महिला खींच रही थी बैलगाड़ी:राजगढ़ में लोगों ने पूछा तो रोते हुए बोली- 4 बच्चे हैं, पति की मौत हो चुकी है

राजगढ़ (भोपाल)16 दिन पहले

भूखी और बेबस विधवा मां। बैलगाड़ी पर सामान लादकर ला रही है। बैलगाड़ी पर उसकी बेटी भी बैठी है। बैलगाड़ी वह हांक नहीं रही, बल्कि खुद बैल बनकर गाड़ी खींच रही है। ये मार्मिक वीडियो मंगलवार को राजगढ़ में सामने आया। महिला बैलगाड़ी खींचते हुए पचोर से 15 Km दूर चली आई। इस बीच रास्ते में दो बाइक सवारों ने उसे देखकर हाल पूछा। महिला रो पड़ी और कहा- मैं और मेरी बच्ची भूखी है। 15 Km और बाकी है। बाइक सवारों ने महिला की बैलगाड़ी को बाइक से बांधकर उसे सारंगपुर पहुंचाया।

पढ़िए पूरी कहानी...

पति गुजर गए, हमारे पास घर नहीं, कोई तो मदद करे
सारंगपुर की रहने वाली लक्ष्मी ने बताया- दो ढाई साल पहले मेरे पति गुजर गए। हमारे पास दो वक्त का खाना खाने के पैसे तक नहीं है। मेरे 4 छोटे-छोटे बच्चे हैं। हमारे यहां हर आदमी ने घर बना लिया है, लेकिन हम आज भी बरसाती डालकर ही रह रहे हैं। बरसात के समय पूरे घर में पानी भर जाता है। आंधी आती है तो घर की छत उड़ जाती है। ठंड में हमारी क्या हालत होती है, अब क्या बताएं। मेरे बच्चे भी काम करते हैं। सरकार से अभी तक 1 रुपए की मदद नहीं मिली है।

विधवा पेंशन योजना का लाभ नहीं मिलता। पेट भरने के लिए खुद भरी दोपहरी में बैलगाड़ी खींचती हूं। पहली बार दो बाइक सवारों ने मेरी मदद की। हम लोगों को घर छोड़ा। अब सरकार से मदद की आस है।

महिला के पास घर नहीं है। कच्चे घर में बच्चों के साथ रहती है।
महिला के पास घर नहीं है। कच्चे घर में बच्चों के साथ रहती है।

पेशे से शिक्षक हैं मददगार
बैलगाड़ी को बाइक से खींचकर महिला को घर छोड़ने वाले युवक का नाम देवी सिंह नागर है। पेशे से वह शिक्षक हैं। उन्होंने बताया- मैं मंगलवार दोपहर अपने साथी के साथ कहीं जा रहा था। तभी हमने लक्ष्मी को आते हुए देखा। महिला की हालत देख हमसे रहा नहीं गया। मैंने महिला के पास जाकर बाइक रोकी और उससे बात की। लक्ष्मी ने बताया कि वह पचोर से आ रही है। उसे सारंगपुर जाना है।

महिला ने बताया कि उसकी बेटी ने काफी देर से कुछ खाया नहीं है। वह भूखी है। तो हमने उसे खाना खिलाया। इसके बाद मैंने उससे कहा कि तुम्हारे पास रस्सी है क्या? महिला ने रस्सी दी। हमने बैलगाड़ी को रस्सी से बाइक से बांध लिया और महिला को उसके घर सारंगपुर छोड़ा।

बाइक सवारों ने महिला की मदद कर उसे सारंगपुर पहुंचाया।
बाइक सवारों ने महिला की मदद कर उसे सारंगपुर पहुंचाया।

कलेक्टर बोले- मदद करेंगे
राजगढ़ कलेक्टर हर्ष दीक्षित का कहना है कि महिला के बारे में आपसे मुझे जानकारी मिली है। मैं देखता हूं कि महिला क्या काम करती है। महिला को ज्यादा से ज्यादा शासन की योजनाओं का लाभ मिले, इस पर काम करेंगे और उसकी मदद करने की पूरी कोशिश करूंगा।