पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कोरोना का असर:इमामबाड़े से नहीं उठेंगे ताजिये, न होगी गणेश स्थापना, झूले भूल जाइये, उत्सव घरों में मनाइए

जावराएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • आगामी त्याेहारों को लेकर तहसीलदार ने ली आयोजकों की बैठक, बताई गाइडलाइन

हर साल त्याेहारों की रौनक घरों से ज्यादा बाजारों में दिखाई देती है। इस बार कोरोना के चलते इसका रिएक्शन देखने को मिलेगा। बाजारों से ज्यादा घरों में त्याेहारों की खुशियां मनेंगी। कोरोना गाइडलाइन के तहत सार्वजनिक आयोजन पर प्रशासन ने रोक लगा दी है। नतीजा मोहर्रम पर इस बार न इमामबाड़ों से ताजिये उठेंगे, न गणेश चतुर्थी पर घटस्थापना होगी। इतना ही नहीं डोल ग्यारस व अनंत चतुर्दशी पर निकलने वाले झूले-झांकियां भी नहीं निकलेंगी। सभी त्याेहार सांकेतिक रूप से पारंपरिक तरीके से मनेंगे। गुरुवार को तहसीलदार नित्यानंद पांडेय, सीएसपी प्रदीपसिंह राणावत ने नगरपालिका मीटिंग हॉल में सभी आयोजक की बैठक ली। इसमें उन्होंने बताया कि आगामी दिन में मोहर्रम, गणेश चतुर्थी, पर्युषण, डोल ग्यारस, अनंत चतुर्दशी मनाई जाना है। सार्वजनिक स्थानों पर किसी प्रकार की मूर्ति, झांकी, ताजिये आदि स्थपित नहीं किए जा सकेंगे। निजी तौर पर 5 से अधिक व्यक्ति एकत्र नहीं होंगे। सभी को फेस मास्क एवं शारीरिक दूरी के मानकों का कड़ाई से पालन करना होगा। यानी धार्मिक आयोजन पूर्णत: प्रतिबंधित रहेंगे। िनयमों का उल्लंघन करने वालों पर कार्रवाई होगी।

21 से मोहर्रम शुरू होंगे, 6 दिन तक अलग-अलग चौकियां धुलेंगी

मोहर्रम की शुरुआत 21 अगस्त से होगी। इसमें 6 दिन तक अलग-अलग चौकियां धुलेंगी। 7वें दिन मेहंदी की रस्म होगी। 8वें दिन अलम निकलेंगे, जिसमें 5 लोग शामिल होंगे। अगले दिन ताजियों का जुलूस निकलता है लेकिन इस बार ताजिये इमामबाड़े से ही बाहर नहीं आएंगे। न नगर भ्रमण करेंगे। सिर्फ परंपरा अनुसार रस्म अदा होगी और कर्बला मैदान पर होने वाली छींटे की रस्म भी इमामबाड़ों पर ही अदा होगी। अगले दिन कर्बला मैदान में खूंट का आयोजन होगा। सीरत कमेटी सेक्रेटरी मेहबूब भाई, ताजिया कमेटी सदर गुलाम मकदूम बाबा, इत्तेफाक कमेटी सदर पेपा पहलवान, खूंट कमेटी के सेक्रेटी मोइन खान, संयोजक आसिफ अनवर ने बताया हर साल जुलूस में 27 बड़े इमामबाड़ों से, 55 छोटे इमामबाड़ों से ताजिये बाहर निकलते हैं और इसी कारवे में मन्नत के ताजियों सहित 350 छोटे-बड़े ताजिये शामिल होते हैं। प्रशासन के नियमों के तहत इस बार सार्वजनिक आयोजन नहीं होंगे और कम से कम लोगों के बीच रस्म अदा की जाएगी।

22 को गणेश चतुर्थी
10 दिवसीय गणेशोत्सव की शुरुआत इस बार 22 अगस्त से होगी। कोरोना में इस बार गणेश पंडाल नहीं सजेंगे, न ही घटस्थापना होगी जबकि पूरे साल लोगों को गणेशोत्सव का इंतजार रहता है। हर बार 4 से 5 मुख्य स्थानों पर मिट्‌टी के गणेशजी की विराट प्रतिमाएं विराजित होती हैं। 10 दिवसीय धार्मिक आयोजन हाेते हैं। इस बार शासन के निर्देशों के अनुसार पर्व घरों में ही मनेगा।
इस बार नहीं निकलेंगे झूले
29 अगस्त को डाेल ग्यारस, 1 सितंबर को अनंत चतुर्दशी है। दोनों ही दिन सरकारी विभागों की झांकियों से लेकर सामाजिक स्तर पर झांकियां निकाली जाती हैं। इसे देखने के लिए ग्रामीण क्षेत्रों से लोग जुटते हैं। इस बार झांकियां नहीं निकलेंगी और ना ही लोग इकट्ठे हो पाएंगे।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज उन्नति से संबंधित शुभ समाचार की प्राप्ति होगी। धार्मिक और आध्यात्मिक कार्यों में भी कुछ समय व्यतीत होगा। किसी विशेष समाज सुधारक का सानिध्य आपके अंदर सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करेगा। बच्चे त...

और पढ़ें