फर्जी दस्तावेज के जरिए लोन:रिकॉर्ड में हेराफेरी कर केसीसी लोन लिया, 9 के खिलाफ केस

आलोटएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

किसानों की खेती की जमीन राजस्व रिकॉर्ड में दूसरों के नाम करके उन्हें लाखों रुपए का केसीसी लोन दिलाने के मामले में पुलिस ने एक पटवारी समेत 9 लोगों पर एफआईआर दर्ज की है। इनमें से एक आरोपी पटवारी के निजी दफ्तर में पटवारी के सहायक के रूप में काम करता था और उसने अपने दो अन्य दोस्तों के साथ मिलकर पटवारी की आईडी से जमीन दूसरों के नाम चढ़ा दी। फिर जिन लोगों के नाम जमीन हुई, उन्होंने उसी खसरा नकल व रिकॉर्ड से विभिन्न बैंकों से किसान क्रेडिट कार्ड बनाकर 28 लाख रुपए का लोन ले लिया। ये सभी आरोपी हैं।

बरखेड़ाकलां पुलिस थाना प्रभारी महेंद्रसिंह चौहान ने बताया दिनेश टोकरे की रिपोर्ट पर फर्जी दस्तावेज के जरिए लोन लेने, धोखाधड़ी करने व जमीन रिकॉर्ड में हेराफेरी के दो अलग-अलग केस दर्ज किए हैं।

बदल दिया रिकाॅर्ड

राजस्व रिकॉर्ड यानी खसरे में नामांतरण की प्रक्रिया का फॉलो करना होता है। तहसीलदार के आदेश की जरूरत होती है। यहां पटवारी आईडी से जगदीश, रामेश्वर और रवि ने जो कारस्तानी की उसमें उन्होंने 2007, 2008 के कुछ पुराने नामांतरण आदेशों का उपयोग किया व हेराफेरी की।

खबरें और भी हैं...