पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सुकन्या याेजना:1 लाख बच्चियों के खाते नहीं खुले

मंदसौर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

जिले में सुकन्या योजना के तहत 10 वर्ष तक की सभी बच्चियाें के खाते खोले जा रहे हैं। 6 साल में जिले में करीब 46 हजार खाते खोले हैं। अनुमान के आधार पर 1 लाख बालिकाएं अभी भी वंचित हैं। अधिकारियों का दावा है कि इस माह के अंत तक लक्ष्य को पूरा किया जाएगा। इसके लिए डाकघर के साथ महिला एवं बाल विकास विभाग भी जुटेगा। आंगनवाड़ियों को लक्ष्य भी प्रदान किए हैं।

साथ ही कलेक्टर ने भी जिला कार्यालय अधिकारी काे भी निर्देशित किया है।प्रदेश में सुकन्या समृद्ध योजना 2015 में लागू हुई थी। इसके बाद से अब तक 10 साल से कम उम्र की 46 हजार लाड़लियों के खाते खोले हैं। डाकघर अधीक्षक राजेश कुमावत ने बताया वंचित बालिकाओं के माता-पिता को समझाइश देकर खाते खोलेंगे।

हर घर से जानकारी एकत्र की जाएगी
अभी तक समृद्ध याेजना के तहत खाते खाेलने के कार्य पोस्ट मास्टर ही कर रहे थे। अब आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं का सहयोग लेने से हर घर से जानकारी एकत्र की जाएगी। साथ ही अंचल क्षेत्र में पोस्ट मास्टर भी सूची लेकर इस योजना से कन्याओं को जोड़ने का कार्य करेंगे।

आंगनवाड़ियों को दिया 60-60 खातों का लक्ष्य
याेजना में गति लाने के लिए डाक विभाग के साथ महिला बाल विकास विभाग के सहयोग से अभियान शुरू किया। जिले में 1700 से अधिक आंगनवाड़ियां हैं। इनमें सभी कार्यकर्ताओं को 60-60 खातों का लक्ष्य दिया है।

खबरें और भी हैं...