पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मौसम अपडेट:जिले में अब तक 28 इंच बारिश, 24 तालाब खाली, 5 हजार हेक्टेयर में सिंचाई होगी प्रभावित

मंदसौर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
शहर के नाहर सैयद तालाब में करीब 60 फीसदी पानी ही आया है। - Dainik Bhaskar
शहर के नाहर सैयद तालाब में करीब 60 फीसदी पानी ही आया है।
  • मल्हारगढ़ तहसील में 1987 एवं दलौदा में 1019 हेक्टेयर खेताें काे पानी की कमी से जूझना पड़ेगा
  • जिले की औसत बारिश 33 इंच, इससे अब भी 5 इंच पीछे
  • इसी सप्ताह अच्छी बरसात की उम्मीद

शहर सहित जिले में अब तक 28.32 इंच बारिश हो चुकी है। जिले के 31 तालाब लबालब हाे गए हैं लेकिन करीब 24 अब भी पूरी तरह से खाली हैं। इनमें पानी नहीं आया तो जिले में 5 हजार हेक्टेयर भूमि को सिंचाई के लिए पानी नहीं मिल पाएगा। इसमें मल्हारगढ़ के साैम्या तालाब से 650 हेक्टेयर ताे सीतामऊ के लदूना तालाब से 153 हेक्टेयर में सिंचाई प्रभावित होगी।

अभी की स्थिति में मल्हारगढ़ तहसील में 1987 हेक्टेयर खेताें काे पानी की कमी से जूझना पड़ेगा। अच्छी खबर यह है कि मौसम विभाग के अनुसार इस सप्ताह अच्छी बारिश के अासार हैं। इससे ये खाली तालाब भी भरने की उम्मीद है।

शहर सहित जिले में अब तक हुई बारिश गतवर्ष पूरी सीजन में हुई बारिश से 4 इंच अधिक है। हालांकि इस बार खंड बारिश (कुछ-कुछ क्षेत्रों में) अधिक हुई। इससे जिन क्षेत्रों में अच्छी बारिश हुई वहां के तालाबों व अन्य जलस्राेत में पानी आ गया। जहां पानी कम गिरा वहां तालाब आज भी खाली हैं।

जिले में जल संसाधन विभाग के पास करीब 69 तालाब हैं। इसमें से 24 तालाब में लोएस्ट सील लेवल से भी नीचे पानी है। अधिकारियों के अनुसार इससे ऊपर पानी आने पर सिंचाई के लिए कैनाल शुरू की जा सकती है। 10 तालाब ऐसे जिनमें 50 फीसदी तक पानी है।

जिले में 69 तालाब, इनमें से केवल 4 तालाबों में 51 से 99 प्रतिशत तक आया पानी

  • 24 तालाबों में अब तक नहीं आया पानी
  • 31 तालाबों में पानी 100 प्रतिशत
  • 10 तालाबों में पानी 1 से 10 प्रतिशत
  • 04 तालाबों में 51 से 99 प्रतिशत नोट : जल संसाधन से प्राप्त जानकारी

पिछले साल 17 हजार हेक्टेयर में हो पाई थी सिंचाई

पिछले साल 17 हजार हेक्टेयर में हो पाई थी सिंचाई
जिले में 5 साल में गतवर्ष औसत से करीब 10 इंच कम बारिश हुई थी। इससे कई तालाब खाली रह गए थे। इस कारण गतवर्ष जल संसाधन विभाग मात्र 17 हजार हेक्टेयर में ही सिंचाई के लिए पानी उपलब्ध करा पाया। इस बार अभी तक करीब 20 से 21 हजार हेक्टेयर की सिंचाई के लिए पानी एकत्र हो गया है।

प्रमुख बांधों की स्थिति : गांधीसागर का वाटर लेवल 1302.10 फीट

गांधीसागर
क्षमता - 1312 फीट
वर्तमान स्थिति - 1302.10 फीट

कालाभाटा
क्षमता - 21 फीट
वर्तमान भराव - 21 फीट

काका गाडगिल सागर
क्षमता - 14.5 मीटर
वर्तमान भराव - 13.7 मीटर

रेतम बैराज
क्षमता - 4 मीटर
वर्तमान भराव - 1.75 मीटर

40 फीसदी लेवल पर एक सिंचाई का पानी देते हैं- जल संसाधन विभाग के अधिकारियों के अनुसार सभी तालाब पूरी तरह लबालब होने पर जिले में करीब 25 हजार हेक्टेयर भूमि को सिंचाई के लिए 3 पानी दिया जाता है। 60 फीसदी तक पानी होने पर 2 बार एवं 40 फीसदी तक पानी होने पर एक सिंचाई का पानी दिया जाता है।

स्थिति विकट, बारिश जरूरी- वर्तमान में मल्हारगढ़ तहसील में सर्वाधिक 1987 हेक्टेयर में सिंचाई के लिए पानी नहीं मिलेगा। इसके बाद दलौदा क्षेत्र में 1019 हेक्टेयर जमीन को सिंचाई के लिए पानी नहीं मिलेगा। स्थिति विकट है और बारिश जरूरी।

अभी उम्मीद

  • जो तालाब खाली हैं उसमें पानी आने की उम्मीद है। तालाब भरा जाते हैं तो सभी को सिंचाई के लिए पानी दिया जा सकेगा। अक्टूबर में जल उपयोगिता समिति के निर्णय के अनुसार कार्य किया जाएगा -अरुण चौधरी, प्रभारी जिला अधिकारी, जल संसाधन।
खबरें और भी हैं...