पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

ठंड का असर:न्यूनतम का पारा 6 डिग्री, 7 दिन में 4 डिग्री गिर चुका, अफीम फसल में 30% नुकसान की आशंका

मंदसौर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार अब पूर्व की हवाएं बढ़ाएंगी गर्मी

जिले में ठंड का असर तेज होता जा रहा है। शनिवार को शहर में न्यूनतम तापमान 6 डिग्री तक पहुंच गया। इसमें 7 दिन में 4 डिग्री की गिरावट दर्ज हुई। इससे अफीम फसल में 30% तक नुकसानी की आशंका है। जिले में पिछले कुछ दिन से तापमान में गिरावट दर्ज हो रही है। उत्तर में बर्फबारी अधिक होने से वहां से ठंडी हवाएं जिले की तरफ आ रही हैं। इससे रात का तापमान तेजी से गिर रहा है। शुक्रवार को न्यूनतम तापमान 7.2 डिग्री दर्ज हुआ था। जबकि शनिवार को यह 6 डिग्री पर पहुंच गया। सुबह ठंड अधिक होने से दोपहर के अधिकतम तापमान में भी कमी आई है। शुक्रवार को शहर में अधिकतम तापमान 23 डिग्री था जो शनिवार को 20.6 तक गिर गया। रविवार को भी कड़ाके की ठंड गिरने की संभावना है। मौसम वैज्ञानिक डॉ. एस.एन. मिश्रा ने बताया कि अभी उत्तर की हवाओं के चलते ठंड का असर तेज हो रहा है। रविवार को भी ठंड अधिक हो सकती है।

1 फरवरी से उत्तर की जगह पूर्व से हवाएं चलने की संभावना है। पूर्व की हवाएं चलती हैं तो वह अपने साथ गर्मी लाएंगी। इससे तापमान में वापस तेजी दर्ज होगी। फरवरी के तीन-चार दिन यह स्थिति रहेगी। अधिकतम तापमान में चार से पांच डिग्री की तेजी दर्ज होने के बाद वापस उत्तर की हवाएं तेज होंगी। इससे ठंड का एक दौर वापस फरवरी के पहले व दूसरे सप्ताह में आएगा। यह ठंड काफी तेज होगी।

अफीम फसल में काली मस्सी व वायरस, पौधों की ग्रोथ रुकी, पीली पड़ने से सड़ रही फसल
धुंधड़का | इस बार मौसम अनुकूल नहीं होने के कारण किसान फसलों को लेकर परेशान हैं। ज्यादा परेशानी अफीम किसानों को आ रही है। अफीम में काली मस्सी के साथ वायरस का प्रकोप देखने को मिला है। पौधों की ग्राेथ रुकने के साथ पत्ते पीले पड़ गए हैं। वैज्ञानिकाें के अनुसार अधिक ठंड पड़ने से ऐसे हालात बने हैं। अगले एक सप्ताह तक ठंड का असर ज्यादा रहेगा। किसानों को फसल बचाने के लिए ठोस उपाय करने होंगे।
किसानों के अनुसार जनवरी तक अफीम के पौधों की ऊंचाई ढाई से 3 फीट तक हो जाती है। इस बार पौधों की ऊंचाई लगभग एक से डेढ़ फीट ही है। फसल में काेरिया संक्रमण के वायरस का प्रकोप होने से पत्ते पीले होकर सड़ रहे हैं। धुंधड़का के किसान रमेश प्रजापत ने बताया कि हर साल की तुलना में इस बार दवाई स्प्रे बहुत ज्यादा करना पड़ रहा है। उसके बाद भी बीमारियों पर कंट्रोल नहीं हो रहा है। ना तो अफीम का पौधा ग्रोथ कर रहा है और ना ही उसमें पीलापन खत्म हो रहा है। लगातार पत्ते पीले पड़ने के बाद सूख गए हैं जिसके कारण कई पौधे नष्ट हो चुके हैं।

ज्यादा ठंड से कोरिया व काली मस्सी का प्रकोप, नियंत्रण जरूरी
उद्यानिकी महाविद्यालय के वैज्ञानिक डॉ. आर.एस. चुंडावत ने बताया कि अफीम फसल में अभी काेरिया व काली मस्सी का प्रकोप देखने को मिला है। ज्यादा ठंड गिरने से ऐसे हालात बन रहे हैं। किसानों के लिए सलाह है कि रोग से ग्रसित पौधों को उखाड़कर जमीन में गाड़ दें। रोगों के नियंत्रण के लिए क्रेलेक्सजिल या रेडोमिल दवाइयों का छिड़काव करें। इनकी मात्रा 2 ग्राम प्रति लीटर पानी के हिसाब से ग्रसित फसल पर छिड़काव करें। निंबाखेड़ी के गोवर्धनलाल ने बताया कि 4 वर्ष पहले एक ऐसा ही वायरस अफीम फसल में आया था। इसके कारण कई किसानों ने अफीम में चीरा भी नहीं लगाया था।
जिले में 14500 पट्टाधारी किसान- आकोदड़ा के पूर्व अफीम मुखिया नबीनूर मंसूरी ने बताया कि पाले की वजह से पहले 10 प्रतिशत फसल खराब हो गई थी। अब बीमारी ज्यादा होने से 20 प्रतिशत और खराब हो जाएगी। जिले में करीब 14 हजार 500 पट्टाधारी किसान हैं। इनके पास 12, 10 और 6 आरी के पट्टे हैं। अफीम में चीरा नहीं लगने की स्थिति में नुकसानी का अावेदन देकर हंकवाना पड़ता है।

नपा ने की अलाव की व्यवस्था : ठंड का असर तेज होने पर नगरपालिका ने इससे बचाव के लिए सार्वजनिक स्थानों व सभी रैन बसेरों पर अलाव की व्यवस्था की है। इसमें नपा ने दोनों बस स्टैंड, गांधी चौराहा, घंटाघर सहित कई जगह अलाव के लिए जलाऊ लकड़ियां उपलब्ध कराईं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- किसी भी लक्ष्य को अपने परिश्रम द्वारा हासिल करने में सक्षम रहेंगे। तथा ऊर्जा और आत्मविश्वास से परिपूर्ण दिन व्यतीत होगा। किसी शुभचिंतक का आशीर्वाद तथा शुभकामनाएं आपके लिए वरदान साबित होंगी। ...

    और पढ़ें