पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

दूषित पानी:रणायरा से छोटी आत्री गांव तक 45 किमी में गांधीसागर का पानी पूरी तरह दूषित

मंदसौरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 25 से अधिक लोग बीमार, 5 गोवंश की मौत, 15 से अधिक का अब भी चल रहा इलाज

नागदा- उज्जैन की फैक्ट्रियों के वेस्टेज केमिकल से स्थिति बिगड़ती जा रही है। इससे गांधीसागर के बैक वाटर एरिया में नाहरगढ़ के पास रणायरा, झालरा से मंदसौर जिले के अंतिम गांव छोटी आत्री तक करीब 45 किमी का पानी पूरी तरह दूषित हो गया है। इससे छोटी आत्री में 25 से अधिक लोग बीमार हैं। 5 से ज्यादा भैसों की मौत हो गई व 15 से ज्यादा भैंसें बीमार हैं। ग्रामीणों ने तहसीलदार को स्थिति से अवगत कराया है। इधर, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड का कोई जिम्मेदार जांच के लिए नहीं पहुंचा। वे गुरुवार को सैंपल लेने आने की बात कह रहे हैं। भास्कर टीम बुधवार को मंदसौर जिले के आखिरी गांव छोटी आत्री पहुंची। यहां भी गांधीसागर के बैक वाटर में पानी की स्थिति बहुत खराब मिली। गंदे पानी व बदबू से 1 हजार की आबादी वाले गांव में 25 से अधिक लोग बीमार हैं। यही नहीं गांव में पिछले कुछ दिनों से 5 से ज्यादा मवेशियो की मौत हो चुकी है वहीं 15 से अधिक भैंसें व गोवंश बीमार हैं। गांव के फूलचंद रेबारी की भैंस की 3 दिन पहले मौत हुई। लक्ष्मण बगदीराम रेबारी, शांतिलाल घासीराम की भैंस 4 दिन से बीमार है। गांव के भेरूलाल रायका, हेमराज रायका, विनोद गोस्वामी, बालूराम केवट, कारूलाल रायका ने बताया कि पहली बार गांधीसागर का बैक वाटर दूषित हुआ है। स्थिति इतनी खराब है कि इसकी बदबू से इसके आसपास से गुजरना व रहना तक मुश्किल हो गया है। लाेग भी बीमार हैं जिसकी जानकार मल्हारगढ़ तहसीलदार प्रीति भिसे को दी है लेकिन अब तक कोई जांच के लिए नहीं आया।

गंदे पानी की वजह से लोग व मवेशी दोनों बीमार हो रहे
जांच कर रहे नीमच जिले के पशु चिकित्सक मदनलाल डाबे ने बताया कि मवेशी पेट की खराबी की वजह से बीमार हो रहे हैं। जब तक पानी की जांच नहीं होती कुछ कहा नहीं जा सकता। लेकिन पूरी आशंका है कि गंदे पानी की वजह से लोग व पशु दोनों बीमार हो रहे हैं। अभी गांव में करीब 10 मवेशियों का मैं इलाज कर रहा हूं, इसके अतिरिक्त और भी बीमार हैं।
किसान लगातार दूषित पानी को लेकर शिकायत कर रहे
मंदसौर जिले के बीच गांधीसागर का पानी भरा है उसमें नीमच की तरफ से मल्हारगढ़ तहसील का पहला गांव छोटी आत्री आता है। यहां से सरवानिया, दोबड़ा, अरनिया जटिया, छायन, पारली, संजीत, टिडवास, आक्यामेडी, डोरी, रायसिंग, पिपलिया, ढाडी, खात्याखेड़ी, खेडा, खूंटी, कोयला, बिल्लोद, सीतामऊ तहसील के गांव रणायरा, देवरी, बल्लाहेड़ी, पायाखेड़ी, रामगढ़ तक करीब 45 किमी से भी ज्यादा एरिया में पानी दूषित हो गया है। इन गांवों के किसान लगातार दूषित पानी को लेकर शिकायत कर रहे हैं।

पर्यावरण मंत्री तक के क्षेत्र में अधिकारी गंभीर नहीं

वर्तमान में जिले के ही हरदीपसिंह डंग पर्यावरण मंत्री हैं। इसके बाद भी प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारी गंभीर नहीं हैं। गांधीसागर के बैक वाटर में बड़ी मात्रा में पानी खराब हो रहा बुधवार तक कोई अधिकारी सैंपल के लिए नहीं पहुंचा। मामले में प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड उज्जैन के प्रबंधक हेमंत तिवारी ने बताया कि बुधवार को ताल-नागदा के पास से सैंपल लिए। मंदसौर में गुरुवार को टीम भेजी जाएगी। वह सैंपल लेकर स्थिति का जायजा लेगी।
पानी की जांच व लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण करेंगे

मल्हारगढ़ तहसीलदार प्रीति भिसे ने बताया कि छोटी आत्री के ग्रामीणों ने पानी खराब होने की जानकारी दी है। गुरुवार को पीएचई, स्वास्थ्य, पशुपालन, राजस्व की टीमें गांव पहुंच कर पानी व लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण करेंगे।

ना पीने का पानी मिल रहा ना पशुओं के लिए उपलब्ध
^ कल मैं भागोर की तरफ गया था। वहां का सारा पानी खराब हो गया। किसानों को ना पीने का पानी मिल रहा ना पशुओं के लिए साफ पानी मिल रहा। फसलों पर भी इसका असर पड़ रहा है। मामला गंभीर है, इसके लिए मैं स्वयं उज्जैन कलेक्टर से चर्चा करूंगा। समस्या का जल्द समाधान कराया जाएगा। आचार संहिता खत्म होते ही शासन स्तर तक जिम्मेदार अधिकारियों से जवाब मांगा जाएगा।
-यशपालसिंह सिसौदिया, विधायक, मंदसौर
मुआवजा लेंगे नहीं तो आंदोलन किया जाएगा
^यदि इस तरह का केमिकल वाला पानी आया है तो इससे निश्चित ही फसलें व खेतांे की जमीन भी खराब होगी। हमारे क्षेत्र का किसान पहले ही परेशान है। नुकसानी हुई तो हम सरकार सेे मुआवजा लेंगे। जरूरत पड़ी तो किसान आंदोलन शुरू किया जाएगा।
अमृतराम पाटीदार, किसान नेता, मालवा किसान संगठन​​​​​​​

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर-परिवार से संबंधित कार्यों में व्यस्तता बनी रहेगी। तथा आप अपने बुद्धि चातुर्य द्वारा महत्वपूर्ण कार्यों को संपन्न करने में सक्षम भी रहेंगे। आध्यात्मिक तथा ज्ञानवर्धक साहित्य को पढ़ने में भी ...

और पढ़ें