धार्मिक महत्व:मिश्र तालाब का पानी गंदा, नपा डलवा रही लाल दवाई

रायसेन12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

करोड़ों रुपए खर्च हो जाएं और उद्देश्य पूरा न हो तो सवाल उठना लाजमी है। हम बात कर रहे हैं शहर के मिश्र तालाब की। हर शहर वासी चाहता है कि मिश्र तालाब धार्मिक महत्व का है, इसलिए इसका पानी साफ रहे। इस पर काम किया जाना चाहिए। नगरपालिका ने इसके लिए काम भी किया। पांच सालों में 4.39 करोड़ रुपए की राशि खर्च कर दी गई। इसके बावजूद 13 सितंबर को तालाब का पानी इतनी खराब स्थिति में पहुंच गया कि उसमें बड़ी संख्या में मछलियां मर गईं। बताया गया है कि पानी में ऑक्सीजन की कमी हो जाने से मछलियां मरी हैं।

इसके बाद मिश्र तालाब के पानी को साफ करने का खेल फिर शुरू हो गया। अब तालाब में चार क्विंटल चूना डाला गया है और एक लाल रंग की दवाई का घोल बनाकर मिश्र तालाब में नपा ने डलवाया है। मिश्र तालाब 2.18 हेक्टेयर में फैला हुआ है और दवाई का घोल घाटों के आसपास ही डाला जा रहा है।

मिश्र तालाब शहर के लिए महत्वपूर्ण
शहर के मिश्र तालाब के सौंदर्यीकरण के लिए पूर्व परिषद ने भी काम किया है । तालाब का पानी साफ रखने के लिए हर संभव प्रयास करेंगे । मिश्र तालाब शहर के लिए बहुत महत्वपूर्ण है । -सविता सेन, अध्यक्ष, नगरपालिका, रायसेन

खबरें और भी हैं...