शिवना शुद्धिकरण:दो दिनी लॉकडाउन खुलते ही लोगों ने फिर लिखे पोस्टकार्ड

मंदसाैर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लॉकडाउन खत्म होते ही सोमवार शाम को सामाजिक संगठन का पोस्टकार्ड अभियान वापस शुरू हुआ। - Dainik Bhaskar
लॉकडाउन खत्म होते ही सोमवार शाम को सामाजिक संगठन का पोस्टकार्ड अभियान वापस शुरू हुआ।
  • सामाजिक संगठन सदस्यों का अभियान गांधी चौराहा पर चला
  • कोई सुनवाई नहीं होने से लोगों में छाई निराशा

शिवना शुद्धिकरण के लिए सामाजिक संगठन द्वारा चलाए जा रहा पोस्टकार्ड अभियान लॉकडाउन के चलते बंद था। इस दौरान सदस्यों ने सीएम हेल्पलाइन पर शिकायतें दर्ज कराई थीं। सोमवार को लॉकडाउन खुलते ही सामाजिक संगठन सदस्यों का पोस्टकार्ड अभियान वापस शुरू हुआ। सोमवार को गांधी चौराहा पर तिरंगे के नीचे आम लोगाें ने शिवना शुद्धिकरण के लिए पोस्टकार्ड में अपने विचार व्यक्त किए।

जल स्त्रोतों के में गंदे नाले मिलाने से फैल रही बीमारी

महक सेठिया ने मुख्यमंत्री के नाम पोस्टकार्ड लिखते हुए कहा कि देश के अंदर जो महामारी और दु:खों का जो पहाड़ टूट रहा है वह सब भगवान का प्रकोप ही है। मानव द्वारा जल, जंगल और जानवरों के साथ बहुत ही पीड़ादाई कृत्य किया जा रहा है।

जल स्त्रोतों के में गंदे नाले मिलाने के बाद उस भगवान पशुपतिनाथ के साथ अन्याय करना भी प्रकृति को नाराज करना है। मैं मुख्यमंत्री जी से निवेदन करती हूं कि हमारे मंदसौर के अंदर शिवना की दुर्दशा आम जनता से फोन लगाकर पूछें। जनता उस दुर्दशा के बारे में आपको बता देगी। आपके द्वारा नियुक्त किए हुए विधायक- सांसद महोदय हमारी नहीं सुन रहे हैं। आप ही बताएं क्या करें। यह भी एक प्रकार की महामारी फैलाने में सहयोग कर रहे हैं।

शिवना के लिए कोई चिंता नहीं कर रहा, यह दुखद है

मैं खुशी सेठिया बड़े दु:ख के साथ मुख्यमंत्रीजी आपको शिवना के लिए लिख रही हूं। गांधी चौराहा पर मंदसौर की हृदय स्थली पर आपके द्वारा नियुक्त किए हुए दोनों जनप्रतिनिधि इस पोस्टकार्ड अभियान को विगत 1 माह से देख रहे हैं। लाेगों द्वारा लिखे जा रहे पोस्टकार्ड आपको मिल भी रहे होंगे। बिना किसी स्वार्थ के भगवान पशुपतिनाथ मां शिवना के लिए लगातार नगर के जागरूक लोग पोस्टकार्ड लिखवाकर अपनी जवाबदारी का परिचय दे रहे है। लेकिन जिनको शासन सुविधाएं दे रहा है वह आपको इससे अवगत भी नहीं करा रहे होंगे। हमें गांधी चौराहे पर बैठे पेंशनधारी व्यक्तियों से बात करके दु:ख हुआ, शिवना के लिए कोई चिंता नहीं कर रहा।

खबरें और भी हैं...