गेहूं निर्यात बंद का असर:गुजरात में फंसे जावरा के व्यापारी ने वीडियो में बताया दर्द, बोले- एक गाड़ी पर हो रहा तीन लाख रुपए का नुकसान

जावरा3 महीने पहले

जावरा की कृषि मंडी के गेहूं व्यापारी सुनील दख ने गुजरात के कांडला पोर्ट के नजदीक गांधीधाम से एक वीडियो जारी कर अपना दर्द बताया है। करीब एक सप्ताह से सुनील गांधीधाम में अपने माल के ट्रकों के साथ फंसा हुआ है। उसने वीडियो में सरकार से न्याय करने की मांग की है।

दरअसल गेहूं के निर्यात पर भारत सरकार ने अचानक रोक लगा दी है। जिससे कांडला पोर्ट पर फंसे हजारों ट्रक में जावरा के व्यापारियों के भी करीब 40 ट्रक फंसे होने की जानकारी सामने आई। इसमें मंडी के प्रमुख गेहूं व्यापारी भी शामिल हैं।

एक गाड़ी पर तीन लाख का नुकसान

रविवार को जावरा के गेहूं व्यापारी सुनील दख का गुजरात से एक वीडियो सामने आया है। इसमें वे सरकार की ओर से अचानक गेहूं निर्यात पर रोक लगाने के कारण व्यापारियों को भारी नुकसान की बात बता रहे हैं। उनका कहना हैं कि 13 मई तक के ट्रक का माल यहां उतरना था हमारे ट्रक भी 12 को पहुंच गए थे लेकिन अधिकारियों ने खाली नहीं होने दिए। सरकार पहले सूचना देती तो हम ट्रक यहां लाकर परेशान नहीं होते।

जिन एक्सपोर्ट को हमने माल बेचा उन्होंने हाथ खड़े कर सरकार के निर्णय को दोषी ठहराया। जबकि ये अनुबंध शर्त का उल्लंघन कर रहे हैं। अब यहां पर कंपनियों के दलाल और ट्रांसपोर्टर की मनमानी से व्यापारी परेशान हैं। व्यापारियों को एक गाड़ी पर 3 लाख तक का नुकसान हो रहा।

सरकार को लेना चाहिए एक्शन-सुनील

वीडियो में व्यापारी सुनील ने आरोप लगाया कि जब निर्यात बंद है, तो यहां कंपनियों के दलाल औने-पोने दामों पर माल कैसे खरीद रहे हैं। ये सरकार की जिम्मेदारी बनती है कि वह ये सब रोके। सुनील का कहना है कि ट्रक ड्राइवरों के खाने पानी की व्यवस्था भी इनको करना पड़ रही। ट्रांसपोर्ट का एक लाख किराया यहां लाने का हुआ और ट्रांसपोर्टर परेशान कर रहे कि आपका माल वापस आपके यहां रवाना कर देंगे। जिसका 1 लाख किराया होगा। सरकार को न्ययोचित निर्णय लेना चाहिए।

खबरें और भी हैं...