अच्छी व लगातार बारिश:सावन के 14 दिन में ही औसत बारिश का 75% कोटा पूरा, 24 इंच दर्ज, अब 9 इंच की जरूरत

मंदसौर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • अच्छी व लगातार बारिश से शिवना में आवक, रेतम बैराज के सीजन में दूसरी बार सभी गेट खोले

जिले में सावन की शुरुआत से ही बारिश का दौर जारी है। अच्छी बारिश के चलते जिले की औसत का 75 प्रतिशत कोटा पूरा हो गया है। अब तक 24 इंच बारिश हो चुकी है। इसके चलते शनिवार को रेतम बैराज के सभी 24 गेट खोले गए। वहीं शिवना में भी आवक होने से पशुपतिनाथ मंदिर के पास छोटी पुलिया जलमग्न हो गई। औसत के लिए 9 इंच की जरूरत है।

जिले में शनिवार सुबह 8 बजे तक 24.09 इंच बारिश दर्ज की गई है। गतवर्ष पूरे साल में 23.87 इंच ही बारिश हुई थी। जिले में औसत बारिश का आंकड़ा 33 इंच है और अभी बारिश के 2 माह बाकी है। औसत के लिए जिले को मात्र 9 इंच बारिश की जरूरत है। मौसम वैज्ञानिक के अनुसार दो माह में एक सिस्टम भी आ गया तो औसत बारिश पूरी हो जाएगी। इससे भी अधिक भी हो सकती है। मौसम वैज्ञानिक डॉ. डी.पी. दुबे ने बताया कि ग्वालियर के ऊपर बना लो प्रेशर एरिया कमजोर हो रहा है। एक-दो दिन में मौसम साफ होने लगेगा। हल्की लोकल बारिश होती रहेगी। अच्छी बारिश के लिए इंतजार करना होगा। 15 अगस्त के आसपास नया सिस्टम बनने की संभावना है।

शिवना की छोटी पुलिया रही जलमग्न, पैदल निकलते रहे लोग

शिवना में भी शनिवार सुबह पानी की आवक तेज हो गई। इससे कालाभाटा के 2 गेट 3 फीट तक खोले गए। पानी की आवक होने पर शनिवार सुबह पशुपतिनाथ मंदिर के पास छोटी पुलिया जलमग्न हो गई। हालांकि दोपहर बाद पानी कम हुआ लेकिन पुलिया के ऊपर से बहता रहा। इसके बाद भी लोग पुलिया को पैदल पार करते दिखाई दिए। सुरक्षा व्यवस्था की कमी नजर आई।

भानपुरा और गरोठ क्षेत्र में सर्वाधिक बारिश

जिले में 24 घंटे में शनिवार सुबह 8 बजे तक सर्वाधिक बारिश भानपुरा व गरोठ क्षेत्र में हुई। भानपुरा में 96.4 मिमी करीब 4 इंच बारिश हुई। इसके बाद गरोठ में 88 मिमी करीब सवा 3 इंच बारिश दर्ज हुई। इसके साथ गरोठ में अब तक 915 मिमी करीब 36.6 इंच बारिश दर्ज हो चुकी है। शनिवार को भी जिले में न्यूनतम तापमान 22 डिग्री दर्ज हुआ जो शुक्रवार से एक डिग्री कम रहा।

वहीं अधिकतम तापमान भी 24 डिग्री ही दर्ज हुआ। इधर शामगढ़ में सोनारी डेम ग्राम बसई व कुरावन के बीच ओवरफ्लो हो रहा है। इससे 8 गांवों की सिंचाई की जाती है। लगभग 4 वर्ष पूर्व इसका निर्माण किया गया था। अति प्राचीन भड़केश्वर मंदिर इसी नदी के किनारे स्थित है। इस डेम से लगभग 800 मीटर दूर जाकर यह नदी चंबल में मिलती है।

नीमच में अच्छी बारिश से रेतम ओवरफ्लो

नीमच क्षेत्र में अच्छी बारिश होने से रेतम नदी में आवक बनी हुई है। इससे इस बारिश में दूसरी बार बैराज के सभी 24 गेट शनिवार को खोले गए। हालांकि जलसंसाधन के अधिकारियों के अनुसार तो इस समय तक नदी में आवक होने से बांध फुल हो जाता है। जिले के सबसे बड़े गांधीसागर बांध का वाटर लेवल अभी 1297.88 फीट ही है। ​​​​​​​

खबरें और भी हैं...