पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

संदेश:‘बिना साहस, समझ व संकल्पों के व्यक्ति आपराधिक जीवन से मुक्त नहीं हो सकता’

मंदसौर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • नवकार भवन में जैनाचार्य विजयराजजी ने ‘अपराध क्यों होते हैं?’ विषय पर दिए प्रवचन

मानव की मनोवृत्ति से आपराधिक प्रवृत्तियों का जन्म होता है। विशुद्ध मनोदशा तो व्यक्ति को जीवन की ऊंचाइयों पर ले जाकर उसे इंसान और भगवान बना देती है, जबकि अपराध मलीन अंतरंगता से जन्म लेकर इंसान को हैवान बना देते हैं। हर युग में अपराध व अपराधियों का बोलबाला रहता है, ये व्यक्ति को नैतिक ऊंचाइयों से गिराकर अनैतिक ही नहीं पाश्विक और पैशाचिक स्तर पर ला देते हैं। अपराधी न केवल अपने जीवन में दु:खी होता है, उसका परिवार भी संकटों से घिर जाता है। उसकी सामाजिक प्रतिष्ठा भी नहीं रहती उसे घृणा, नफरत की दृष्टि से देखा जाता है। सभ्य समाज में उसका कोई भरोसा नहीं करता। अपराधों की दुनिया में प्रवेश करना आसान है, मगर निकलना कठिन हो जाता है। बिना साहस, समझ और संकल्पों के जगे व्यक्ति आपराधिक जीवन से मुक्त नहीं हो सकता। ये विचार शास्त्री कॉलोनी स्थित नवकार भवन में विराजित जैनाचार्य विजयराजजी मसा ने ‘अपराध क्यों होते हैं? विषय पर प्रसारित अपने मंगल संदेश में कहे। उन्होंने कहा कि चोरी-डकैती, बलात्कार जैसे अपराध वही व्यक्ति करता है जो परिश्रम से जी चुराता है। बिना परिश्रम से अधिक पैसा प्राप्त करने की हवस में व्यक्ति अपराधों के अरण्य में उतर जाता है, फिर अज्ञानता, अकर्मण्यता की भूल-भुलैया में खो जाता है। पहले अपराध में वह रोता है, दूसरी बार में वह हंसता है, तीसरी बार के बाद वह अपराध उसकी आदत बन जाता है, आदतन अपराधी को अपने कृत्यों पर कभी पश्चाताप नहीं होता। कर्मशील मानव को अपनी भुजाओं एवं अपने पौरूष पर विश्वास होता है इसलिए वह कभी भी अपराधों के दंगल व जंगल में नहीं फंसता, वह पैसांे का लालच नहीं रखता। पैसों का लालच ही व्यक्ति को अपराधी बनाता है। आचार्यश्री ने कहा कि अपराधों की राह बहुत गूढ़ होती है, इसमें फंसने के बाद व्यक्ति का निकलना बहुत मुश्किल होता है। उसे कई बार सही राह दिखाने वाले भी मिलते हैं, मगर उसकी बुद्धि पर ऐसा पर्दा आ जाता है। अपराध का रास्ता गिरने का रास्ता है। शारीरिक दु:ख, पारिवारिक कलह, मानसिक क्लेश और सामाजिक अपयश अपराधी के सामने खड़े ही रहते हैं। संभल पाना और संभलकर स्थिर रहना ये दोनों कार्य आदतन अपराधी के लिए चुनौतीभरे होते हैं। जो साहसी होते हैं वे संभल जाते हैं और अपनी दिशा बदल लेते हैं। आचार्यश्री ने कहा कि इस क्षेत्र में जाने पर धर्म का तो नाश होता ही है मगर धन भी कलंकित हो जाता है। धर्म के क्षेत्र मंे लगा हुआ धन धर्म बनकर फलदायी बनता है और अपराध के क्षेत्र में लगा धन सब पुण्यों को गला देता है। जैसे आग सबको जलाकर राख कर देती है, इसी तरह अपराधों से भाग्य, पुण्य, सुख, शांति, आनंद व अमन चैन सब जलकर राख हो जाते हैं। अच्छे इंसान भूल करके भी अपराधों की गली में पैर नहीं रखते। भूल से कभी चले जाते हैं तो समझ आते ही वापस लाैट अाते हैं। जो सुख संतोष में है, वो पैसों के लोभ में नहीं है। लोभ सर्व विनाशकारी है, इस सत्य को समझें।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपनी दिनचर्या को संतुलित तथा व्यवस्थित बनाकर रखें, जिससे अधिकतर काम समय पर पूरे होते जाएंगे। विद्यार्थियों तथा युवाओं को इंटरव्यू व करियर संबंधी परीक्षा में सफलता की पूरी संभावना है। इसलिए...

और पढ़ें