।

मध्यप्रदेश में धर्म परिवर्तन से जुड़ी अन्य खबरें...

सरकारी टीचर ने कराया धर्म परिवर्तन
सागर जिले के बीना में एक सरकारी टीचर ने शादीशुदा महिला को अपने प्यार के जाल में फंसाया, फिर उसका धर्म परिवर्तन कराया। अब उसकी नजर महिला की नाबालिग बेटी पर है। वह बेटी का भी धर्म परिवर्तन करवाना चाहता है। पीड़िता ने इसकी शिकायत पुलिस से की है। पढ़ें पूरी खबर...

सात साल से धर्म बदलवाने की कोशिश
भोपाल की एक महिला का कहना है कि कुछ लोग पिछले 7 साल से धर्म बदलने के लिए दबाव बना रहे हैं। धर्म बदलकर शादी के लिए परेशान कर रहे हैं। रोजाना धमकी देते हैं। छेड़छाड़ करते हैं। मारपीट करते हैं। घर से निकलना तक बंद कर दिया है। उसकी हर एक्टिविटी पर नजर रखते हैं। अब तो जीना मुश्किल हो गया है। महिला ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा से कार्रवाई की अपील भी की है। पढ़ें पूरी खबर...

गोमांस खिलाकर बदलवाया धर्म
सिंगरौली जिले की एक युवती पुलिस ऑफिसर बनने का सपना लेकर भोपाल आई थी। यहां एक बिजनेसमैन ने उसके सपनों पर पानी फेर दिया। उसने शादी का झांसा देकर युवती को 9 साल तक लिव इन में रखा। फिर अपने वादों से मुकर गया। 27 साल की युवती का आरोप है कि आरोपी बिजनेसमैन ने बिना बताए गोमांस खिलाकर उसका धर्म परिवर्तन करा दिया। साथ ही हिंदू नाम बदलकर आयशा रख दिया। पढ़ें पूरी खबर...