पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मकर संक्रांति कल:सड़कों पर चारा ना डालें, गोशाला की रसीद कटाकर करें दान

मंदसौर14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • गाेशाला में रसीद कटवाने पर सालभर गाेवंश को अच्छा भोजन व स्वास्थ्य सुविधा मिल सकेगी

मकर संक्रांति पर्व पर लोग जहां गाय दिखी वहीं सड़कों पर चारा खिलाने के लिए डाल देते हैं। इस दिन विशेष कर शहर में गांधीचौराहा, महाराणा प्रताप बस स्टैंड, नाहटा चौराहा व कई जगह चारा डालते हैं। गोवंश इतना चारा नहीं खा पाते, इससे सड़कों पर गंदगी होती है जिससे रहवासी परेशान होते हैं। इस समस्या के समाधान के लिए गोशाला संचालन समितियों ने मकर संक्रांति पर सड़कों पर चारा डालने की बजाए रसीद कटवाने का आग्रह किया है। इससे गोशाला के गोवंश के भोजन-पानी की अन्य दिनों के लिए व्यवस्था भी हो जाएगी और शहर में गंदगी भी नहीं होगी। गोपाल कृष्ण गाेशाला में करीब 3000 गोवंश हैं। समिति अध्यक्ष अनिल संचेती ने बताया कि लोग जिस पुण्य भाव से गोवंश का चारा डालते हैं। उससे दिन भर गाेवंश सड़कों पर भ्रमण करते रहते हैं। इससे दुर्घटना की अाशंका भी बढ़ जाती है। इसमें आम आदमी व गाेवंश भी घायल हो सकते हैं। ऐसे में लोग गोशालाओं में जाकर चारा निमित्त राशि दान करें, जिससे गोवंश के लिए वर्षभर की भोजन व्यवस्था में काम आ सके। उन्होंने बताया कि इस साल हम गोदान को लेकर लोगों को प्रेरित कर रहे हैं ताकि गोशाला में पलने वाली गाय के लिए निर्धारित या श्रद्धानुसार राशि देकर गोदानी बनें। मकर संक्रांति पर चारा सड़कों पर डालने की जगह बस स्टैंड स्थित गाेशाला में गायों काे चारा भी डाल सकते हैं। वर्षभर इनके उपचार व भोजन के लिए रसिद भी कटवा सकते हैं। यहां गुड़, कपासे के लड्‌डू भी उपलब्ध रहेंगे। दान की रसीद कटवाकर सालभर पुण्य लाभ ले सकते हैं।

हांडिया बाग हनुमान गाेशाला सीतामऊ
गाेशाला सचिव संजय सौनी ने बताया कि गाेशाला में करीब 800 गाेवंश हैं। शहर में जो चारा लेकर खड़े रहते हैं। वह उसी के पास अपनी गायों को छोड़ देते हैं। चारा डालने से उनकी गायों के साथ आवारा पशुओं को भी भोजन मिलता है लेकिन वह केवल एक दिन। गाेशालाओं में ऐसे ही गाेवंश रहते हैं जिन्हें लोग छोड़ चुके हाेते हैं। ऐसे में लोग यदि संक्रांति पर गाेशालाओं में पहुंच कर रसीद कटवाते हैं तो इससे एक दिन की बजाय कई दिनों तक गाेवंश को पर्याप्त आहार मिल सकेगा। इससे गोशाला संचालन व गाेवंश की अच्छे से देखरेख में भी मदद मिलेगी।

अखिलानंनद सरस्वती गाेशाला दलौद
कोषाध्यक्ष ईश्वरलाल पाटीदार ने बताया कि गाेशाला में करीब 700 गाेवंश रहते हैं। यह गाेशाला दलौदा व धुंधड़का के बीच है। हर साल लोग गोवंश को चारा खिलाने आते हैं। यहां चारा व गुड़, खली, कपास्या का दान भी कर सकते हैं। लोगों को एक दिन दान करने की बजाय गाेशाला में रसीद कटवाना चाहिए। मकर संक्रांति का पर्व दानपुण्य का रहता है लेकिन क्या एक ही दिन में सालभर का भोजन किया जा सकता है। ऐसा नहीं होता इसलिए लोग गाेशाला पहुंच चारा खिलाने के साथ इच्छानुसार रसीद भी कटवा सकते हैं। जिससे गाेवंश के लिए सालभर भोजन, स्वास्थ्य की अच्छी सुविधाएं जुटाई जा सकें।

मकर सक्रांति महीने भर चलने वाला पर्व

^मकर संक्रांति का पर्व 14 जनवरी से 14 फरवरी तक रहता है। दान हम केवल मकर संक्रांति पर ही नहीं बल्कि महीनेभर कर सकते हैं क्योंकि यह महीनेभर चलने वाला पर्व है। 12 राशियों में सूर्य के प्रवेश वाले दिन अर्थात प्रत्येक महीने की 14 तारीख को भी दान कर सकते हैं। लोगों का दान तभी सार्थक होता है जब उसका सदुपयोग हो। पंडित दशरथ शर्मा, भागवताचार्य

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज आप में काम करने की इच्छा शक्ति कम होगी, परंतु फिर भी जरूरी कामकाज आप समय पर पूरे कर लेंगे। किसी मांगलिक कार्य संबंधी व्यवस्था में आप व्यस्त रह सकते हैं। आपकी छवि में निखार आएगा। आप अपने अच...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser