पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

किसान कानूनों का विरोध:केंद्र सरकार द्वारा किसान विरोधी तीनों ही काले कानून वापस लेने तक जारी रहेगी हमारी लड़ाई

मल्हारगढ़16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
किसान आंदोलन में शहीद हुए किसानों को श्रद्धांजलि देते नर्मदा बचाव आंदोलन की संस्थापक पाटकर, पूर्व सांसद नटराजन सहित कार्यकर्ता - Dainik Bhaskar
किसान आंदोलन में शहीद हुए किसानों को श्रद्धांजलि देते नर्मदा बचाव आंदोलन की संस्थापक पाटकर, पूर्व सांसद नटराजन सहित कार्यकर्ता

केंद्र सरकार ने कृषि विरोधी कानून बनाए हैं। जब तक ये तीनों काले कानून वापस नहीं लिए जाते तब तक लड़ाई जारी रहेगी। मंदसौर का किसान आंदोलन एक जन आंदोलन बना व आज देशभर में जगह-जगह आंदोलन हो रहे है। राजनीति आजकल बाजार हो गई है इसलिए ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस से भाजपा में चले गए हैं। यह बात किसान नेता व नर्मदा बचाओ आंदोलन की नेता मेधा पाटकर ने कही। वे रविवार को किसान आंदोलन की चौथी बरसी पर गांव टकरावद में हुई श्रद्धांजलि सभा में आई थीं। इससे पहले शहीद किसानों को 2 मिनिट का मौन रखकर श्रद्धांजलि दी गई।

6 जून 2017 काे किसान आंदोलन के दौरान हुए गोलीकांड में टकरावद निवासी पूनमचंद पाटीदार, चिल्लौद पिपलिया निवासी कन्हैयालाल पाटीदार, बरखेड़ापंथ निवासी अभिषेक पाटीदार, लोध निवासी सत्यनारायण धनगर, नयाखेड़ा निवासी चैनराम पाटीदार की गोली लगने से मौत हुई थी व बड़वन निवासी घनश्याम धाकड़ की पुलिस हिरासत में मौत हो गई थी।

ब्लाॅक कांग्रेस ने दी श्रद्धांजलि
रविवार को ब्लॉक कांग्रेस ने बरखेड़ापंथ में श्रद्धांजलि सभा की। इस दौरान किसान आंदोलन में शहीद अभिषेक पाटीदार की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि दी। अभिषेक की मां अलका पाटीदार भी मौजूद थीं। ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष अनिल शर्मा, उपाध्यक्ष अजीत कुमठ, रामचंद्र करुण सहित कांग्रेसजन मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...