पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

धर्मसभा आयोजन:जीवन को सफल बनाना है तो सभी जीवों के प्रति दया का भाव रखना चाहिए : साध्वी पुरणिता जी

बाजना15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पर्युषण पर्व के समापन पर चिंतामणि पार्श्वनाथ जैन दैरासर से निकला वरघोड़ा

जीवन को सफल बनाना है तो मन में जमा गंदगी को साफ करने का कार्य चातुर्मास करता है। हमें सभी जीवों के प्रति दया का भाव रखना चाहिए। यह बात साध्वी पुरणिता, दिव्यता, अहर्रदधर्मा श्रीजी मसा ने जैन उपाश्रय में धर्मसभा में कही। पर्युषण पर्व के समापन पर चिंतामणि पार्श्वनाथ जैन दैरासर से प्रभु का वरघोड़ा निकाला गया।

वरघोड़ा नगर के प्रमुख मार्ग सदर बाजार, बस स्टैंड, राजपूत मोहल्ला होते हुए जैन उपाश्रय पहुंचा। श्री संघ की ओर से मनोज कनकमल नाहर ने 28 तपस्वी नेहा नाहर, रानू गांंधी, दीपक मूणत, हर्ष कोठारी, अर्पण चौरड़िया, वर्षीतप तपस्वी मानवी मूणत का बहुमान किया। श्री वर्धमान स्थानकवासी जैन श्रावक संघ ने 28 तपस्वियों का बहुमान किया।

संघ अध्यक्ष सतीश चौरड़िया, लक्ष्मीचंद जैन, पवन जैन, अंशुल पालरेचा, प्रकाश चौरड़िया ने अपनी बात कही। संघ पूजा का लाभ दीपक कुमार, पूनमचंद, अरुण कुमार पालरेचा ने लिया। इस दौरान सतीश नाहर, डॉ. विमल कोठारी, सुरेश लुणावत, चंद्रकांत नाहर, रमेश कटारिया, रिषभ मूणत, पारस पालरेचा, मयूर कोठारी विवेक कोठारी, सुरेंद्र पालरेचा, शुभम पालरेचा सहित समाजजन मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...