टिड्डी दल / दो दमकल, चार स्प्रे फाइटर व 16 ट्रैक्टर प्रेशर पंप से मारीं 80 फीसदी टिडि्डयां

80% locusts killed with two fire engines, four sprayfighter and 16 tractor pressure pumps
X
80% locusts killed with two fire engines, four sprayfighter and 16 tractor pressure pumps

  • कराड़िया-बापच्या के बीच डाला था डेरा, किया दवाई स्प्रे, बचा टिड्डी दल आगर गया

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

जावरा. आलोट ब्लॉक के ग्राम कराड़िया एवं बापच्या के बीच करीब 3 किलोमीटर क्षेत्र में डेरा डालकर बैठे टिड्डी दल पर शुक्रवार तड़के 4.30 बजे केंद्रीय दल के नेतृत्व में कृषि एवं स्थानीय प्रशासन की टीमों ने दवाई स्प्रे किया। आलोट, ताल नगरपरिषद की 2 दमकल, केंद्रीय डिजास्टर मैनेजमेंट टीम के 4 स्प्रे फाइटर एवं 16 ट्रैक्टर पर लगे स्प्रे पंप के जरिए मेलाथ्यान 96 प्रतिशत ईसी दवाई का छिड़काव किया। इससे 80 फीसदी टिडि्डयां मर गईं और जो 20 फीसदी बची थीं वे भी दवाई का असर होने से ज्यादा दूर उड़ान नहीं भर पा रही हैं। इसलिए दिनभर बड़ाैद, थूरिया स्टेशन और उन्हेल क्षेत्र में ही घूमती रहीं। इनमें भी कई तो उड़ते-उड़ते वापस नीचे जा गिरी हैं।

आलोट एसडीएम चंदरसिंह सोलंकी, एसडीओपी डीआर माले, कृषि उप संचालक जीएस मोहनिया, कृषि एसडीओ एनके छारी एवं केंद्रीय दल प्रभारी डॉ. आर. शर्मा के नेतृत्व में अलग-अलग टीमों ने टिडि्डयों पर दवाई स्प्रे का काम किया। यह सुबह 6 बजे तक चलता रहा।

बची हुई टिडि्डयों पर रख रहे हैं नजर 
एसएडीओ डी.एस. तोमर ने बताया टिड्डी दल ने जब रात में डेरा डाला था जो यह 3 किलोमीटर लंबाई और एक किलोमीटर चौड़ाई में बैठा था। स्प्रे के बाद 80 फीसदी टिडि्डयां मर चुकी हैं। रात में इन्होंने कुछ पेड़ों को नुकसान पहुंचाया लेकिन सुबह होते-होते इन पर दवाई स्प्रे कर नुकसान को कंट्रोल कर लिया। प्रशासन अभी भी अलर्ट है और जो टिडि्डयां क्षेत्र में ही घूम रही हैं, उन पर नजर रखे हुए हैं। इधर, केवीके प्रभारी डॉ. सर्वेशकुमार त्रिपाठी का कहना है एक दल मंदसौर जिले में और आया हुआ है। इसके मूवमेंट की जानकारी ले रहे हैं। रात्रि विश्राम के बाद यदि हवा का रूख उत्तर-दक्षिण हुआ तो फिर इस दल के भी रतलाम जिले की सीमा में प्रवेश करने की आशंका है इसलिए केंद्रीय दल से लेकर स्थानीय प्रशासन अलर्ट है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना