पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

फैसला:बेटी की गवाही पर मां की हत्या के आरोपी पिता को आजीवन कारावास

जावरा3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • दो साल पहले का मामला, बेटी के बयान व साक्ष्य के आधार पर दी सजा

नगर से 5 किलोमीटर दूर ग्राम भूतेड़ा में दो साल पहले पति ने पत्नी की हत्या कर दी थी। मामले में बेटी की गवाही और परिस्थितिजन्य साक्ष्य के आधार पर कोर्ट ने पति को दोषी करार देते हुए आजीवन कठोर कारावास और विभिन्न धाराओं में 8 हजार अर्थदंड की सजा सुनाई है। बतां दें कि घटनाक्रम वाले दिन जब पुलिस ने बेटी से पूछताछ की तो उसने कहा था “”वो बाप नहीं राक्षस है, मिल जाए तो काट डालूं’’। अब उसी बेटी की गवाही के आधार पर पिता को सजा मिल गई। हत्याकांड के बाद से भाई और वह दोनों मामा के पास गांव बंजारी में निवासरत हैं। अतिरिक्त जिला अभियोजन अधिकारी विजय पारस ने बताया कि 28 अक्टूबर 2018 की रात करीब 10.30 से 11 बजे के बीच आरोपी राजाराम पाटीदार (42) ने पत्नी लक्ष्मीबाई (40) की हत्या कर दी थी। 16 वर्षीय बेटी मनीषा ने आईए थाने पहुंचकर रिपोर्ट दर्ज करवाई थी। इसमें उसने कहा था कि मैं भूतेड़ा रहती हूं। मेरे पिता राजाराम ड्राइवरी करते हैं और उनके पास खुद की तूफान गाड़ी है। घटना के तीन दिन पहले पिता राजाराम मेरी मां लक्ष्मीबाई से झगड़ा करके चले गए थे। 28 अक्टूबर की रात 10.30 बजे मैं और मां घर में बैठकर टीवी देख रहे थे और छोटा भाई महेश कमरे में सो रहा था। तभी दरवाजा खटखटाने की आवाज सुनकर मां ने दरवाजा खोला तो मेरे पिता राजाराम ने मां का हाथ पकड़कर बाहर खींच लिया। जबरन तूफान गाड़ी में बैठाया और अपहरण करके ले जाने लगे। मैं चिल्लाई कि मां को कहां ले जा रहे हैं, बचाओ तो आवाज सुनकर भाई महेश उठ गया। गांव के गोपाल खारोल भी आ गए और इन्होंने जीप के पीछे लटककर पिता को रोकने का प्रयास किया लेकिन वे गिर गए और पिता जावरा तरफ जीप में मां को लेकर चले गए। करीब आधे घंटे बाद पिता वापस जीप लेकर आए। घर के बाहर जीप खड़ी की और उसमें से उतरकर पिता खेत तरफ भाग गए। मौके पर मौजूद जितेंद्र, परमानंद और हमनें गाड़ी के अंदर जाकर देखा तो बीच वाली सीट पर मां मृत अवस्था में पड़ी थी और सिर से खून बह रहा था। तब उसने पुलिस को बताया था कि पिता ने ही मां की हत्या की है। वे अक्सर शराब पीकर मां के साथ मारपीट करते थे। इसलिए मां और हमने बोलना बंद कर दिया था। घटना के बाद जब पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार किया तब भी पुलिस के अनुसार राजाराम ने बयान दिए थे कि मेरी खराब आदतों की वजह से पत्नी ने बोलना बंद कर दिया था। मैं तीन दिन घर से बाहर रहा तब भी इन्होंने फोन नहीं लगाया। इसी गुस्से में घर पहुंचकर पत्नी को ले गया और गांव से एक किमी दूर पत्नी की हत्या करके वापस घर के सामने गाड़ी छोड़कर भाग गया। अभियोजन अधिकारी पारस के मुताबिक प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश मोहित कुमार ने प्रकरण में आरोपी की बेटी, बेटे और साले की गवाही तथा परिस्थिति जन्य साक्ष्य के आधार पर आरोपी राजाराम को दोषी पाया और उसे कठोर आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। अभियोजन के अनुसार कोर्ट ने यह टिप्पणी की कि भले ही बेटे, बेटी ने आंखों के सामने कत्ल होते नहीं देखा लेकिन ये निकट रिश्तेदार हैं तो झूठ क्यों बोलेंगे। फिर इन्होंने पिता को मां को अपहरण कर ले जाते हुए देखा तथा ठीक आधे घंटे में ही पिता उसी गाड़ी में मां को मृत छोड़कर भागा। इससे हत्या कारित होना पाया गया। इसी आधार पर कोर्ट ने यह फैसला सुनाया है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कुछ रचनात्मक तथा सामाजिक कार्यों में आपका अधिकतर समय व्यतीत होगा। मीडिया तथा संपर्क सूत्रों संबंधी गतिविधियों में अपना विशेष ध्यान केंद्रित रखें, आपको कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती हैं। अनुभव...

    और पढ़ें