सीएम हेल्पलाइन:6000 शिकायतें थीं पेंडिंग, निराकरण कर प्रदेश में तीसरे स्थान पर पहुंचा पंचायत व ग्रामीण विकास विभाग

मंदसौर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नगरपालिका ने कोर्ट परिसर में अतिक्रमण हटाते हुए शिकायत का निराकरण किया। - Dainik Bhaskar
नगरपालिका ने कोर्ट परिसर में अतिक्रमण हटाते हुए शिकायत का निराकरण किया।
  • कार्रवाई की तलवार लटकी ताे 4 दिन में 2090 शिकायतें निपटा दीं

कोरोना के बाद से ही सामान्य प्रशासनिक कार्य प्रभावित हो रहे हैं। इसमें सीएम हेल्पलाइन में भी लगातार पेंडेंसी चल रही थी। निर्देश के बाद भी निराकरण नहीं होने पर कलेक्टर ने जिले के 36 अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए प्रस्ताव कमिश्नर को भेज दिए। इसके बाद पूरा अमला शिकायताें के निराकरण में लग गया। स्थिति यह है कि 4 दिन में विभागों ने 2090 शिकायतों का निराकरण कर दिया। मंदसौर नगरपालिका ने भी अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई की। इसके साथ शिकायत निराकरण में पंचायत व ग्रामीण विकास विभाग प्रदेश में तीसरे नंबर पर आ गया है।

कोरोना की दूसरी लहर के दौरान संपूर्ण प्रशासनिक अमला रोकथाम के कार्यों में लगा था जिससे विभाग के अन्य कार्य प्रभावित हो रहे थे। इनमें सीएम हेल्पलाइन की शिकायतें भी प्रमुख थीं। संक्रमण कम होने के बाद भी विभाग के जिम्मेदारों ने शिकायतों के निराकरण में विशेष रुचि नहीं दिखाई। 11 अगस्त को कलेक्टर ने समीक्षा बैठक ली तो जिले में करीब 6000 से अधिक शिकायतें लंबित निकलीं। कलेक्टर मनोज पुष्प व जिला पंचायत सीईओ सत्यम कुमार ने सभी विभाग प्रमुखों को शिकायतों के निराकरण के दैनिक लक्ष्य दिए। इसके बाद भी अधिकारियों ने गंभीरता से नहीं लिया। 17 अगस्त को भी समीक्षा में विशेष प्रोग्रेस नहीं दिखी तो कलेक्टर ने 24 से अधिक अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई के प्रस्ताव कमिश्नर को भेज दिया। इस पर सभी अधिकारियों की नींद खुली व हर विभाग का अधिकारी-कर्मचारी शिकायत निराकरण में लग गया। चार दिन में जिले के 2090 शिकायतों का निराकरण कर दिया। यही नहीं कुछ विभाग ताे प्रदेश में टॉप 5 में पहुंच गए। वहीं निराकरण के मामले में मंदसौर जिला प्रदेश में 72.35 वेटेज अंक के साथ 13वें स्थान पर है।

ग्रामीण विकास विभाग ने 300 से ज्यादा शिकायतें निपटाईं

जिला पंचायत सीईओ कुमार सत्यम के निर्देशन में ग्रामीण विकास विभाग की शिकायतों के निराकरण में उत्कृष्ट कार्य किया गया। इसमें परिणाम स्वरूप प्रदेश में तीसरे स्थान पर ए ग्रेड (87.15%) के साथ जिला पंचायत का नाम आया है। प्रथम बार यह रैंक प्राप्त की गई है। विभाग ने चार दिन 300 से ज्यादा शिकायतों का निराकरण किया।

हड़ताल के बाद भी 570 का निराकरण

जमीनी अमले के हड़ताल पर होने के बावजूद राजस्व विभाग ने 570 शिकायतों का निराकरण किया। राजस्व विभाग की जहां पूर्व में 980 से अधिक शिकायतें लंबित थीं वहीं अब 410 शेष रह गई हैं। इस दौरान पटवारियों की हड़ताल होने पर भी अन्य राजस्व कर्मचारियों एवं अधिकारियों ने तेजी से काम किया।

ए ग्रेड में लाने का प्रयास किया जाएगा

कुमार सत्यम ने बताया कि अधिकांश शिकायतें शिकायतकर्ताओं की संतुष्टि के साथ बंद कराई गई हैं। आगामी माह में जिले के हर विभाग को शत-प्रतिशत निराकरण के साथ ए ग्रेड में लाने का प्रयास किया जाएगा।

ए ग्रेड प्राप्त करने वाले विभाग : ऊर्जा विभाग, खनिज विभाग, नगरपालिका एवं निकाय, परिवहन विभाग, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग, वन विभाग एवं अन्य विभाग भी हैं। इन्होंने सीएम हेल्पलाइन में अच्छा कार्य किया।

खबरें और भी हैं...