मांग / बाहर खड़ी 300 ट्रॉली, 9 हजार किसान वेटिंग में, खरीदी करना है तो बढ़ाना होगी तारीख

300 trolley parked outside, 9 thousand farmers in waiting, if purchased, date will have to be increased
X
300 trolley parked outside, 9 thousand farmers in waiting, if purchased, date will have to be increased

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

जावरा. समर्थन मूल्य पर किसानों से गेहूं खरीदना इस बार प्रशासन के लिए परेशानी का सबब बन गया है। जितनी खरीदी का अनुमान प्रशासन ने लगाकर तैयारियां की थी वो नाकाफी होने से दो-तीन दिन की उपज केंद्रों के बाहर रखी है। ज्यादा भीड़ ना लगे इसलिए प्रशासन ने नए किसानों को मैसेज भेजना भी बंद कर दिए हैं लेकिन पुराने किसानों की उपज ही इतनी है बची है कि सभी की तुलाई में दो दिन निकल जाएगा। इधर समर्थन खरीदी की मियाद 26 मई को खत्म हो रही है। अब तक जिले में 9 हजार किसानों से उपज खरीदी शेष है। सरकार के वादे के मुताबिक सभी पंजीकृत किसानों के गेहूं सरकार खरीदेगी। जिसे पूरा करने के लिए खरीदी की तारीख आगे बढ़ाने के अलावा कोई विकल्प नहीं है। ऐसे में संभावना है कि एक-दो दिन में नए आदेश जारी होंगे। इधर वेटिंग में लगे किसानों के सब्र का बांध टूटता जा रहा है।

जिले में समर्थन मूल्य पर उपज बेचने के लिए 39 हजार किसानों ने पंजीयन कराएं थे। 30 हजार किसान अपनी उपज बेच चुके है। बाकी बचे 9 हजार किसान अब भी वेटिंग में है। जावरा अनुभाग की बात करें तो अरनियापिथा मंडी प्रांगण में मार्केटिंग सोसायटी के तीन केंद्र बने हुए हैं। जहां बारदान की कमी के चलते दो दिन से खरीदी बंद थी लेकिन बारदान आते ही शनिवार सुबह 8.30 बजे से खरीदी शुरू कर दी। तीन में से एक केंद्र पर ट्रैक्टर ट्रॉलियां ज्यादा है तो दूसरे पर कम। ऐसे में इंतजार में खड़े किसानों के सब्र का बंाध टूट गया और जिस केंद्र पर ज्यादा ट्रैक्टर-ट्रॉलियां खड़ी थी वहां के किसानों ने पहले उनकी ट्रॉलियों का तौल करने की बात कही। इसे लेकर किसानों के बीच बहस शुरू हो गई। स्थिति बिगड़ती देख केंद्र संचालक ने पुलिस व प्रशासन को सूचना दी। तहसीलदार नित्यानंद पांडेय मौके पर पहुुंचे और किसानों की समस्या सुनी। उन्होंने कहा कि आप धैर्य बनाए रखे। पर्याप्त बारदान उपलब्ध कराए जा रहे हैं। ज्यादा से ज्यादा तौल करने के लिए केंद्र पर खरीदी जल्दी शुरू की जा रही है। सभी का माल तुलेगा। इसके बाद मामला शांत हुआ। मार्केटिंग सोसायटी के योगेंद्र कोठारी ने बताया शनिवार को ही 280 ट्रॉली उपज तोली गई। अब सिर्फ दो दिन के किसान बचे है। याने 300 ट्रॉलियां और तुलना बाकी है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना