नसेवा अभियान की समीक्षा करने पहुंचे दो मंत्री‎:योजनाओं में गड़बड़ी की शिकायत पर बोले मंत्री-जांच कर होगी एफआईआर

राजगढ़6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

जिले में समूह नलजल योजना के तहत 18 सौ गांवों में पेयजल पहुंचाना है, लेकिन इस योजना के तहत समय से काम नहीं होने के साथ ही गुणवत्ता भी ठीक नहीं है। इसको लेकर मुख्यमंत्री जनसेवा अभियान की समीक्षा करने आए औद्योगिक नीति एवं निवेश प्रोत्साहन मंत्री राज्यवर्धन सिंह दत्तीगांव और लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री ब्रजेंद्र प्रताप सिंह के सामने लोगों ने रखी। इस पर दोनों मंत्रियों ने नाराजगी जताते हुए कहा कि कार्य में गुणवत्ता में किसी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी, उन्होंनें कलेक्टर हर्ष दीक्षित को निर्माण की जांच कराकर एफआईआर कराने कहा है।

अभियान की समीक्षा करने देर रात मंत्री राज्यवर्धन सिंह शहर के रेस्ट हाउस पहुंचे, जिन्होंने सुबह कलेक्टर दीक्षित व एसपी अवधेश गोस्वामी से चर्चा कर जिले में उद्योग व निवेश का खाका तैयार करने चर्चा की। इसके बाद कार्यकर्ताओं से मुलाकात की, सुबह साढ़े 10 बजे मंत्री ब्रजेंद्र प्रताप सिंह पहुंचे। इसके बाद वह सीधे कलेक्ट्रेट में समीक्षा करने पहुंचे। जहां विधायक बापूसिंह तंवर ने शिकायत करते हुए कहा कि जल निगम के अधिकारी व काम करने वाली एजेंसी किसी की नहीं सुनते, गांवों की सड़कें खोद दी, उन्हें ठीक नहीं कराया गया।

इस पर मंत्री ने सख्त लहजे में कहा कि ऐसी गड़बड़ी है तो जांच कराकर कार्रवाई करो। इस मौके पर सांसद रोड़मल नागर, विधायक कुंवर कोठार सहित अन्य लोग उपस्थित थे। इसके बाद दोपहर 2 बजे दोनों मंत्री बाेकड़ी और लाताखेड़ी में आयोजित शिविर में शामिल होने रवाना हो गए।

एक दिन पहले विधायक प्रियव्रतसिंह ने सीएम से की शिकायत
जल निगम के काम में हो रही देरी और गुणवत्ताहीन काम को लेकर खिलचीपुर विधायक प्रियव्रतसिंह ने विधानसभा में मामला उठाया था, लेकि सदन की कार्रवाई स्थगित होने से प्रश्न पर चर्चा नहीं हो सकी, लेकिन दिए गए जवाब में कई काम अधूरे और कई की शुरूआत नहीं हो सकी। इस पर श्री सिंह ने मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान को एक दिन पहले ही पत्र लिखकर शिकायत की है।

हर जरूरतमंद को मिले लाभ, लापरवाही नहीं हो
मंत्री राज्यवर्धन सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री जन अभियान के तहत जो भी योजना है उनका हितग्राहियों को लाभ मिले, कोई लाभांवित नहीं है और शिकायत मिलती है तो उसकी जांच कराकर कलेक्टर एफआईआर जरूर कराएं। समीक्षा बैठक में में पीएचई मंत्री बृजेंद्र प्रताप सिंह ने कहा कि पीएचई के ईई अपना फोन चालू रखें, किसी का भी फोन आया तो बात करें। हैंडपंप की शिकायत नहीं आना चाहिए, विधायक जनप्रतिनिधी या आम आदमी का भी फोन आया तो तुरंत फोन सुनो और काम करो

पहले समझाओ, नहीं तो एफआईआर दर्ज कराओ
समूह नलजल योजना के तहत हो रहे कामों की गुणवत्ता को लेकर बैठक में मुद्दों उठाया गया। जहां एलएंडटी कंपनी द्वारा शिकायत नहीं सुनने और समय से काम नहीं करने की बात विधायकों द्वारा कहीं गई। इस पर मंत्री राज्यवर्धनसिंह ने कहा कि एलएंडटी कंपनी वाले सुनते नहीं तो पहले उन्हें समझाओ, अगर नहीं माने तो सीधे एफआईआर दर्ज कराओ, इसके लिए कलेक्टर के साथ ही सांसद व विधायकों को जिम्मेदारी दी है।

पांचों परियोजना की होगी जांच

बैठक में मंत्री सिंह ने कहा कि जल निगम निगम की सबसे ज्यादा शिकायत जिले में मिली है। ऐसे में जिले में जितने भी काम चल रहे हैं, उनकी जांच प्रभारी मंत्री, सांसद व एमएलए की निगरानी में कलेक्टर बारीकि से जांच कराए, इसके बाद दोषियों पर एफआईआर जरूर करे, ताकि यह लापरवाही नहीं कर सके।

खबरें और भी हैं...