पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कार्रवाई:3 दिन में दावे-आपत्ति नहीं दी तो राशन पोर्टल से हटेंगे 24682 अपात्रों के नाम

जावरा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • दुकानों व पंचायत के बाहर नामों की सूची चस्पा की, हर माह बचेगा 1234 क्विंटल राशन

गरीबों को सस्ती दर पर मिलने वाले राशन का लाभ सालों से कुछ अपात्र लाेग ले रहे थे। उनकी छंटनी करने के लिए खाद्य आपूर्ति विभाग ने सभी उपभोक्ताओं का पिछले साल सर्वे करवाया। इसके मुताबिक 24 हजार 682 लोग ऐसे थे जिनके नाम से प्रतिमाह 1234 क्विंटल राशन अलॉट हो रहा था जो सर्वे के मापदंड में अपात्र मिले। उनके नाम अब पोर्टल से सीधे काटने के लिए दावे-आपत्ति की प्रोसेस शुरू हो गई है। अपात्र लोगाें के नाम की सूची संबंधित वार्ड की राशन दुकान व ग्रामीण में पंचायत के बाहर चस्पा की गई है। दावे-आपत्ति देने के लिए तीन दिन हैं। 7 अगस्त के बाद फाइनल सूची का प्रकाशन होगा। फिर इन्हें अपात्र मानकर इनके नाम पोर्टल से विलोपित कर दिए जाएंगे। राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन 2019 के तहत राशनकार्डधारी सदस्यों के सत्यापन का काम दिसंबर में शुरू हुआ जो जनवरी तक चला। जांच में पता चला कि कई हितग्राही ऐसे हैं जिनके पात्रों की सूची में नाम तो हैं लेकिन मौके पर नहीं या उसकी मौत हो गई। कूपन से नाम कटे नहीं और उनके नाम जस के तस चले आ रहे। आंकड़ों के मुताबिक ब्लॉक में 24 हजार 682 सदस्य अपात्र मिले। इनमें ग्रामीण क्षेत्र के 15918, शहरी क्षेत्र के 8764 हितग्राही हैं। एक हितग्राही को 5 किलो राशन अलॉट होता है। इसके मान से 1234 क्विंटल राशन आता है। उनके नामों की फेहरिस्त निकालकर नगरपालिका, नगरपरिषद, नगर पंचायत, ग्राम पंचायत, उचित मूल्य दुकानों के बाहर चस्पा कर दी है ताकि उपभोक्ता अपने नाम को देखकर समय रहते दावे-आपत्ति ले सकें। चूंकि आपत्ति की प्रोसेस 2 अगस्त से शुरू हो गई है। इस बीच रविवार व राखी के चलते दो दिन निकल चुके हैं। अब सिर्फ तीन दिन का समय बाकी है। जिन्हें नाम कटने पर आपत्ति है वे आवेदन देकर आपत्ति ले सकते हैं। फिर अपात्रों की सूची को फाइनल कर दिया जाएगा।

नपा 1300 परिवारों को पहले बता चुकी अपात्र

शहर में 10500 राशनकार्डधारी हें। इनमें से 8 हजार बीपीएल, 1090 अंत्योदय व 1400 प्राथमिक हैं। 1300 कूपनधारी ऐसे हैं जो पक्के मकानों में रहते हैं और जरूरत की सारी सुविधाएं उनके पास मौजूद हैं। इसके बाद भी उन्हें बीपीएल कूपन का लाभ बराबर और हर महीने मिल रहा है। क्योंकि नपा के सर्वे में अपात्र होने के बाद भी उनके नाम खाद्य विभाग के पोर्टल से हटे नहीं। खाद्य विभाग पोर्टल पर दर्ज होने का कहकर कुछ कर नहीं पा रहा था। सर्वे में ये भी शामिल हुए थे।

ये हैं अपात्र निकलने के कारण- पिछले साल अंत में सर्वे हुआ था। इसमें परिवारों की जानकारी जुटाई गई और वे अपात्र पाए गए। सर्वे में सामने आया कि कुछ लोग अपने पते पर नहीं हैं, कुछ मृत हो गए, कुछ की शादी हो गई, कुछ दूसरी जगह चले गए, कुछ के नाम डबल चढ़ गए लेकिन अब दावे-आपत्ति के बाद ये नाम पोर्टल से विलोपित हो जाएंगे।

दावे-आपत्ति लें और ये दस्तावेज भी दें- अपात्र होने वाले हितग्राही अपने नाम राशन दुकानों की सूची व पंचायत कार्यालय पर देख सकते हैं। शहरी उपभोक्ताओं की आपत्ति एसडीएम कार्यालय, ग्रामीण उपभोक्ताओं की आपत्ति तहसील कार्यालय में ली जाएगी। आवेदन के साथ समग्र आईडी, संबंधित योजना का प्रमाण-पत्र, पूरे परिवार सदस्यों के आधारकार्ड की प्रति जमा कराना होगी।

7 तारीख आखिरी, फिर अंतिम सूची का प्रकाशन
सहायक खाद्य आपूर्ति अधिकारी पीके अहिरवार ने बताया राशन लेने वाले सभी उपभोक्ताओं का सर्वे पिछले साल हो गया था। दावे-आपत्ति का काम बाकी था ताकि उनके नाम खाद्यान्न पोर्टल से कम किए जा सकें। अब शासन के निर्देश मिलते ही जो सर्वे में अपात्र पाए गए थे उनकी सूची राशन दुकानों व पंचायत के बाहर चस्पा कर दी है। दावे-आपत्ति के लिए 7 अगस्त अंतिम सुनिश्चित की गई है।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप भावनात्मक रूप से सशक्त रहेंगे। ज्ञानवर्धक तथा रोचक कार्यों में समय व्यतीत होगा। परिवार के साथ धार्मिक स्थल पर जाने का भी प्रोग्राम बनेगा। आप अपने व्यक्तित्व में सकारात्मक रूप से परिवर्तन भ...

और पढ़ें