पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

खतरा टला नहीं है:कोरोना से फिर की एक बुजुर्ग की मौत जिले में अब तक 71 लोग हार गए जंग

नीमचएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 13 मई से शुरू हुआ था शहर में कोरोना से मौत का सिलसिला

कोरोना संक्रमण से होने वाली मौत का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। बुधवार को फिर शहर के राज कॉलोनी निवासी 78 वर्षीय संक्रमित बुजुर्ग पूनमचंद ओंकारलाल का निधन हो गया। 26 अक्टूबर को उन्हें अस्पताल में भर्ती गया था जहां सैंपल लेने के बाद रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। इसी बीच बुधवार सुबह 7.55 बजे इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। जिनका शहर के मुक्तिधाम धाम पर कोविड गाइड लाइन अनुसार नपा की टीम ने अंतिम संस्कार किया। इसके साथ ही अब तक जिले के 71 मरीज कोरोना से जंग हार चुके है। इनमें 60 साल से ज्यादा उम्र के अधिकांश मरीजों की मौत हुई है। ऐसे में बुजुर्गों को सावधान होने की जरूरत है। कोरोना काल में अब तक के 6 माह के दौरान अधिकांश मामलों में देखा गया कि बुजुर्गों में कोरोना वायरस परिवार के ही किसी अन्य सदस्यों से फैला है। इसका मुख्य कारण है कि बुजुर्गों का रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो जाती है। ऐसे में जब कोई बाहरी संक्रमित बुजुर्गों के संपर्क में आते हैं तो उन्हें वायरस तेजी से अपने चपेट में ले लेता है। जिले में कई 13 मई से कोरोना से मौत का सिलसिला शुरू हुआ था जो लगातार जारी है। जून, जुलाई व अगस्त तक 13 लोग जंग हारे लेकिन सितंबर में तो मौत भी काफी तेज गति से हुई। इस माह 44 लोगों ने दम तोड़ा। जिनका कोविड प्रोटोकाल के तहत अंतिम संस्कार किया गया।

कोरोना के साथ अन्य बीमारी भी बनी मौत का कारण-
कोरोना से जिन लोगों की मौत हुई है उनमें से अधिकांश को ब्लड प्रेशर, किडनी, डायबिटीज या अन्य बीमारी भी थी। संक्रमित होने पर इन पुरानी बीमारियों से खतरा और बढ़ जाता है। प्रतिरोधक क्षमता कम व रिकवरी भी धीमी होती है।

इंदौर में हुई थी पहली मौत- 13 मई को जिले में कोरोना से पहली बार माैत हुई थी। इसमें शहर के मेहनोत नगर निवासी 75 वर्षीय राजेंद्र प्रधान की एएचआरसी इंदौर में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया था। जिनकी रिपोर्ट 9 मई को पॉजिटिव आई थी। इसके बाद लगातार मौतों का सिलसिला जारी है।

स्वास्थ्य विभाग के रिकॉर्ड में 37 ही मौत दर्ज- कोरोना से मरने वाले की संख्या स्वास्थ्य विभाग के रिकॉर्ड में अभी तक 37 ही दर्ज है जबकि हकीकत में 71 लोग अब तक जान गंवा चुके है। इसको लेकर प्रभारी सीएमएचओ डॉ.एमएल मालवीय का कहना है कि कई मरीजों की मौत को लेकर अभी डेथ ऑडिट रिपोर्ट समय पर नहीं मिलती है। वहीं किसी की रिपोर्ट निगेटिव आ जाती है। इसके अलावा अब अन्य राज्यों में होने वाली जिले के मरीजों की मौत को नहीं गिना जा रहा है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज व्यक्तिगत तथा पारिवारिक गतिविधियों के प्रति ज्यादा ध्यान केंद्रित रहेगा। इस समय ग्रह स्थितियां आपके लिए बेहतरीन परिस्थितियां बना रही हैं। आपको अपनी प्रतिभा व योग्यता को साबित करने का अवसर ...

और पढ़ें