दबंगों का दुस्साहस:अतिक्रमण हटाने गए पटवारी से मारपीट की गाली-गलौज, प्रशासन को बैरंग लौटना पड़ा

केरवासा9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • आरोपी पिता-पुत्र पर दोहरी एफआईआर, पटवारी व ग्रामीण दोनों ने की रिपोर्ट

ग्राम सरसी में सरकारी जमीन पर अतिक्रमण करके झोपड़ी बनाकर वहां मवेशी बांधे जा रहे हैं। ग्रामीणों की शिकायत पर रविवार दोपहर राजस्व अमला पुलिस बल के साथ अतिक्रमण हटाने पहुंचा। जहां जेसीबी के आगे खड़े होकर अतिक्रमणकर्ता परिवार की महिला व पिता-पुत्र ने गाली-गलाैज की। पिता-पुत्र ने तो पटवारी से झूमाझटकी करते हुए मारपीट की। मामले में आईए थाना पुलिस ने पटवारी व ग्रामीण की रिपोर्ट पर अतिक्रमणकर्ताओं पर दोहरा केस दर्ज किया है।

तहसीलदार बीएल बामनिया ने बताया कि ग्राम सरसी में पहले ग्राम सेवक क्वार्टर बना था, जो खंडहर होकर टूट गया। उस सरकारी जमीन पर गांव के ही रमेश पिता रामप्रसाद धोबी ने अतिक्रमण कर लिया। वहां झोपड़ी बनाकर मवेशी बांधे जा रहे। इसे लेकर कुछ लोगों ने एसडीएम से शिकायत की थी। जांच के बाद रविवार को हम सरसी चौकी प्रभारी दिनेश राठौर, पटवारी मदनलाल धाकड़ व टीम के साथ मौके पर गए। जैसे ही जेसीबी से अवैध कब्जा हटाने की कोशिश की तो वहां अतिक्रमणकर्ता रमेश धाबी, उसका बेटा रवि और परिवार की महिलाएं आ गईं।

इन्होंने पटवारी के साथ झूमाझटकी कर मारपीट की और गाली-गलाैज की। महिलाओं के विरोध और माहौल गरमाने से प्रशासन वापस लौट आया। मामले में पटवारी मदन धाकड़ ने आरोपी रमेश व उसके बेटे रवि के खिलाफ शासकीय कार्य में बाधा व मारपीट का केस दर्ज करवाया।

आईए थाना प्रभारी जनकसिंह रावत ने बताया कि इसी मामले में गांव के चरणसिंह राजपूत ने भी अतिक्रमणकर्ता रमेश, उसकी पत्नी रेखा व बेटे रवि के खिलाफ मारपीट व गाली-गलौज की रिपोर्ट करवाई है। इसमें चरणसिंह ने बताया कि आरोपियों ने ये कहते हुए हम ग्रामीणों के साथ गाली-गलौज की व झूठे केस में फंसाने की धौंस दी कि तुम लोगों ने अतिक्रमण हटाने के लिए तहसीलदार को बुलाया है। जबकि हमने शिकायत नहीं की है।

खबरें और भी हैं...