मानसून ने मचाई तबाही / जावरा में तूफान से  400 पेड़ समेत बिजली के 80 खंभे गिरे, 24 घंटे में 2.28 इंच बारिश दर्ज

400 trees and 80 poles of electricity fell, 35 houses clutched, Maleni upheaval
X
400 trees and 80 poles of electricity fell, 35 houses clutched, Maleni upheaval

  • तूफान से तबाही : 400 पेड़ व बिजली के 80 खंभे गिरे, 35 घरों के चद्दर उड़े, मलेनी उफनी

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 05:33 AM IST

जावरा. मंगलवार तड़के 4 बजे आंधी-तूफान के साथ तेज बारिश हुई। तूफान ने ऐसी तबाही मनाई कि सुबह उजाला हुआ तो हर तरफ नुकसानी का मंजर नजर आया। पूरे ब्लॉक में 400 से ज्यादा विशालकाय पेड़ गिर गए। डीई एमके मेड़ा ने बताया 80 बिजली खंभे टूटे। नगर व अंचल मिलाकर 35 से ज्यादा घरों के पतरे उड़ गए। कई दीवारें ढही। शुक्र है जनहानि नहीं हुई लेकिन अनाज, घरेलू सामग्री गीली हो गई। तहसीलदार नित्यानंद पांडेय ने पटवारियों को सर्वे के निर्देश दिए। फोरलेन पर भगतसिंह कॉलेज के सामने पांच से ज्यादा बड़े पेड़ गिरने से सुबह दो घंटे यातायात ठप रहा। 
झोपडि़यों पर गिरे पेड़

हुसैन टेकरी क्षेत्र में टॉप शरीफ के पास रोड किनारे बनी झोपडि़यों पर पेड़ गिर गए। यहां कई लोग बाल-बाल बचे। बामनखेड़ी से टेकरी तरफ जाने वाला रास्ता भी दोपहर तक बंद रहा। जून में पिछले साल 5 इंच बारिश हुई थी, इस बार 11.14 इंच हो गई- मंगलवार तड़के घंटेभर बारिश हुई तो मलेनी नदी उफन गई। हतनारा गांव की पुरानी पुलिया डूब गई। जावरा में 24 घंटे के दरमियान 2.28 इंच बारिश दर्ज की। जून में कुल बारिश 11.14 इंच हाे गई, जबकि पिछले साल 30 जून की स्थिति में 5 इंच बारिश ही हुई थी।
रोजाना में बाड़े की दीवार ढही

अरनियापिथा नई मंडी की गोल बिल्डिंग में राष्ट्रीय कृषि बाजार केंद्र के ऊपर लगा नेटवर्क टॉवर आंधी से टूटकर गिर गया। रोजाना में दिलीप प्रजापत के बाड़े की दीवार ढह गई। पलंग, दरवाजे टूट गए।

इस मानसून में पहली बार हतनारा में सुबह करीब दो घंटे तक आवागमन बंद रहा

उपलई-भूतेड़ा रोड 10 बजे तक बंद रहा, 30 से ज्यादा पक्षियों की मौत

उपलई-भूतेड़ा रोड पर कई जगह दर्जनभर पेड़ गिरने से यातायात ठप रहा। कैलाश मेहता, गोपाल नंदेड़ा ने बताया रोड पर ही हाईटेंशन लाइन के तार भी टूटे हुए थे। इन्हें हटाने पर सुबह 10 बजे बाद रास्ता चालू हुआ। भूतेड़ा में कई घरों के चद्दर उड़े। बसंतीलाल पांचाल के घर पर नीम का पेड़ गिर गया। दो बबूल के पेड़ गिरने से यहां घौसला बनाकर बैठे 30 से ज्यादा पक्षियों की मौत हो गई। सरसी में बस स्टैंड से शीतलामाता मंदिर के बीच बने नए रोड के कारण पानी निकासी नहीं हुई। 

बरखेड़ी में भारी नुकसान, मकानों की पूरी की पूरी छतें ही उड़ गईं

बरखेड़ी में बलवंतसिंह पंवार, धनसिंह, गोपालसिंह, शैलेंद्रसिंह, रणजीत सिंह, बापूसिंह, सोहनसिंह, ईश्वरसिंह, फूंदासिंह समेत कई घरों से पतरे की छतें उड़ गई। चौकीदार हेमराज सूर्यवंशी ने बताया लोगों के अनाज व घरेलू सामग्री गिली हो गई। शुक्र है जनहानि नहीं हुई। पॉलिटेक्निक कॉलेज रोड स्थित अजवाइन फैक्टरी के शेड भी क्षतिग्रस्त हुए।
रोला में बिजली खंभे टूटे, रातभर बंद रही लाइटें

शाम 5 बजे बारिश हुई। तभी जावरा-सीतामऊ रोड पर जुझारलाल पाटीदार के खेत के पास बड़ा पेड़ बिजली तार पर गिरा। दो खंभे टूट गए। रोजला, सुजानपुरा में रातभर लाइटें बंद रही।

लुहारी में 13 घरों के चद्दर उड़े, विधायक चावला गांव पहुंचे
ग्राम लुहारी में मोतीलाल चौधरी, कचरुलाल पांचाल, रूपसिंह, दशरथ पाटीदार, नरवरसिंह, धर्मेंद्र राठौर, राधेश्याम, तुलसीराम गुजराती, उमाशंकर राठौर, सनी कुमार, कमल चौधरी, ओमप्रकाश राठौरअन्य के घरों चद्दर उड़ गए। नेतावली | किसानों के चेहरे खिल गए। गोपाल पाटीदार ने बताया अब बोवनी करेंगे। जावरा-सैलाना रोड पर इमली का विशालकाय पेड़ गिरने से रोज दोपहर तक बंद रहा। बिजली तार टूटने से बिजली सप्लाई ठप हो गई। जावरा-सीतामऊ रोड कांगला रूंडी पर बिजली पोल गिरने से रात में बिजली बंद रही।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना