पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

तितली संरक्षण:राष्ट्रीय तितली की दौड़ में गांधीसागर की कॉमन जेझेबेल अंतिम तीन में, अब ऑरेंज आकलीफ और कृष्ण पिकॉक से है मुकाबला

मंदसौर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • देश में पाई जाने वाली 1500 तितलियों में से सात की लिस्ट तैयार की, 11 सितंबर से 8 अक्टूबर तक ऑनलाइन वोटिंग कराई

लॉकडाउन के दौरान देशभर के तितली विशेषज्ञों ने तितली संरक्षण के लिए राष्ट्रीय तितली घोषित कराने के लिए अभियान चलाया है। विशेषज्ञों ने देश में मिलने वाली प्रजातियों में से सात तितलियों का चयन कर ऑनलाइन सर्वे कराया। तीन तितलियों को सबसे अधिक पसंद किया गया। इसमें गांधीसागर में पाई जाने वाली कॉमन जेझेबेल भी शामिल हैं। इसी के साथ ऑरेंज आकलीफ व कृष्ण पिकॉक टॉप थ्री में है। राष्ट्रीय तितली निर्वाचन संघ अपनी राय व लोगों की वोटिंग रिपोर्ट दिल्ली पर्यावरण मंत्रालय को सौंपेगा। वहीं से नेशनल बटर फ्लाय की घोषणा होगी। कोरोना संक्रमण से बचने के लिए लगाए गए लॉकडाउन से पर्यावरण को काफी लाभ मिला। इस लॉकडाउन के कारण देश को नेशनल बटर फ्लाय मिलने वाली है। देश में राष्ट्रीय पशु, पक्षी तो है लेकिन राष्ट्रीय तितली नहीं है। ऐसे में लॉकडाउन में देशभर के तितली विशेषज्ञों व प्रेमियों ने इस पर विचार कर शुरुआत की। महाराष्ट्र के तितली विशेषज्ञ दिवाकर थाेम्बरे ने देशभर के 100 तितली विशेषज्ञों को मेल कर राष्ट्रीय तितली अभियान के बारे में जानकारी दी। कुछ ही दिनों में देशभर के 50 से अधिक तितली विशेषज्ञ शामिल हुए। इन्होंने राष्ट्रीय तितली निर्वाचन संघ का गठन किया। इसमें मुख्य रूप से एनसीबीएच बैंगलुरू के तितली विशेषज्ञ कृष्णमेघ कुंते, इंदौर के अनिल नागर, मुम्बई के डॉ अमूल पटवर्धन, डॉ विजय बरवे, तमिलनाडु के शरण वेंकटेश, असम से अर्जन बासू शामिल हैं। इन्होंने देश में पाई जाने वाली 1500 तितलियों में से सात की लिस्ट तैयार की। 11 सितंबर से 8 अक्टूबर तक ऑनलाइन वोटिंग कराई। इसमें देशभर के लोगों ने तीन इंडियन या कॉमन जेजेबल तितली, ऑरेंज आकलीफ व कृष्ण पिकॉक को सबसे ज्यादा पसंद किया। अब संघ अपनी रिपोर्ट व वोटिंग दिल्ली पर्यावरण मंत्रालय को सौंपेगा। मंत्रालय द्वारा ही नेशनल बटर फ्लाय की घोषणा की जाएगी।

गांधीसागर में पाई जाती हैं इंडियन जेझेबेल गांधीसागर का भौगोलिक क्षेत्र व जैव विविधता का संसार कई वन्य जीवों के अनुकूल वातावरण देता है। यहां उदबिलाऊ, मगरमच्छों ही नहीं 226 से ज्यादा पक्षियों की प्रजातियां मिली हैं। प्रदेश में पन्ना के बाद सबसे ज्यादा गिद्ध गांधीसागर में है। यहां का वातावरण तितलियों के लिए भी लाभदायक है। बर्ड सर्वे में शामिल विशेषज्ञों को गांधीसागर में 35 से अधिक तितलियों की प्रजातियां मिली थी। हालांकि गांधी सागर में तितलियों का सर्वे नहीं हुआ है। विशेषज्ञों की माने तो 40 से ज्यादा तितलियों की प्रजातियां मिल सकती हैं। जंगल के क्षेत्र में कई दुर्लभ तितलियों के मिलने की संभावना है।ण्

राष्ट्रीय तितली के लिए निम्नलिखित मापदंड बनाए हैं

  • नामित तितली का राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पर्यावरणिक एवं संरक्षण का महत्त्व होना चाहिए।
  • नामित तितली दिव्य सुंदर एवं करिश्माई होनी चाहिए।
  • नामित तितली में जैविक आकर्षण निहित होना चाहिये ताकि लोग उसे देखकर मंत्रमुग्ध हो सकें।
  • नामित तितली की सरलता और स्पष्टता से पहचान हो सके।
  • नामित तितली किसी भी रूप में हानिकारक न हो।
  • नामित तितली की प्रजाति में अधिक विभिन्नता नहीं होनी चाहिए।
  • जो पहले से ही राज्य द्वारा नामित हो उसे नामित न किया जाए।

तितलियों के लिए इन सात में वोटिंग कराई

  • कृष्ण पिकॉक
  • कॉमन जेझेबेल
  • ऑरेंज ओकलीफ
  • फाईबार सवर्ड टेल
  • इंडियन नावाब
  • येलो गोर्गोन
  • नॉर्दन जंगल क्वीन

इसलिए संरक्षण की जरूरत
महाराष्ट्र के तितली विशेषज्ञ दिवाकर थाेम्बरे ने बताया कि तितलियों की प्रजातियां तेजी से कम होती जा रही हैं। सर्वे के अनुसार पिछले दस सालों में तितलियों की तादात 60 फीसदी कम हो गई है। यहीं स्थिति रही तो 2030 तक हमंे यह कहना पड़ेगा की तितलियां हुआ करती थी।
संरक्षण के लिए उठाया कदम
^नेशनल बटर फ्लाय बन जाए तो इसके माध्यम से तितलियों का महत्व देश में फैलाएंगे। यह पर्यावरण के लिए जरूरी है। लेकिन अभी इस पर ध्यान नहीं दिया जा रहा। तितली यदि 100 अंडे देती है तो उसमें से दो या तीन ही तितली बनती है। यह फूड चेन का बहुत बड़ा सोर्स है।
- अनिल नागर, तितली विशेषज्ञ, सेवानिवृत्त मुख्य वन संरक्षक इंदौर।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज व्यक्तिगत तथा पारिवारिक गतिविधियों के प्रति ज्यादा ध्यान केंद्रित रहेगा। इस समय ग्रह स्थितियां आपके लिए बेहतरीन परिस्थितियां बना रही हैं। आपको अपनी प्रतिभा व योग्यता को साबित करने का अवसर ...

और पढ़ें