जावरा जैन समाज में तपस्याओं का दौर जारी:अन्न के त्याग से मन और शरीर शुद्धि की साधना

जावरा7 दिन पहले

जैन समाज में चातुर्मास का समय चल रहा और इस पवित्र समय में समाज के अनेक श्रावक श्राविका तपस्याएं कर रहे हैं। अन्न का त्याग कर शरीर और मन की शुद्धि के लिए 31 उपवास तक कर चुके हैं।

किसी ने 3 दिन, किसी ने 8 दिन तो किसी की 17 उपवास की तपस्या जारी हैं। हाल ही में वर्धमान स्थानकवासी जैन दिवाकर भवन में पूज्य साध्वी प्रियदर्शना श्रीजी मसा व साध्वी कल्पदर्शना श्रीजी मसा की प्रेरणा से मधु सोनी ने 31 उपवास की तपस्या की।

जिनका समाजजन ने बहुमान भी किया। इसी तरह पिपली बाजार निवासी पार्शवी महेंद्र कोचट्टा भईजी के 18 उपवास पूरे हो चुके व तपस्या जारी हैं। इससे पहले ओनिस पगारिया व सुजल दसेडा 17 उपवास कर चुके।

सोमवारिया निवासी मोना बंटी टुकडिया व अनेक 8 उपवास की तपस्या कर चुके। युवा नेता आशीष चौरडिया ने तो अन्न के साथ जल का भी त्याग कर 9 उपवास किए। चातुर्मास पूरा होने तक अन्य तपस्वियों की जानकारी भी सामने आएगी।

जैन समाज के सुभाष टुकडिया ने बताया चातुर्मास तपस्या के माध्यम से कर्मों की निर्जरा का समय हैं। अभी जावरा में करीब 30 से ज्यादा तपस्वियों के नाम सामने आए हैं। किसी ने 8 तो किसी ने 31 उपवास की तपस्या की। यह सभी के लिए प्रेरणा हैं।

तपस्वी पार्शवी कोचट्टा
तपस्वी पार्शवी कोचट्टा
अन्न जल त्याग कर 9 उपवास कर चुके आशीष चौरडिया
अन्न जल त्याग कर 9 उपवास कर चुके आशीष चौरडिया
खबरें और भी हैं...