जीएम का दौरा आज:संजीत रेलवे ओवरब्रिज : 2016 में स्वीकृत, 2018 में हुआ वर्कऑर्डर, 2020 में होना था पूरा लेकिन आज भी है अधूरा

मंदसौर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
ब्रिज का निरीक्षण होने से गुरुवार को जारी रहा रंगाई  का कार्य। - Dainik Bhaskar
ब्रिज का निरीक्षण होने से गुरुवार को जारी रहा रंगाई का कार्य।

रेलवे के जीएम शुक्रवार को मंदसौर स्टेशन का निरीक्षण करेंगे जिसके चलते रेलवे अधिकारी स्टेशन व रेलवे ब्रिज पर रंगरोगन व सफाई कराते रहे। इधर, रेलवे की लापरवाही से समय सीमा खत्म होने के बाद भी संजीत ओवरब्रिज का निर्माण अधूरा है। इसके लिए डेढ़ साल पहले संजीत फाटक बंद कर दिया था। इससे 24 से अधिक गांव के हजारों लोग परेशान हो रहे हैं।

अनुबंध के अनुसार रेलवे को 2020 तक ओवरब्रिज तैयार करना था। मामले में अधिकारी जवाब तक नहीं दे पा रहे हैं। इसी तरह नीमच-रतलाम दाेहरीकरण को मंजूरी मिल गई लेकिन आज भी मंदसौर से सुवासरा व प्रतापगढ़ रेल लाइन प्रोजेक्ट को स्वीकृति का इंतजार है।

परे महाप्रबंधक आलोक कंसल शुक्रवार को मंदसौर स्टेशन व दाेहरीकरण को लेकर शिवना पर बने रेलवे ब्रिज का निरीक्षण करेंगे। इसके बाद दलौदा के लिए रवाना होंगे। जीएम आगमन के चलते रेलवे अमला दो माह से तैयारियों में लगा है लेकिन किसी ने संजीत रेलवे फाटक पर बन रहे ओवरब्रिज निर्माण को शुरू व पूरा करने पर ध्यान नहीं दिया। रेलवे निर्माण में भी सरकारी कामकाज की झलक दिखने लगी है।

रेलवे को संजीत रेलवे फाटक क्रमांक 150 को बंद करने के लिए 2016 में ओवरब्रिज निर्माण की स्वीकृति मिल गई थी। 2018 में अनुबंध कर फाेरलेन ओवरब्रिज का निर्माण शुरू करा दिया। अनुबंध के अनुसार दिसंबर 2020 तक ओवरब्रिज का निर्माण पूरा होना था लेकिन ब्रिज को बनाने में ना सेतु विकास रुचि ले रहा है ना रेलवे कोई ध्यान दे रहा है।

रेलवे ने निर्माण के चलते दो साल पहले रेलवे मार्ग भी बंद कर दिया। इससे संजीत रोड पर एक दर्जन से अधिक कॉलोनियां व 24 से अधिक गांव में रहने वाले लोग परेशान हैं। इनके पास मंदसौर शहर में आने के लिए एकमात्र गीताभवन अंडरब्रिज का मार्ग है, जहां आए दिन जाम की समस्या रहती है।

इधर, रतलाम-नीमच दाेहरीकरण स्वीकृत, मंदसौर से सुवासरा व प्रतापगढ़ रेल लाइन प्रोजेक्ट का इंतजार

जिले की जनता लंबे समय से मंजूरी की आस में - रेलवे ने रतलाम-नीमच मार्ग पर दाेहरीकरण को स्वीकृति करा लिया है। शहर व जिले की जनता लंबे समय से मंदसौर से सुवासरा रेलवे लाइन को मंजूर कराने की मांग कर रही है। इससे मंदसौर को बड़ी लाइन से जोड़ा जा सके एवं मंदसौर से सुवासरा, भानपुरा, गरोठ क्षेत्र तक रेलवे सुविधा भी मिले। इसके लिए रेलवे ने प्रस्ताव व प्रपोजल भी तैयार कर रखा है। इसके साथ मंदसौर से राजस्थान के प्रतापगढ़ तक भी रेलवे लाइन के प्रस्ताव को भी स्वीकृति का इंतजार है।

डेढ़ साल में 20 फीसदी काम ही किया - ओवरब्रिज मामले में रेलवे को पटरी के पास अपनी सीमा में करीब 40 से 50 मीटर ओवरब्रिज का निर्माण कराना है। इसके लिए डेढ़ साल पहले काम शुरू किया जबकि अब तक मात्र 20 फीसदी ही निर्माण हो पाया है। मामले में अधिकारी भी कोई जवाब नहीं दे पा रहे हैं।

अधिकारी सफाई व रंगरोगन के कार्य में लगे रहे -
जीएम के शुक्रवार दोपहर 2 से 3 बजे के बीच मंदसौर स्टेशन आने की संभावना है। निरीक्षण के साथ शिवना पर दाेहरीकरण के दौरान बनने वाले रेलवे ब्रिज के लिए भी निरीक्षण करेंगे। ऐसे में शुक्रवार को शौचालयों की सफाई, रंगरोगन व शिवना रेलवे ब्रिज पर कलर करने का काम चलता रहा। मंदसौर निरीक्षण के बाद जीएम दलौदा स्टेशन जाएंगे।

कर्मचारी कॉलोनी का करेंगे शुभारंभ दलौदा| पश्चिम रेलवे महाप्रबंधक आलोक कंसल दलाैदा में 26 नवंबर को नवनिर्मित कर्मचारी कॉलोनी का शुभारंभ व स्टेशन का निरीक्षण करेंगे। रेलवे सुविधा सहयोग समिति द्वारा दलाैदा रेल सुविधा पर चर्चा कर मांग की जाएगी।

जल्द काम शुरू कराने का प्रयास करेंगे - संजीत रेलवे फाटक पर स्टेटस में 20 फीसदी निर्माण बता रहा है। काम क्यों बंद है मामले में अधिकारियों से जानकारी लेना पड़ेगी, उसके बाद काम बंद का कारण बता पाऊंगा। अधिकारियों से जानकारी लेकर जल्द काम शुरू कराने का प्रयास करेंगे। - खेमराज मीणा, जनसंपर्क अधिकारी, रेलवे इंदौर

खबरें और भी हैं...