पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हड़ताल से पंचायतों के कई काम ठप:पंचायतकर्मियों के बाद अन्य विभागों ने भी लंबित मांगों को लेकर शुरू किया आंदोलन

नीमच13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कलेक्टोरेट में एकत्रित होकर ज्ञापन देते समस्त विभाग के अधिकारी-कर्मचारी। - Dainik Bhaskar
कलेक्टोरेट में एकत्रित होकर ज्ञापन देते समस्त विभाग के अधिकारी-कर्मचारी।
  • नारेबाजी कर सीएम के नाम सौंपा ज्ञापन

पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के कर्मचारियों द्वारा पहले ही दो दिन से सामूहिक अवकाश लेकर हड़ताल की जा रही है वहीं अब मंगलवार से मप्र अधिकारी-कर्मचारी संयुक्त मोर्चा के बैनर तले विभिन्न विभागों के अधिकारी-कर्मचारियों ने भी लंबित मांगों को लेकर त्रिस्तरीय आंदोलन शुरू कर दिया। पहले दिन मंगलवार शाम 4.30 बजे सभी कलेक्टोरेट पहुंचे और वहां नारेबाजी कर प्रदर्शन किया। इसके बाद उन्होंने सीएम और मुख्य सचिव के नाम तहसीलदार अजय हिंगे को एक ज्ञापन सौंपा।

संयुक्त मोर्चा के राजेश पाटीदार, प्रलय उपाध्याय, शंभूलाल बंगाड़ा आदि ने बताया कि मप्र शासन द्वारा न्यायोचित मांगों का निराकरण नहीं किए जाने से चरण बद्ध आंदोलन किया जा रहा है। इसी कड़ी में नीमच इकाई द्वारा भी ज्ञापन सौंपा गया। इसके माध्यम से यह मांग की है कि कर्मचारियों को 1 जुलाई 2020 और 1 जुलाई 2021 की वेतनवृद्धि का लाभ दिया जाए। पांच प्रतिशत महंगाई भत्ता जो राज्य शासन द्वारा किया गया था, उसका भुगतान कर्मचारियों को किया जाए, गृह भाड़ा भत्ता सातवें वेतनमान अनुसार केंद्रीय कर्मचारियों के समान दिया जाए, लिपिकों एवं पटवारियों की वेतन विसंगति सुधार कर ग्रेड पे 2800 किया जाए, पंचायत सचिवों को सातवां वेतनमान दिया जाए, कर्मचारी अधिकारियों की पदोन्नति प्रारंभ की जाए सहित कई अन्य मांगे कर्मचारी संगठनों ने रखी। पदाधिकारियों ने कहा हैं कि उनकी मांगों का निराकरण नहीं होने पर वे उग्र आंदोलन करेंगे।

इधर... कल से पंचायतकर्मी कलम व कार्यालय बंद हड़ताल पर रहेंगे

दो दिन का सामूहिक अवकाश रख आंदोलन की शुरुआत करने वाले पंचायतकर्मियों की मांगों पर कोई निराकरण नहीं होने पर वे 22 जुलाई से अनिश्चितकालीन कलम और कार्यालय बंद हड़ताल करेंगे। इसके चलते जिला, जनपद और ग्राम पंचायतों की ग्रामीण विकास विभाग की योजनाएं ठप हो गईं हैं और ग्रामीण लोग परेशान हो रहे हैं।

खबरें और भी हैं...