पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोरोना संक्रमण:मार्च के 330 पॉजिटिव में से 225 शहर के ही, नहीं लगी रोक तो बिगड़ेगी स्थिति

मंदसौरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिला अस्पताल में 136 बेड आरक्षित, इतने ही एक्टिव केस, अभी 60 ही भर्ती हैं

जिले में कोरोना संक्रमण तेज हो रहा है। इस माह 28 मार्च की सुबह तक करीब 330 कोरोना मरीज सामने आ चुके हैं। इसमें से करीब 70 फीसदी (करीब 225) मरीज अकेले मंदसौर शहर व आसपास के गांव में मिले हैं। मात्र 30 फीसदी मरीज जिले के अन्य गांव व ब्लॉक में मिले हैं। यह कोरोना शुरू वाली स्थिति बन रहा है। इधर, जिला प्रशासन संसाधन व व्यवस्था उस तरह से नहीं जुटा पा रहा है जिस तरह कोरोना शुरू में की थी। वर्तमान में जिला अस्पताल में 136 बेड कोरोना के लिए आरक्षित किए लेकिन इसके लिए मेडिकल व आर्थो वार्ड बंद करना पड़े। यही स्थिति रही को करोना मरीजों के लिए जिला प्रशासन के पास जगह नहीं बचेगी।

जिले में कोरोना संक्रमण प्रशासन के बस के बाहर हो चुका है। पूर्व में काेरोना को संभालने के लिए जिला प्रशासन ने कई जगह कोविड केयर सेंटर शुरू किए थे। शहर के जीएनएमटीसी सेंटर पर ही 200 से अधिक मरीजों की व्यवस्था थी। वहीं कई निजी चिकित्सकों की सेवाएं भी ली गईं। वर्तमान में जिला प्रशासन केवल जिला अस्पताल में ही कोरोना मरीजों की व्यवस्था कर रहा है। मेडिकल वार्ड व आर्थो वार्ड को कोविड केयर सेंटर में मर्ज कर लिया है। इसके बाद भी जिला अस्पताल प्रबंधन के पास 146 बेड की व्यवस्था है। इसमें से अभी 10 बेड मेडिकल मरीजों के लिए आरक्षित हैं। यानी कुल 136 बेड कोरोना मरीजों के लिए रिजर्व हैं। वर्तमान में 136 से अधिक एक्टिव मरीज हैं। इनमें से 60 से अधिक जिला अस्पताल में भर्ती हैं। यदि पॉजिटिव मरीजों की संख्या ऐसे ही बढ़ती रही तो जिला अस्पताल में जगह कम पड़ने लगेगी। उस समय कोरोना को कंट्रोल करना मुश्किल होगा।

जैसे मरीज बढ़ रहे उससे चिकित्सक की पड़ सकती है कमी : जिले में कोरोना मरीजों की संख्या तो बढ़ रही है लेकिन चिकित्सक वही हैं। जिला प्रशासन ने पूर्व में निजी चिकित्सकों को हायर किया था लेकिन शासन के आदेश पर उन्हें वापस भेज दिया गया। वर्तमान में नियमित चिकित्सकों के साथ मात्र 3 आयुष चिकित्सक सेवा दे रहे हैं। इन्हें कोई अवकाश व राहत नहीं मिल रही। मरीजों की संख्या बढ़ने पर चिकित्सकों की कमी का भी सामना करना होगा।

इमरजेंसी कक्ष के पास के रूम तैयार करें : कलेक्टर

कलेक्टर ने रविवार को जिला अस्पताल का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने सामान्य मरीजों के लिए इमरजेंसी कक्ष क्रमांक 9 के आसपास बंद कक्षों में मरीजों की व्यवस्था करने के निर्देश दिए। इससे गंभीर मरीजों को कुछ समय सही चिकित्सक की निगरानी में रखा जा सके। वहीं आर्थो वार्ड के पास भोजनशाला में अस्थायी पार्टिशन करने को कहा। साथ ही भोजन वितरण करने वालों को पीपीई किट पहनने की समझाइश दी।

स्थिति देख मरीजों की व्यवस्था की जाएगी

^शासन ने जिला अस्पताल को ही कोरोना के लिए तैयार करने को कहा। शासन के निर्देश पर काम किया जा रहा है। जरूरत हुई तो स्थिति देख मरीजों की व्यवस्था की जाएगी।

मनोज पुष्प, कलेक्टर, मंदसौर

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- वर्तमान परिस्थितियों को समझते हुए भविष्य संबंधी योजनाओं पर कुछ विचार विमर्श करेंगे। तथा परिवार में चल रही अव्यवस्था को भी दूर करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण नियम बनाएंगे और आप काफी हद तक इन कार्य...

    और पढ़ें