पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

समाजसेवियों ने की पहल:साढ़े 3 साल में मुक्तिधाम का किया कायाकल्प,150 कुर्सियां लगवाईं

जावरा9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

रियावन-मावता रोड पर बना मुक्तिधाम जो साढ़े 3 साल पहले बदहाल था, आज वह सुंदर बगीचे के रूप में डेवलप हो गया है। सुख-सुविधाओं के बीच अब वहां लोग टहलने जाते हैं। ये सब मुमकिन हुआ है समाजसेवियों की पहल से। जनप्रतिनिधियों ने भी सहयोग किया। अब लोग मुक्तिधाम समिति से जुड़ रहे है़ और सुविधाओं को बेहतर बनाने की दिशा में काम कर रहे है। साढ़े 3 साल पहले समाजसेवी शैतानमल नाहर अध्यक्ष चुने गए थे। इसके बाद उन्होंने मुक्तिधाम को कायाकल्प बनाने का बी ड़ा उठाया और जनसहयोग लेकर मुक्तिधाम की सूरत बदल दी। पूर्व सांसद डॉ. लक्ष्मीनारायण पांडेय ने काष्ठागृह, विधायक व सांसद निधि से टीनशेड निर्माण कराया गया। छोटी-छोटी आवश्यकताओं की पूर्ति करते हुए सारी सुख-सुविधाएं जुटाईं। परिसर में 150 कुर्सियां लगाई गई हैं। समिति अध्यक्ष नाहर, मुक्तिधाम समिति सीताराम वाक्तरिया ने ग्रामीणों को दान राशि संग्रहित कर पानी की टंकी, नलों की व्यवस्था की। लोगों को बैठने से लेकर सामग्री जुटाने तक की व्यवस्था है। समाजसेवी दशरथसिंह सिसाैदिया, भानुप्रतापसिंह राठौर, जनपद अध्यक्ष प्रतिनिधि सुरेश धाकड़, समरथमल नाहर, रामचंद्र पटेल, बापूलाल बामता, वरदीराम धाकड़, राधेश्याम हमीणा, रणजीतसिंह राठौर सुविधा मुहैया कराने में जुटे हुए हैं। 80 वर्षीय गणेशीलाल नाहर की प्रेरणा से तीन शव दाह गृह, काष्ठागृह, 150 फीट लंबे टीनशेड, स्नानगृह, पेयजल टंकी, तार फेंसिंग, 300 छायादार पाैधे लगाए गए हैं। पूर्व में कई लोगों ने मुक्तिधाम की जगह पर अतिक्रमण कर रखा है। कई बार पंचायत व राजस्व विभाग को अवगत कराया लेकिन किसी ने नहीं सुनी। अब तार फेंसिंग कर सीमा चिह्नित की गई है।

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- धार्मिक संस्थाओं में सेवा संबंधी कार्यों में आपका महत्वपूर्ण योगदान रहेगा। कहीं से मन मुताबिक पेमेंट आने से राहत महसूस होगी। सामाजिक दायरा बढ़ेगा और कई प्रकार की गतिविधियों में आज व्यस्तता बनी...

और पढ़ें